33.1 C
New Delhi

कोरोना काल में त्योहारों से जुड़े आयोजनों पर होगा पुलिस का पहरा, यूपी डीजीपी ने जारी की गाइडलाइन

Date:

Share post:

कोरोना काल में आने वाले त्योहारों के लिए योगी सरकार पहले ही गाइडलाइन जारी कर चुकी है। वहीं अब यूपी पुलिस ने भी कोरोना के चलते त्योहारों में सख्ती का मन बना लिया है। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के चलते त्योहारों से जुड़े आयोजनों पर पुलिस का कड़ा पहरा होगा। कंटेनमेंट जोन में किसी भी त्योहार से जुड़ी गतिवधियों की अनुमति नहीं होगी। डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने आने वाले दिनों में नवरात्र, दुर्गापूजा, दशहरा, बारावफात, दीपावली, छठ पूजा, कार्तिक पूर्णिमा और क्रिसमस से जुड़े आयोजनों में कोविड-19 की गाइडलाइन का अनुपालन कराने के कड़े निर्देश दिए हैं। उन्होंने निर्देश दिया है कि प्रत्येक आयोजन स्थल पर कोविड-19 की गाइडलाइन और सुरक्षा उपायों के प्रचार-प्रसार के लिए पब्लिक एड्रेस सिस्टम जरूर लगाए जाएं।

डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने कहा है कि कंटेनमेंट जोन में किसी भी त्योहार से जुड़ी गतिवधियों की अनुमति नहीं होगी। धार्मिक आयोजनों को लेकर संबंधित कमेटियों व संगठनों के साथ बैठक कर सभी तैयारियां पहले ही पूरी करने का निर्देश दिया है। पुलिस अधिकारी यह सुनिश्चित कराएं कि सभी आयोजनों में शारीरिक दूरी के मानक व सुरक्षा से जुड़े अन्य उपायों का हर सूरत में पालन हो। डीजीपी ने कहा है कि आयोजक फेस कवर, मास्क, हैंड सेनेटाइजर, साबुन व सुरक्षा से जुड़े अन्य उपकरणों की पर्याप्त व्यवस्था करें।

बता दें कि त्योहारों से जुड़ी गतिविधियों, कार्यक्रमों के दौरान कोविड-19 से बचाव व नियंत्रण के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से दिशा-निर्देश जारी किये जाने के बाद 9 अक्टूबर को मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने भी इस बाबत गाइडलाइंस जारी कर दी थी। जिसमें कहा गया था कि प्रदेश में अक्टूबर से दिसंबर तक त्योहारी सीजन के दौरान कंटेनमेंट जोन में किसी भी त्योहार से जुड़ी गतिविधियों की अनुमति नहीं होगी। त्योहार से जुड़े आयोजन की सामूहिक गतिविधियां यदि किसी बंद स्थान, हॉल या कमरे में होती हैं तो उसकी निर्धारित क्षमता का 50 प्रतिशत या अधिकतम 200 व्यक्तियों को ही उसमें शामिल होने की अनुमति दी जाएगी। यदि यह गतिविधियां खुले स्थान या मैदान में होती हैं तो क्षेत्रफल के अनुसार कोविड से बचाव के प्रोटोकॉल का पालन करना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

पञ्जाबे सर्वाः जी मीडिया चैनल प्रतिबन्धिताः, एषा पत्रिका-स्वातन्त्र्यस्य उपरि आक्रमणं नास्ति वा ? पंजाब में जी मीडिया के सभी चैनल बैन, क्या यह प्रेस...

पञ्जाबे सर्वाः जी न्यूज चैनल प्रतिबन्धिताः सन्ति। चैनल तस्य घोषणा कृता अस्ति ! पञ्जाबे जी-मीडिया इत्यस्य सर्वाः चैनल...

६ जैन साध्व्यः मार्गेण गच्छन्तः आसन्, अल्ताफ् हुसैन् शेखः प्रथमं तान् अनुधावन् ततः पट्ट्या प्रहारं कृतवान् ! सड़क से गुजर रहीं थी 6 जैन...

गुजरातस्य भरूच्-नगरे, अल्ताफ् हुसैन् शेख् नामकः एकः पुरुषः मार्गे गच्छतां जैन साध्वीं आक्रान्तवान्। जैनः साध्वीं आक्रमनात् पूर्वं दीर्घकालं...

फतेहपुरस्य शिव-कवितायो: पुनः गृहागमनस्य कथा ! फतेहपुर के शिव-कविता की घरवापसी की कहानी !

उत्तरप्रदेशस्य फ़तेह्पुर्-नामकस्य उजाड़ेग्रामे, २० वर्षेभ्यः पूर्वं इस्लाम्-मतं स्वीकृत्य वञ्चितः एकः हिन्दु-दम्पती इदानीं हिन्दु-मतं प्रति प्रत्यागतः अस्ति! शिवप्रसादलोधिः, कविता...

वाहिद कुरैशी इत्यनेन मथुरायाः पञ्जाबी बाजार इत्यस्य नाम इस्लामिक बाजार इति परिवर्तितम् ! मथुरा की पंजाबी बाजार के नाम को वाहिद कुरैशी ने बदलकर...

उत्तरप्रदेशस्य मथुरा-जनपदस्य कोसिकलां ग्रामे एकः मुस्लिम्-दुकानदारः विपण्याः नाम परिवर्तितवान्। सः स्वस्य स्थानात् प्रदत्तानां वस्तूनां प्रचारसामग्रीनां च सञ्चिकासु पञ्जाबी-बजार्...