24.1 C
New Delhi

चुनावों के सारे समीकरण तोड़ रहे हैं नरेन्द्र मोदी जी और योगी आदित्यनाथ जी। जनता के मन में विश्वास पैदा किया।

Date:

Share post:

  वर्ष 2014 के चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चेहरे को आगे रखते हुए भाजपा ने तीन दशक के एक मिथक को तोड़ा था कि गठबंधन राजनीति के काल में कोई पार्टी अपने दम पर बहुमत नहीं ला सकती।


उसके बाद कई चुनावों में और खासकर 2017 में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की अभूतपूर्व जीत ने ब्रांड मोदी को पूरी तरह स्थापित कर दिया ।


वर्ष 2019 के बाद 2022 में चार राज्यों में दोबारा पार्टी को सत्ता में लाकर प्रधानमंत्री मोदी ने एंटी इनकंबेंसी की जगह प्रो इनकंबैंसी की शब्दावली को मजबूती से खड़ा कर दिया।


पांच राज्यों के चुनाव नतीजों का सबसे बड़ा यही सार है कि अब चुनाव जाति के पिंजरे से बाहर आने लगा है ।


शासन, प्रशासन और विकास अब केंद्रीय भूमिका में आने लगा है।
योजनाओं की घोषणा होने के बजाय उन्हें जमीन तक पहुंचाने का काम किया जाता है ।

यह तय हो जाता है कि वोटर उसी के साथ खड़े होंगे जो युवा ,महिला और पिछड़े वर्ग के सपनों को जगा कर रख सकता है और उन्हें पूरा करने का विश्वास पैदा कर सकता है।


प्रधानमंत्री मोदी जी की छाया में भाजपा ने इसे बखूबी जमीन पर उतार रही है।


देश में फिलहाल प्रशासन के दो मॉडल सबसे लोकप्रिय हैं पहला भाजपा मॉडल और दूसरा दिल्ली मॉडल । कई मानकों पर दोनों मॉडल में कुछ समानताएं भी हैं, और कई जगह पर इनमें अंतर भी है।


एक मॉडल जिसमें नीचे तक लोगों को लाभ पहुंचाने कोशिश की जाती है, सख्त फैसले होते हैं और सुविधाओं को बढ़ाने की बात की जाती है ।


दूसरा मॉडल जिसमें मुफ्त बिजली ,मुफ्त का पानी जैसे मुद्दे जनता को भाते हैं ।


एक मॉडल कई राज्यों में लगातार विश्वास हासिल कर रहा है और दूसरा मॉडल घिसे पिटे और तौर तरीके से राहत का वादा करता है, लेकिन काम नहीं कर पाता ।


दोनों मॉडल में एक समानता होती है कि नेताओं का संवाद नीचे तक जारी रहता है ।


पंजाब में दिल्ली मॉडल ने धूम मचा दी, इसलिए दिल्ली को ही  दोहरा दिया । आम आदमी पार्टी वहां सबसे विश्वसनीय पार्टी बन गई है।


यह तौर तरीके कुछ दूसरे राज्यों में भी क्षेत्रीय दलों की ओर से अपनाए जा रहे हैं ,लेकिन एक प्रदेश के बाहर वह जनता के सपनों को नहीं जगह पा रहे हैं ।


यह चुनाव नतीजे गठबंधन की राजनीति को भी बताते हैं, ध्यान रहे कि उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी ने तीन चुनावों में गठबंधन के हर प्रयास का प्रयोग कर लिया है।


पहले कांग्रेस के साथ, फिर बहुजन समाज पार्टी के साथ और इस बार  रालोद व भाजपा को छोड़कर आए कुछ दलों के साथ।
जबकि भाजपा का साथ छोड़कर सपा में गए कई नेता भी हार गए ।


जो नेता चुनाव जिताने– हराने का दावा करते थे वे खुद हार गए । यानी गठबंधन की सफलता असफलता के मुख्य दल की विश्वसनीयता के साथ जुड़ी होती है ।


