मुख्तार अंसारीम् पंजाबात् यूपी नियिष्यति योगी सर्कारम् ! मुख्तार अंसारी को पंजाब से यूपी लाएगी योगी सरकार !

0
299

मीडिया सूत्रों के अनुसार :

पूर्वेव योगी आदित्यनाथस्य कार्यालयस्य ट्विटर हैंडल इत्येन ट्वीत कृतं अकथ्यते स्म तत दस्यु मुख्तार अंसारीस्य कलुषित सम्राज्यस्य अन्तस्य कालम् आगतवान ! सम्प्रतैव अस्य ६६ कोटि रूप्यकस्य अवैध आयस्य अधिकृतं अभवत् ! ४१ कोटि रूप्यकस्य अवैध आयस्य प्राप्तिस्य मार्गम् अवरुद्धयते ! अस्य दलस्य ९७ सहयोगिम् आरक्षकस्य अवरुद्धे सन्ति ! कार्यवाहिम् अग्रम् अपि निरन्तर्ष्यति !

पूर्व में ही योगी आदित्‍यनाथ के ऑफ‍िस के ट्व‍िटर हैंडल से ट्वीट करते हुए कहा गया था कि माफिया मुख्तार अंसारी के काले साम्राज्य के अंत का समय आ गया है ! अब तक इसकी ₹66 करोड़ की अवैध संपत्ति जब्त हो चुकी है ! ₹41 करोड़ की अवैध आय की प्राप्ति का मार्ग बंद किया जा चुका है ! इसके गिरोह के 97 साथी पुलिस की हिरासत में हैं ! कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी !

उत्तर प्रदेशे विधिस्य शासनामस्ति ! अत्रस्य शब्द कोषे अवैधम्, अनैतिकम् अराजकम् वा यथा शब्दम् मास्ति ! मुख्तार अंसारी यथा दस्यु असि कश्चितापि अन्य पातकीम् वा, योगी सर्कारम् जीरो टॉलरेंस इत्येन सह अस्य असाधु कृत्येषु यति कृतं प्रतिबद्धमस्ति ! जनभावनानां अनुरूपम् कार्यवाहिम् निरन्तर्ष्यति !

उत्तर प्रदेश में कानून का शासन है ! यहां के शब्दकोष में अवैध, अनैतिक व अराजक जैसे शब्द नहीं हैं ! मुख्तार अंसारी जैसा माफिया हो या कोई भी अन्य अपराधी, योगी सरकार जीरो टॉलरेंस के साथ इनके कुकृत्यों पर पूर्णविराम लगाने को प्रतिबद्ध है ! जनभावनाओं के अनुरूप कार्रवाई जारी रहेगी !

पातकीस्थाने अवरुद्धम् दस्यु बहुजन समाज दलस्य विधायक च् मुख्तार अंसारीस्य पीड़ाम् बर्द्धतम् दृश्यते ! विश्वासघातस्य एकम् प्रकरणे पृच्छाय २१ अक्टूबर इतम् पंजाबस्य मोहाली पातकीस्थानेन मऊ नीयतष्यति ! इयम् प्रकरण तस्य विरुद्धम् जनवरी इते आर्म्स विधिस्य अनुरूपम् पंजीकृतं कृतवान स्म !

जेल में बंद माफिया डॉन और बहुजन समाज पार्टी के विधायक मुख्तार अंसारी की मुश्किलें बढ़ती हुईं नजर आ रही है ! धोखाधड़ी के एक मामले में पूछताछ के लिए 21 अक्टूबर को पंजाब के मोहाली जेल से मऊ लाया जाएगा ! यह मामला उनके खिलाफ जनवरी में आर्म्स एक्ट के तहत दर्ज किया गया था !

मीडिया सूचनास्य अनुरूपम् मऊस्य आरक्षक अधीक्षक घुले सुशील चंद्रभान: अकथयत् वारंट बी ४१९ विश्वाघातम् ४२०, वंचना अधर्मम् च् ४६७, ४६८ घातम्, ४७१ वास्तविक वंचनम् दस्तावेजस्य रूपे, आई पी सी इत्यस्य १२०बी इति आपराधिक कुचक्र ३० आर्म्स विधिस्य च् अनुरूपम् निःसृत कृतवान !

