34.1 C
New Delhi

हाथरस मामले को लेकर जातीय दंगे भड़काने की साजिश, सीएम योगी ने विपक्ष पर किया पलटवार

Date:

Share post:

हाथरस में छात्रा के साथ हुई घटना के बाद यूपी का यह जिला सियासी अखाड़े का केंद्र बन गया है। घटना के बाद से ही यहां तमाम नेताओं के आने-जाने का सिलसिला जारी है। मामले को विपक्षी दल अपनी राजनीतिक रोटियाँ सेकने के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं। इस वजह से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्ष पर पलटवार किया है। सीएम ने हाथरस कांड पर मचे बवाल को सियासी साजिश करार दिया है। वहीं यूपी की सुरक्षा एजेंसियों ने हाथरस कांड पर रची जा रही बड़ी साजिश का खुलासा किया है। रिपोर्ट की मानें तो हाथरस मामले को लेकर प्रदेश में सांप्रदायिक दंगे भड़काने की साजिश रची गई थी।

उत्तर प्रदेश के हाथरस में हुई घटना के बाद से लगातार विपक्ष योगी सरकार पर हमलावर है। कोई ट्विटर पर लगातार सवाल उठा रहा है, तो कई विपक्षी नेता योगी सरकार से इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। वहीं कांग्रेस ने हाथरस में हुई घटना के पीड़ित परिवार से मिलने के लिए क्या कुछ किया यह सबके सामने है। चौतरफा हो रहे विपक्ष के वार पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने पलटवार किया है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, “जिसे विकास अच्छा नहीं लग रहा, वे लोग देश में और प्रदेश में भी जातीय दंगा, सांप्रदायिक दंगा भड़काना चाहते हैं। इस दंगे की आड़ में विकास रुकेगा। इस दंगे की आड़ में उनकी रोटियाँ सेंकने के लिए उनको अवसर मिलेगा, इसलिए नए-नए षड्यंत्र करते रहते हैं।”

जातीय दंगे भड़काने की साजिश

वहीं, हाथरस मामले में योगी सरकार को भेजी गई खुफिया जांच रिपोर्ट में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। जांच एजेंसियों को योगी सरकार के खिलाफ खतरनाक साजिश के अहम सुराग मिले हैं। दरअसल, जस्टिस फॉर हाथरस जैसे सोशल मीडिया हैंडल पर कई आपत्तिजनक सामग्री आने के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने इसकी पड़ताल की, जिसमें पता चला एंटी सीएए के तर्ज पर हाथरस मामले को फैलाने की तैयारी हो रही थी। रिपोर्ट के मुताबिक यह फर्जी वेबसाइट रातों रात बनायी गयी और इसके जरिए जातीय दंगे भड़काने की साजिश रची गई थी।

क्या था मामला?

बता दें कि, हाथरस में 20 साल की छात्रा से कथित रूप से सामूहिक बलात्कार किया गया। इलाज के दौरान पीड़िता की मौत हो गई। जिसके बाद उसके शव को दिल्ली के अस्पताल से हाथरस लाया गया और रात 2 बजे उसका दाह संस्कार किया गया। इस दौरान पीड़िता के परिवार को बंद रखा गया। पीड़ित परिवार ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। जिसके बाद से लगातार योगी सरकार विपक्ष के निशाने पर है। हालांकि सीएम योगी आदित्यनाथ ने मामले में सीबीआई जांच के आदेश दे दिए हैं, और दोषियों को किसी भी हाल में न बख्शे जाने की बात कही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

फैजान:, जिशानः, फिरोज: च् एकः वृद्ध आरएसएस कार्यकर्तारं अघ्नन् ! फैजान, जीशान और फिरोज ने बुजुर्ग RSS कार्यकर्ता को मार डाला !

राजस्थानस्य देवालयं प्रति गच्छन् एकः 65 वर्षीयः वृद्धस्य वध: अकरोत् । पूर्वं मृत्युः रोगेण अभवत् इति मन्यन्ते स्म,...

हिंदू बालिका मुस्लिम बालकः च् विवाहः अवैधः मध्यप्रदेशस्य उच्चन्यायालयः ! हिंदू लड़की और मुस्लिम लड़का शादी वैध नहीं-मध्यप्रदेश हाईकोर्ट !

मध्यप्रदेशस्य उच्चन्यायालयेन उक्तम् अस्ति यत् मुस्लिम्-बालकस्य हिन्दु-बालिकायाः च विवाहः मुस्लिम्-विधिना वैधविवाहः नास्ति इति। न्यायालयेन विशेषविवाह-अधिनियमेन अन्तर्धार्मिकविवाहेभ्यः आरक्षकाणां संरक्षणस्य...

भारतं अस्माकं भ्राता अस्ति, पाकिस्तानः अस्माकं शत्रुः अस्ति-अफगानी वृद्ध: ! भारत हमारा भाई, पाकिस्तान दुश्मन-अफगानी बुजुर्ग !

सहवासिन् पाकिस्तान-देशः न केवलं भारतस्य, अपितु अफ्गानिस्तान्-देशस्य च प्रतिवेशिनी अस्ति। अफ़्घानिस्तानस्य जनाः पाकिस्तानं न रोचन्ते। अफ्गानिस्तान्-देशे भयोत्पादनस्य प्रसारकानां...

बृजभूषण शरण सिंहस्य पुत्रस्य यात्रावाहनस्य फार्च्यूनर् इत्यनेन 2 बालकाः मृताः। बृजभूषण शरण सिंह के बेटे के काफिले में शामिल फॉर्च्यूनर से कुचल कर 2...

उत्तरप्रदेशस्य कैसरगञ्ज्-नगरे भाजप-अभ्यर्थी करणभूषणसिङ्घस्य यात्रावाहनस्य फार्च्यूनर् इत्यनेन 3 बालकाः धाविताः। अस्मिन् दुर्घटनायां 2 जनाः तत्स्थाने एव मृताः, अन्ये...