अभी भाजपा सबसे भरोसेमंद और विश्वसनीय पार्टी बन गई है और मोदी जी की छाया में प्रो इनकंबेंसी का उदाहरण।


उत्तर प्रदेश में लगातार दूसरी बार एक ही पार्टी की सरकार का उदाहरण 37 साल बाद दोहराया गया है।
इससे पहले हरियाणा भी यह दिखा चुका है। छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में भाजपा का प्रदर्शन भी कुछ ऐसा ही रहा है।


उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की बड़ी जीत के साथ साथ मणिपुर और गोवा में दोबारा सत्ता हासिल कर भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बहुत बड़ी उपलब्धि हासिल की है।


यह ऐसी उपलब्धि है जो जातिवाद से परे है, ऐसी उपलब्धि जो विकास के साथ आस्था को लेकर संवेदनशील हैं, एक ऐसी उपलब्धि जिसमें नेतृत्व किसी भी दाग से परे है और ऐसी उपलब्धि जो परिवारवाद के खिलाफ है।


मालूम हो कि 2019 के चुनाव में मुलायम सिंह यादव के कई बड़े खिलाड़ी हार गए थे और इस बार पंजाब में अकाली दल परिवार घर बैठ गया ।

Raunak Nagar
Raunak Nagar
हिन्दू हूं मुझे इसी बात पर गर्व है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

काङ्ग्रेस्-सर्वकारे हनुमान्-चालीसा इति अपराधः, शत्रवः अस्माकं जवानानां शिरः छेदयन्ति स्म-प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ! कांग्रेस सरकार में हनुमान चालीसा अपराध, दुश्मन काट कर ले जाते...

प्रधानमन्त्रिणा नरेन्द्रमोदिना मङ्गलवासरे (एप्रिल् २३,२०२४) राजस्थानस्य टोङ्क् तथा सवाई माधोपुर् इत्यत्र विशालां जनसभां सम्बोधयत्। अयं प्रदेशः पूर्व-उपमुख्यमन्त्रिणः तथा...

1.5 वर्षाणि यावत् बलात्कृतः, गर्भम् अपि पातितः, लक्की इति भूत्वा मेलयत् स्म शावेज अली ! 1.5 साल तक बलात्कार किया, गर्भ भी गिरवाया, लक्की...

उत्तराखण्ड्-राज्यस्य राजधानी डेहराडून् नगरात् लव्-जिहाद् इत्यस्य नूतनः प्रकरणः प्रकाश्यते। अत्र चावेज़् अली नामकः प्रेमजालस्य माध्यमेन तस्याः नाम परिवर्त्य...

नेहा उपरि ३० सेकेण्ड्-मध्ये १४ प्रावश्यं प्रहारिता, कण्ठस्य शिराः अकर्तयत् ! नेहा पर 30 सेकेंड में 14 बार चाकू से वार, काट डाली गले...

कर्णाटकस्य हुब्ली-नगरे फयाज इत्यनेन नेहा हीरेमठ्-इत्यस्याः छुरिकाघातेन अहनत् ! नेहा प्रकाश्यदिवसे क्रूरतया मारिता आसीत्! अधुना अस्मिन् प्रकरणे नेहा-वर्यस्य...

कांग्रेसस्य दृष्टि भ्रष्टाचारे-पीएम नरेंद्र मोदिन् ! कांग्रेस का ध्यान भ्रष्टाचार पर-पीएम नरेंद्र मोदी !

प्रधानमन्त्री नरेन्द्रमोदी कर्णाटकस्य बेङ्गळूरुनगरे जनसभां सम्बोधयति ! नादप्रभु केम्पेगौडा वर्यः बेङ्गलूरुनगरं महत् नगरं कर्तुं स्वप्नम् अपश्यत्, परन्तु काङ्ग्रेस्-सर्वकारः...