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मऊ के पुलिस अधीक्षक घुले सुशील चंद्रभान ने कहा वारंट बी 419, धोखाधड़ी 420, धोखा और बेईमानी 467, 468 जालसाजी, 471 वास्तविक जाली दस्तावेज के रूप में, आई पी सी की 120B आपराधिक साजिश और 30 आर्म्स एक्ट के तहत जारी किया गया है !

सः बदनोति तत सीजीएम इति न्यायालयम् २१ अक्टूबर इतम् वारंट बी इते मोहाली पातकी स्थानात् मुख्तार अंसारीम् अत्र नीयतस्य आरक्षकस्य याचिका स्वीकार्यते ! योगी सर्कारम् सततं पातकीस्थाने अवरुद्ध बहुबलिनां अवैध आर्थिक साम्रज्ये भारम् भारयति !

उन्होंने बताया कि सीजेएम कोर्ट ने 21 अक्टूबर को वारंट बी पर मोहाली जेल से मुख्तार अंसारी को यहां लाने की पुलिस की याचिका स्वीकार कर ली है ! योगी सरकार लगातार जेल में बंद बाहुबलियों के अवैध आर्थिक साम्राज्य पर शिकंजा कस रही है !

वाराणसीस्य एसपी सिटी इति विकास चंद्र त्रिपाठी: अकथयत् तत मुख्तारस्य नजदीकीम् सहयोगिम् मेराज अंसारीस्य सम्पत्तिम् निग्रहस्य प्रक्रियाम् शुक्रवासरम् अशोक विहार क्षेत्रे तस्य वासस्य पार्श्व सार्वजनिक घोषणाम् कृत्वा प्रारम्भयते स्म !

वाराणसी के एसपी सिटी विकास चंद्र त्रिपाठी ने कहा कि मुख्तार के करीबी गुर्गे मेराज अंसारी की संपत्ति को जब्त करने की प्रक्रिया शुक्रवार को अशोक विहार इलाके में उसके आवास के पास सार्वजनिक घोषणा करके शुरू की गई थी !

आर्म्स लाइसेंस इति प्राप्ताय विश्वाघात कृतस्य आरोपे मेराज अंसारीस्य विरुद्धम् आईपीसी इत्यस्य धारा ४१९,४२०,४६७,४६८,४७१ इत्यस्य च् अनुरूपम् प्रकरण पंजीकृतं कृतवान प्रकरण पंजीकृतं भवस्य उपरांतेन सः लुप्तमस्ति !

आर्म्स लाइसेंस हासिल करने के लिए धोखाधड़ी करने के आरोप में मेराज अंसारी के खिलाफ आईपीसी की धारा 419, 420, 467, 468 और 471 के तहत मामला दर्ज किया है और मामला दर्ज होने के बाद से वह फरार है !

एन मध्य, लक्ष्मण नगरेन सह राज्यस्य विभिन्न जनपदेषु मुख्तारस्य कुटुम्बस्य सदस्यानि सहयोगीनां विरुद्धम् वृहद रूपे अवैध रूपेण अर्जितम् सम्पत्तिम् ध्वस्तम् अक्रियते तस्य जनैः च् कृणितुम् शस्त्र लाइसेंस इति निरस्तम् अक्रियते !

इस बीच, लखनऊ सहित राज्य के विभिन्न जिलों में मुख्तार के परिवार के सदस्यों और गुर्गों के खिलाफ बड़े पैमाने पर कार्रवाई की जा रही है ! मुख्तार द्वारा अवैध रूप से अर्जित संपत्ति को ध्वस्त कर दिया गया है और उसके लोगों द्वारा खरीदे गए शस्त्र लाइसेंस रद्द कर दिए गए हैं !

