ताः बाबरीव ज्ञानवापिमपि पतिष्यन्ति, न्यायालयस्य निर्णयस्यानंतरम् रुदन्ति शिवलिंगमुत्स: ज्ञापित्वा कुर्दकाः, कथ्यन्ति, प्रतिदिनम् एक: नव व्रण: ! वो बाबरी की तरह ज्ञानवापी को भी ढहा देंगे, कोर्ट के फैसले के बाद रो रहे हैं शिवलिंग को फव्वारा बता कर कूदने वाले, कह रहे हैं, हर रोज एक नया जख्म !

0
811

ज्ञानवापी विवादिताबन्धम् गृहीत्वाद्य (१२ सितंबर) वाराणस्या: जनपद न्यायालयम् हिन्दुनां पक्षे निर्णयं प्रस्तुतम् ! न्यायालयं कथितं तत श्रृंगार गौर्या: पूजायाः संबंधे हिंदू महिलानां याचिकाम् शृणुन् योग्यमस्ति !

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे को लेकर आज (12 सितंबर) वाराणसी की जिला अदालत ने हिंदुओं के पक्ष में फैसला सुनाया ! कोर्ट ने कहा कि श्रृंगार गौरी की पूजा के संबंध में हिंदू महिलाओं की याचिका सुनने लायक है !

इति निर्णयस्यागतैव वामपंथिन: कट्टरपंथिन: वा सोशल मीडिया इत्यां रुदिष्यन्ते ! तत्रैव द्वितीयं प्रति बर्नोल इति हैशटैग ट्रेंड आगमिष्यते ! आरफा खानुम शेरवानी इति निर्णयस्यागतैव सोशल मीडिया इत्यां ट्वीट कृतवती, प्रतिदिनम् एकः नव व्रण: !

इस फैसले के आते ही वामपंथी व कट्टरपंथी सोशल मीडिया पर रोने लगे ! वहीं दूसरी ओर बर्नोल हैशटैग ट्रेंड होने लगा ! आरफा खानुम शेरवानी ने इस फैसले के आते ही सोशल मीडिया पर ट्वीट किया, हर रोज एक नया जख्म !

राजदीप सरदेसाई अलिखत्, वाराणसी न्यायालयं हिन्दुनां याचिकामह्वेयता दत्तकं अंजुमन समित्या: याचिकाम् निरस्तं कृतवान, एकमन्य धार्मिक कलह एकम् दीर्घ विवादास्पदं, विभाजनकर्ता विधिक रणतः गन्तुम् तत्परमस्ति !

राजदीप सरदेसाई ने लिखा, वाराणसी कोर्ट ने हिंदुओं की याचिका को चुनौती देने वाली अंजुमन समिति की याचिका खारिज कर दी, एक और धार्मिक विवाद एक लंबी विवादास्पद, विभाजनकारी कानूनी लड़ाई से गुजरने के लिए तैयार है !

यदा नव भारतं भविष्यं प्रति अग्रम् बर्धनीयं तदातीतं अस्माभिः भयभीतं करोति ! अस्यैव प्रकारेण न्यायालयेण खिन्न: भूत्वा अलीगढ़ मुस्लिम विश्व विद्यालयस्योपाध्यक्ष: सैयद मसूद उल हसन: क्रोध: व्यक्तन् अकथयत् !

जब न्यू इंडिया को भविष्य की ओर आगे बढ़ना चाहिए तब अतीत हमें भयभीत कर रहा है ! इसी तरह कोर्ट से नाराज होकर अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी के उपाध्यक्ष सैयद मसूद उल हसन ने गुस्सा जाहिर करते हुए कहा !

न्यायालयं गुप्तस्वरे कथवान तताग्रिम बाबरी मस्जिद ज्ञानवापी भविष्यति ! अग्रिम २० वर्षेषु त्रोटित्वा येन मन्दिरम् करिष्यते ! अतिउल्ला अंसारी अलिखत्, विश्वस्य न्यायालयं किंन मस्जिदम् मन्दिरम् सिद्धम् कृतवान !

कोर्ट ने बंद अल्फाज में कह दिया है कि अगली बाबरी मस्जिद ज्ञानवापी होगी ! अगले 20 सालों में तोड़कर इसे मंदिर बना दिया जाएगा ! अतीउल्ला अंसारी ने लिखा, दुनिया की अदालत ने भले ही मस्जिद को मंदिर साबित कर दिया !

तु अल्लाहस्य न्यायं आगतुं शेषमस्ति ! यं प्रकारम् केचन प्रयुज्यकाः भयं प्रदर्शयन्ति तत बाबरीव ज्ञानवापी अपि न पातयतु ! ज्ञापयतु तत ज्ञानवापी प्रकरणे उदारपंथिनां इमे रिएक्शन तमेव काळम् दर्शितुं लब्धति !

लेकिन अल्लाह का इंसाफ आना बाकी है ! इसी तरह कुछ यूजर डर दिखा रहे हैं कि बाबरी की तरह ज्ञानवापी भी न ढहा दी जाए ! बता दें कि ज्ञानवापी मसले पर लिबरलों का ये रिएक्शन उसी समय देखने को मिल रहा है !

यदातः वाराणसी न्यायालयं हिन्दुनां याचिकाम् स्वीकृतं मुस्लिम याचिकां निरस्तं कृतमस्ति ! यस्मात् प्रथम इस्लामवादिनां उदारपंथिनां इमे वाष्पपात तदापि आरम्भयन् स्म यदा ज्ञानवापिण: अभ्यांतरम् शिवलिंग ळब्धस्य दृढ़कथनम् हिन्दूपक्षम् कृतः आसीत् !

जब से वाराणसी कोर्ट ने हिंदुओं की याचिका को स्वीकारा और मुस्लिम याचिका खारिज की है ! इससे पहले इस्लामवादियों और लिबरलों का ये रोना तब भी शुरू हुआ था जब ज्ञानवापी के भीतर शिवलिंग मिलने का दावा हिंदू पक्ष ने किया था !

तत काळम् कट्टरपंथिन: शिवलिंगमुत्स: ज्ञापिता: आसीत् बहवः कट्टरपंथिनः च् हिन्दू आस्थायाः उपहासितुं ळब्धा: आसन् ! यस्यातिरिक्तं इदम् वार्ता अपि संमुखमागतमासीत् तत यत्रे हिन्दू पक्षम् शिवलिंगम् भूतस्त दृढ़कथनम् कृतवान तत्र इस्लाम वादिन: इयत् वर्षभिः हस्त-मुखानि प्रक्षालयन्ति स्म !

उस समय कट्टरपंथियों ने शिवलिंग को फव्वारा बता दिया था और कई कट्टरपंथी हिंदू आस्था का मजाक उड़ाते मिले थे ! इसके अलावा ये बात भी सामने आई थी कि जहाँ पर हिंदू पक्ष ने शिवलिंग होने का दावा किया है वहाँ इस्लामवादी इतने सालों से हाथ-मुँह धोते थे !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here