संपूर्णदेशे कोटि श्रद्धालु कर्तुम् शक्ष्यंते बद्रीनाथस्य केदारनाथस्य च् अंतर्जाल माध्यमेन दर्शनम् ! देशभर में करोड़ो श्रद्धालु कर सकेंगे बदरीनाथ, केदारनाथ के वर्चुअल दर्शन !

0
524

केदारनाथ धामस्य कपाट १७ मई बद्रीनाथ धामस्य कपाट च् १८ मई इतम् उदघाटिष्यतः ! कोविड इत्यस्य कारणं प्रसिद्ध चारधाम यात्राम् स्थगितं ! स्थानीय जनपदानां वासिनेवापि मंदिरेषु न गच्छितुम् शक्ष्यंते !

केदारनाथ धाम के कपाट 17 मई और बदरीनाथ धाम के कपाट 18 मई को खुल जाएंगे ! कोविड के कारण प्रसिद्ध चारधाम यात्रा स्थगित कर दी गई है ! स्थानीय जिलों के निवासी तक भी मंदिरों में नहीं जा सकेंगे !

यद्यपि संपूर्ण देशस्य लक्षानि श्रद्धालु पुनश्चपि बद्रीनाथ, केदारनाथ, यमुनोत्री गंगोत्री च् धामस्य दर्शनम् कर्तुम् शक्ष्यंते ! देवस्थानमायोग यस्मै आवश्यकं तत्परतां आरंभितुम् गच्छति !

हालांकि देश भर के लाखों श्रद्धालु फिर भी बदरीनाथ, केदारनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री धाम के दर्शन कर सकेंगे ! देवस्थानम बोर्ड इसके लिए आवश्यक तैयारी शुरू करने जा रहा है !

गढ़वालायुक्त एवं उत्तराखंड चारधाम देवस्थानं आयोगस्य मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन: बदित: तत श्रद्धालुन् अंतर्जाल माध्यमेन दर्शनमसि यस्मै वेबसाइट तथा अन्य माध्यमान् अपडेट क्रियते !

गढ़वाल आयुक्त एवं उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन ने बताया कि श्रद्धालुओं को वर्चुअल माध्यम से दर्शन हो इसके लिए वेबसाईट तथा अन्य माध्यमों को अपडेट किया जा रहा है !

चारधाम यात्रां स्थगितस्योपरांतं तीर्थ-पुरोहिताः मंदिरेषु नियमित रूपेण पूजनम् करिष्यन्ति तु श्रद्धालुन् अत्रागमनस्य आज्ञाम् नास्ति !

चारधाम यात्रा को स्थगित रखने के बावजूद तीर्थ-पुरोहित मंदिरों में नियमित रूप से पूजा-पाठ करेंगे लेकिन श्रद्धालुओं को यहां आने की इजाजत नहीं है !

उत्तराखंड सर्वकारः आधिकारिक सूचनां दत्तमानः बदित: तत इति वर्षम् चारधाम यात्राय कश्चितमपि आज्ञाम् नास्ति ! स्थानीय जनपदानां वासिनपि मंदिरेषु गन्तुम् न शक्ष्यंते ! चारधामानां श्रद्धालुन् वर्चुअल दर्शनम् हेतु देवस्थानमायोगम् अकथ्यते !

उत्तराखंड सरकार ने आधिकारिक जानकारी देते हुए बताया कि इस वर्ष चारधाम यात्रा के लिए किसी को भी अनुमति नहीं है ! स्थानीय जिलों के निवासी भी मंदिरों में नहीं जा सकेंगे ! चारों धामों के श्रद्धालुओं को वर्चुअल दर्शन हेतु देवस्थानम बोर्ड को कहा गया है !

चारधामस्य पट नियमित कालैव उदघाटिष्यन्ति देवस्थानमायोगस्य डॉ हरीश गौड़: बदित: तत चारधाम यात्राम् निरस्तं अक्रियते तु चारधामस्य पट नियमित कालैव उदघाटिष्यन्ति !

