21.8 C
New Delhi

बीजेपी एमएलसी इंजीनियर अवनीश सिंह चला रहे हैं ‘टिफिन मंत्र’, खाते-बतियाते परवान चढ़ रही है रिश्ते गढ़ने की कवायद

Date:

Share post:

लखनऊ: 21वीं सदी में लोगों से रिश्ता गढ़ने का तरीका भी तब्दील हो गया दिखता है. मसलन, लखनऊ खंड से एमएलसी अवनीश कुमार सिंह ने ‘टिफिन’ के सहारे ही सरकार की उपलब्धियों को लोगों तक पहुंचाने का अभियान छेड़ दिया है. किसी सार्वजनिक पार्क में इळाके के लोगों को इकट्ठा कर खाने-बतियाने, गिले-शिकवे सुनने-सुनाने के इस अभियान में बातों-बातों में सरकार की उपलब्धियां भी लोगों तक पहुंचा दी जाती हैं. खास-बात यह कि इस दौरान टिफिन थामे लोगों का आना, साथ बैठकर सार्वजनिक लंच करना किसी स्कूल सरीखा एहसास करा देता है.

दरअसल, संघ की इस ‘सार्वजनिक भोजन रणनीति’ को भाजपा ‘टिफिन बैठक’ के रूप में गुजरात में बाकायदा आजमा चुकी है. पार्टी की जड़ें गहरी करने में इस अभियान का भी खासा योगदान रहा था. यही नहीं, लोकसभा चुनाव-2019 जीतने के लिए पार्टी ने इस संपर्क तरीके को भी आजमाया था. 2018 में ही संसदीय दल की एक बैठक में सभी सांसदों को अपने-अपने क्षेत्रों में टिफिन बैठकें करने का टास्क दिया गया था. इस दौरान कार्यकर्ताओं और आम-लोगों के बीच रहकर सांसदों को लोगों की बातें सुननी थी, पार्टी का किया-धरा पहुंचाना था और लोगों की मुश्किलों का भी यथा संभव हल तलाशना था. रूबरू होने के इस अभियान का असर भी नजर आया, मोदी दिल्ली में 2014 से भी बेहतर स्थिति में पहुंच गये और सरकार बनाई.

लखनऊ खंड से एमएलसी अवनीश कुमार सिंह भी इसी अभियान को आगे बढ़ा रहे हैं. लखनऊ, बाराबंकी, रायबरेली, सीतापुर, प्रतापगढ़, लखीमपुर-खीरी और हरदोई तक पसरे अपने समर्थकों के साथ अवनीश इसी तरीके से रिश्ता मजबूत करने में जुटे हैं. गोण्डा जिले के प्रभारी के तौर पर भी अवनीश इसी टिफिन मंत्र का जाप करने की सोच रहे हैं.

एमएलसी इंजी अवनीश कुमार सिंह बताते हैं,

“ चुनाव जीतने के बाद एक परिवर्तन आया. मिलने-मिलाने के आग्रह बढ़े, साथ-साथ लंच-डिनर के आमंत्रण भी इतने हो जाते कि चाहकर भी हर घर पहुंचना मुमकिन नहीं हो पाता. न पहुंचने पर लोगों को मायूसी होती. ऐसे में यह ‘टिफिन मंत्र’ दरअसल राम बाण ही है.”

एमएलसी अवनीश कुमार सिंह के कार्यक्रमों की प्रबंधन टीम से जुड़े शिव कांत कहते हैं,

“एमएलसी जी का क्षेत्र आठ जिलों में है. एक कोने से दूसरे तक लोगों को सुनना, आप समझ सकते हैं, आसान नहीं है. टिफिन के बहाने साथ बैठने-उठने का लम्बा वक्त मिल जा रहा है.”

अगर आप भी भाजपा को और बेहतर तरीके से समझना चाहते हैं तो 21 मार्च को आ जाइये लखनऊ के जनेश्वर मिश्र पार्क. रविवार है, गेट नम्बर 7 पर टिफिन लिए बहुत से लोग और भी आपको मिलेंगे. मन की कह लीजिए, देश-ग्राम की बेहतरी के लिए और क्या कुछ हो सकता है, समझ लीजिए, समझा दीजिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

जोधपुरस्य सर्वकारी विद्यालये हिजाब धारणे संलग्ना: छात्रा: ! जोधपुर के सरकारी स्कूल में हिजाब पहनने पर अड़ी छात्राएँ !

राजस्थानस्य जोधपुरे हिजाब इतम् गृहीत्वा प्रश्नं अभवत् ! सर्वकारी विद्यालये छात्रा: हिजाब धारणे गृहीत्वा संलग्नवत्य:, तु तेषां परिजना:...

मेलकम् दर्शनमगच्छन् हिंदू महिला: शमीम: सदरुद्दीन: चताडताम्, उदरे अकुर्वताम् पादघातम् ! मेला देखने गईं हिन्दू महिलाओं को शमीम और सदरुद्दीन ने पीटा, पेट पर...

उत्तरप्रदेशस्य फर्रुखाबाद जनपदे एकः हिंदू युवके, तस्य मातरि भगिन्यां च् घातस्य वार्ता अस्ति ! घातस्यारोपम् शमीमेण सदरुद्दीनेण च्...

हल्द्वानी हिंसायां आहूय-आहूय हिंदू वार्ताहरेषु अभवन् घातम् ! ऑपइंडिया इत्यस्य ग्राउंड सूचनायां रहस्योद्घाटनम् ! हल्द्वानी हिंसा में चुन-चुन कर हिंदू पत्रकारों पर हुआ हमला...

उत्तराखंडस्य हल्द्वानी हिंसायां उत्पातकाः आरक्षक प्रशासनस्यातिरिक्तं घटनायाः रिपोर्टिंग कुर्वन्ति हिंदू वार्ताहरानपि स्वलक्ष्यमकुर्वन् स्म ! ते आहूय-आहूय वार्ताहरेषु घातमकुर्वन्...

हल्द्वान्यां आहतानां सुश्रुषायै अग्रमागतवत् बजरंग दलम् ! हल्द्वानी में घायलों की सेवा के लिए आगे आया बजरंग दल !

हल्द्वान्यां अवैध मदरसा-मस्जिदम् न्यायालयस्य आज्ञायाः अनंतरम् प्रशासनम् धराभीम गृहीत्वा ध्वस्तकर्तुं प्राप्तवत् तु सम्मर्द: उग्राभवन् ! प्रस्तर घातमकुर्वन्, गुलिकाघातमकुर्वन्,...