पकिस्तानस्य अंतरराष्ट्रीयावहेलनं ! ६ वर्षे संपूर्ण विश्वात् निःसृतानि ६ लक्षतः अधिकं पकिस्तानी ! पाकिस्‍तान की इंटरनेशनल बेइज्‍जती ! 6 साल में दुनियाभर से निकाले गए 6 लाख से अधिक पाकिस्‍तानी !

0
549

अवैध प्रवेशमनाधिकृत यात्राभिलेख भवेन सह विभिन्न क्षेत्राणां कारणं २०१५ तः अधुनैव १३८ देशेभ्यः ६१८८७७ पकिस्तानिन् निर्वासितं कृतानि !

अवैध प्रवेश या फर्जी यात्रा दस्तावेज होने सहित विभिन्न क्षेत्रों के कारण 2015 से अब तक 138 देशों से 6,18,877 पाकिस्तानियों को निर्वासित किया गया है !

पूर्ण आंकड़ाषु तः ७२ प्रतिशततः अधिकं तानि सप्त देशेभ्यः सन्ति, यै: पकिस्तान स्व मित्राणि कथ्यति !

कुल आंकड़ों में से 72 प्रतिशत से अधिक उन सात देशों से हैं, जिन्‍हें पाकिस्‍तान अपना मित्र कहता है !

इमानि देशानि सन्ति सऊदी अरब, ओमान, यूएई, कतर, बहरीन, ईरान, तुर्की च् ! अत्रात् सर्वातधिकम् पकिस्तानी विभिन्न कारणेभ्यः निर्वासितं भवितानि !

ये देश हैं, सऊदी अरब, ओमान, यूएई, कतर, बहरीन, ईरान और तुर्की ! यहां से सबसे अधिक पाकिस्‍तानी विभिन्‍न कारणों से निर्वासित किए गए हैं !

वार्ता अंतरराष्ट्रीयस्य एकस्य सूचनायाः अनुरूपं पकिस्तान संघीयान्वेषण संस्थानां अधिकारीणां कथनमस्ति !

न्यूज इंटरनेशनल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्‍तान संघीय जांच एजेंसी (एफआईए) के अधिकारियों का कहना है !

एतान् निर्वासितान् सम्भवतः विदेशेषु पकिस्तान उद्देश्याणामोचित समर्थनं न ळब्धुम् शक्नुतं, येन कारणात् केचन वर्षेषु निर्वासने तीव्र रूपेण वृद्धिमभवत् !

इन निर्वासितों को शायद विदेशों में पाकिस्तान मिशनों का उचित समर्थन नहीं मिल सका, जिस वजह से हाल के वर्षों में निर्वासन में खतरनाक वृद्धि हुई है !

पूर्व षड वर्षेषु पकिस्तानिन् सऊदी अरबतः औसत निर्वासनम् ३२१५९० अभवत्, यत् पूर्ण निर्वासनस्य ५२ प्रतिशतमस्ति ! यत् प्रतिदिनस्य औसतेण १४७ भवति !

पिछले छह साल में पाकिस्तानियों का सऊदी अरब से औसत निर्वासन 321,590 हो गया है, जो कुल निर्वासन का 52 प्रतिशत है ! जो प्रतिदिन के हिसाब से 147 होता है !

सऊदी अरबतः २०१५ तमे ६१ सहस्र ४०३, २०१६ तमे ५७ सहस्र ७०४, २०१७ तमे ९३ सहस्र ७३६, २०१८ तमे ५० सहस्र ९४४, २०१९ तमे ३८ सहस्र ४७० पूर्व वर्षम् च् १९ सहस्र ३३३ पकिस्तानिन् निर्वासितं कृतं स्म !

सऊदी अरब से 2015 में 61 हजार 403, 2016 में 57 हजार 704, 2017 में 93 हजार 736, 2018 में 50 हजार 944, 2019 में 38 हजार 470 और पिछले साल 19 हजार 333 पाकिस्‍तानियों को निर्वासित किया गया था !

जिओ वार्तायाः अनुसारम्, एफआईए इत्यस्य अधिकार्य: कथिता: तत विभिन्न देशानि विशेषतः सऊदी अरबस्य यूएई इत्यस्य सर्वकारै: स्वीकृतौ नव आव्रजन नीत्य: प्रवासिभिः संकटानि उत्पादितानि सन्ति !

जियो न्यूज के मुताबिक, एफआईए के अधिकारियों ने कहा कि विभिन्न देशों, खासकर सऊदी अरब और यूएई की सरकारों द्वारा अपनाई गई नई आव्रजन नीतियों ने प्रवासियों के लिए समस्याएं पैदा की हैं !

केचन प्रवासी मूल रूपे तेषामभिकर्ताभिः मानव तस्करै: निर्मितानि संदिग्धाभिलेखानामाधारे द्वितीय देशेषु प्रवेशे साफल्यं रमितानि !

कुछ प्रवासी आमतौर पर उनके एजेंटों या मानव तस्करों द्वारा तैयार किए गए संदिग्ध दस्तावेजों के आधार पर दूसरे देशों में प्रवेश पाने में कामयाब रहे !

यद्यपि केचन निर्वासित जनाः स्वावैध प्रवासं दीर्घाय ज्ञानपूर्वम् स्वाभिलेखाननुचित रूपेण धृतानि !

जबकि कुछ निर्वासित लोगों ने अपने अवैध प्रवास को लंबा करने के लिए जानबूझकर अपने दस्तावेजों को गलत तरीके से रखा !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here