चारधाम के पट नियमित समय पर ही खुलेंगे देवस्थानम बोर्ड के डॉ हरीश गौड़ ने बताया कि चारधाम यात्रा रद्द की जा चुकी है लेकिन चारधाम के पट नियमित समय पर ही खुलेंगे !

१७ मई सोमवासरं ५ वादनम् केदारनाथ धामस्य कपाटोदघाटिष्यति ! बद्रीनाथ धामस्य कपाट १८ मई भौमवासरम् प्रातः ४ वदित्वा १५ पले अनावृतन्ति ! गंगोत्री धामस्य कपाट शनिवासरम् बैशाख शुक्ल तृतीयायाः शुभ मुहूर्ते प्रातः ७ वदित्वा ३१ पले अनावृतम् !

17 मई सोमवार को 5 बजे केदारनाथ धाम के कपाट खुलेंगे ! बदरीनाथ धाम के कपाट 18 मई मंगलवार प्रातः 4 बजकर 15 मिनट पर खुलने जा रहे हैं ! गंगोत्री धाम के कपाट शनिवार बैशाख शुक्ल तृतीया के शुभ मुहुर्त पर प्रातः 7 बजकर 31 मिनट पर खुल गये हैं !

यमुनोत्री धामस्य कपाट अक्षय तृतीयायाः अवसरे शुक्रवासरम् अभिजित मुहूर्तमनावृतैति ! तत्रैव श्रीहेमकुंड साहिब एवं श्रीलक्ष्मण मंदिरस्य कपाटानावृतस्य तिथि अद्यापि निश्चितं नाभवत् !

यमुनोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीया के अवसर पर शुक्रवार अभिजित मुहुर्त पर खोले गए ! वहीं श्री हेमकुंड साहिब एवं श्री लक्ष्मण मंदिर के कपाट खुलने की तिथि अभी निश्चित नहीं हुई है !

देवस्थानमायोग: बदित: तत सद्यः सर्वाणि आयोजनं सांकेतिक रूपेण भवति ! वर्तमाने चारधाम यात्राम् स्थगितमस्ति ! सर्वेषु आयोजनेषु कोरोना सुरक्षा मानकानां पालनम् करिष्यते !

देवस्थानम बोर्ड ने बताया कि फिलहाल सभी आयोजन सांकेतिक रूप से हो रहे है ! वर्तमान में चारधाम यात्रा स्थगित है ! सभी आयोजनों में कोरोना बचाव मानकों का पालन किया जाएगा !

मास्क धारणं,सोशल डिस्टेंसिंग, सेनिटाइजिंग, थर्मलस्क्रीनिंग तथा कोरोनानुसंधानं एसओपी इत्यस्यानुसारम् अनिवार्य क्रियते ! धामेषु पूजनेन संलग्न जनानेव गमनस्य प्रशासनेन आज्ञाम् दत्तम् !

मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग, सेनिटाईजिंग, थर्मलस्क्रीनिंग तथा कोरोना जांच को एसओपी के अनुसार अनिवार्य किया जा रहा है ! धामों में पूजापाठ से जुड़े लोगों को ही जाने की प्रशासन द्वारा अनुमति दी गयी है !

डॉ हरीश गौड़स्यानुरूपम् द्वितीय केदार मदमहेश्वर महाशयस्य कपाट २० मई तृतीय केदार तुंगनाथ महाशयस्य कपाट तथा चतुर्थ केदार रुद्रनाथ महाशयस्य कपाट १७ मई इतम् अनावृतन्ति ! इति मध्य केदारनाथ भगवतस्य पंचमुखी शिविकायाः प्रस्थानमपि केवलं केचन अच्छ जनानां उपस्थित्यामेवाभवत् !

डा हरीश गौड़ के मुताबिक द्वितीय केदार मदमहेश्वर जी के कपाट 20 मई तृतीय केदार तुंगनाथ जी के कपाट तथा चतुर्थ केदार रूद्रनाथ जी के कपाट 17 मई को खुल रहे हैं ! इस बीच केदारनाथ भगवान की पंचमुखी डोली का प्रस्थान भी केवल कुछ चुनिंदा लोगों की मौजूदगी में ही हुआ !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here