मऊ आरक्षकस्य दस्तावेजस्य अनुरूपम् २००१ तमे चत्वारि जनाः इजरायल:, अनवर:, सलीम: मोहम्मद शाहआलम: स्व आवेदन पत्रेषु अधिकृत निवास स्थानस्य उल्लेखम् कृत्वा मुख्तारस्य कथनपत्रे आधारे शस्त्र लाइसेंस इति प्राप्तकृते सफलताम् अप्राप्यते स्म !

मऊ पुलिस के रिकॉर्ड के अनुसार 2001 में चार लोगों इजरायल, अनवर, सलीम और मोहम्मद शाह आलम ने अपने आवेदन पत्रों पर फर्जी पतों का उल्लेख करके मुख्तार के सिफारिश पत्र के बल पर हथियार लाइसेंस प्राप्त करने में कामयाबी हासिल की थी !

आलमम् केचन वर्षस्य उपरांत गाजीपुरे आरक्षकेन सह प्रतिघाते हतवान स्म यद्यपि अन्यम् लुप्तम् सन्ति ! तस्य अतिरिक्त पूर्व पातकीस्थान अधिकारी दक्षिणालोला पातकीस्थान जे.के.सिंह: एकम् राजस्व अधिकारिमपि आरक्षकेन इति प्रकरणे अरोपिम् निर्मयतुम् स्म !

आलम को कुछ वर्षों के बाद गाजीपुर में पुलिस के साथ मुठभेड़ में मार गिराया था जबकि अन्य फरार हैं ! उनके अलावा पूर्व थानाधिकारी दक्षिणालोला थाना जे.के. सिंह और एक राजस्व अधिकारी भी पुलिस द्वारा इस मामले में आरोपी बनाए गए थे !

इयम् तथ्य अक्टूबर २०१९ तमे घोसी विधानसभा उपनिर्वाचन प्रक्रियास्य कालम् सम्मुखम् आगतवान स्म ! यदा मऊ पूर्ण जनपदे शस्त्र लाइसेंस इति सत्यापन आरम्भयते स्म ! अन्वेषणस्य कालम् इयम् ज्ञातम् अभवत् तत इजरायल:, अनवरः, सलीमस्य अतिरिक्त, मोहम्मद शाहआलम: अपि २००१ तमे शस्त्र लाइसेंस इत्याय आवेदनं कृतवान स्म !

ये तथ्य अक्टूबर 2019 में घोसी विधानसभा उपचुनाव प्रक्रिया के दौरान सामने आए थे ! जब मऊ जिले भर में शस्त्र लाइसेंस सत्यापन शुरू किया गया था ! जांच के दौरान यह पता चला कि इजरायल, अनवर और सलीम के अलावा, मोहम्मद शाह आलम ने भी 2001 में शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन किया था !

इयम् सुनिश्चितम् कृताय तत सर्वाणि डबल बैरल गन इत्याय लाइसेंस इति अप्राप्यत्, मुख्तार: तत्कालीन जिलाधिकारीम् स्व मऊ विधायकस्य आधारे स्व कथन पत्रेण पत्रम् अलिखत् स्म तस्य नामे च् शस्त्र लाइसेंस निर्गत कृतस्य अनुरोधम् कृतवान स्म ! मुख्तार अंसारीम् जनवरी २०१९ तमे पंजाबस्य रोपड़ पातकी स्थानम् पुनः च् मोहालीम् पातकी स्थाने स्थानान्तरितम् अक्रियते स्म !

यह सुनिश्चित करने के लिए कि सभी को डबल बैरल गन के लिए लाइसेंस मिले, मुख्तार ने तत्कालीन जिलाधिकारी को अपने मऊ विधायक की क्षमता के आधार पर अपने लेटर पैड से पत्र लिखा था और उनके नाम पर शस्त्र लाइसेंस जारी करने का अनुरोध किया था ! मुख्तार अंसारी को जनवरी 2019 में पंजाब की रोपड़ जेल और फिर मोहाली जेल में स्थानांतरित कर दिया गया था !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here