42.9 C
New Delhi

राजस्थानस्य डीगे अलभत् महाभारत कालस्य अवशेष: ! राजस्थान के डीग में मिले महाभारत काल के अवशेष !

Date:

Share post:

भारतीय-पुरातत्त्व-सर्वेक्षणेन (ए. एस्. आई.) राजस्थानस्य डीग्-जनपदस्य बहज्-ग्रामे उत्खननकाले महाभारत-कालस्य, महाजनपद-कालस्य, मौर्य-कालस्य, कुषाण-कालस्य च अवशेषाः प्राप्ताः। ग्रामे गतचतुर्मासात् उत्खननम् प्रचलति! तस्मिन् एव समये, संशोधकानाम् एकः समूहः तमिळुनाडुराज्यस्य तिरुवेन्नैलूर्-नगरस्य समीपे चोलराजस्य आदित्यकारिकलन् इत्यस्य सम्बद्धं शिलालेखम् अवाप्नोत्।

राजस्थान के डीग जिले के बहज गाँव में खोदाई के दौरान भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) को महाभारत कालीन, महाजनपद कालीन, मौर्य कालीन, कुषाण कालीन अवशेष मिले हैं ! गाँव में पिछले 4 महीने से खोदाई का काम जारी है ! वहीं, तमिलनाडु के तिरुवेन्नईलालुर के पास के पास शोधकर्ताओं की एक टीम को चोल राजा आदित्य करिकालन से जुड़ा एक शिलालेख मिला है !

ब्रजप्रदेशे स्थितस्य डीग्-जनपदस्य बहाज्-ग्रामे उत्खननकाले अस्थिभिः निर्मितानि सूच्याकाराणि उपकरणानि प्राप्तानि सन्ति। ते जयपुर-पुरातत्त्व-विभागाय प्रेषिताः सन्ति। ए. एस्. ऐ. कथयति यत् एतादृशानि अवशेषानि उपकरणानि च अद्यपर्यन्तं भारते कुत्रापि न प्राप्तानि! अद्यावधि उत्खननेषु 2500 वर्षेभ्यः अपि अधिकाः पुरातनानि अवशेषानि प्राप्तानि सन्ति!

ब्रज क्षेत्र में आने वाले डीग जिले के बहज गाँव में खोदाई के दौरान हड्डियों से बने सुई के आकार के औजार मिले हैं ! इन्हें जयपुर पुरातत्व विभाग को भेज दिया गया है ! ASI का कहना है कि इस तरह के अवशेष और औजार अब तक भारत में कहीं नहीं मिले हैं ! खोदाई में अब तक २५०० साल से भी ज्यादा पुराने अवशेष मिल चुके हैं हैं !

एतेषु अवशेषेषु महाभारत-कालस्य मृण्मयशिल्पस्य खण्डाः, यज्ञकुण्डाः, धातु-उपकरणानि, मुद्राः, अश्विनीकुमारस्य प्रतिमा, मौर्यमातृदेव्याः प्रतिमायाः शिरः, फलकानि, अस्थिभिः निर्मितानि उपकरणानि च सन्ति। महाभारतकाले अश्वनीकुमारस्य नाम द्रास्ट्रः, नास्त्यः च आसीत्। अश्विनी कुमारः नकुलस्य सहदेवस्य च पिता इति मन्यते।

इन अवशेषों में महाभारत कालीन मिट्टी के बर्तनों के टुकड़े, यज्ञ कुंड, धातु के औजार, सिक्के, अश्विनी कुमारों की मूर्ति, मौर्यकालीन मातृदेवी प्रतिमा का सिर, फलक, अस्थियों से निर्मित उपकरण और मिले हैं ! अश्विनी कुमारों का नाम महाभारत काल में द्रस्त्र और नास्त्य था ! अश्विनी कुमारों को नकुल और सहदेव का मानस पिता माना जाता है !

बहज्-ग्रामात् उत्खनने न केवलं सा. श. पू. ७०० तः पूर्वं अश्विनि-कुमारानां प्रमाणं, अपितु सहस्रवर्षपूर्वस्य यज्ञस्य, धार्मिकविधिनां च प्रमाणं प्राप्तम् इति कथ्यते। हवन्-कुण्डस्य मृत्तिका पृथक् स्थाप्यते! अयं अतीव महत्त्वपूर्णः अस्ति! हवनकुण्डात् धातु-मुद्राः अपि प्राप्ताः सन्ति।

बताया जा रहा है कि खुदाई में बहज गाँव से 700 ईसा पूर्व अश्विनी कुमारों के प्रमाण ही नहीं, बल्कि हजारों साल पहले यज्ञ, धार्मिक अनुष्ठान होने के प्रमाण भी मिले हैं ! हवन कुंड से निकली मिट्टी को अलग रखा जा रहा है ! इसका विशेष महत्व बताया जा रहा है ! हवन कुंड से धातु के सिक्के भी मिले हैं !

इतिहासकाराः मन्यन्ते यत् स्कन्दपुराणे दीग् इत्यस्य नाम दीर्घपुर इति अस्ति इति। डीग्-नगरं मथुरातः २५ मैल्-दूरे अस्ति। अस्मिन् प्रदेशे द्वापर-युगात् आरभ्य कुषाण मौर्य गुप्त मुघल कालपर्यन्तं चिह्नानि प्राप्तानि सन्ति। कुषाणराजानां हुविष्कस्य वासुदेवस्य च मुद्राः अपि अत्र प्राप्ताः।

इतिहास के जानकारों का मानना है कि डीग को स्कंद पुराण में दीर्घपुर कहा गया है ! डीग की मथुरा से 25 मील दूरी है ! द्वापर युग से लेकर कुषाण, मौर्य, गुप्त, मुगल काल तक के चिह्न इस क्षेत्र में मिल चुके हैं ! यहाँ कुषाण नरेश हुविष्क एवं वासुदेव के भी सिक्के यह से मिले हैं !

जयपुरविभागस्य अधीक्षण-पुरातत्त्वविदः डा. विनयगुप्तः अवदत् यत् अधुना प्रायः ५० वर्षाणाम् दीर्घावधेः अनन्तरं ब्रजप्रदेशे बृहदाकारस्य उत्खननम् अभवत् इति। अद्यावधि एतादृशं प्रमाणं न प्राप्तम्। सः अपि अकथयत् यत् खननकार्यं इतोऽपि कतिपयदिनानि यावत् प्रवर्तते इति! अस्मिन् काले अन्यानि अवशेषानि अपि प्राप्यन्ते!

जयपुर मंडल के अधीक्षण पुरातत्वविद डॉक्टर विनय गुप्ता ने बताया कि अब ब्रज क्षेत्र में लगभग 50 साल के लम्बे अंतराल के बाद बड़े स्तर पर खोदाई का कार्य हुआ है ! इससे पहले हुई खोदाई में इस तरह के प्रमाण नहीं मिले थे ! उन्होंने यह भी कहा कि खोदाई का काम अभी कुछ दिन और जारी रहेगा ! इस दौरान अन्य अवशेष मिलने की भी संभावना है !

तस्मिन् एव समये, तमिळुनाडुराज्यस्य तिरुवेन्नैलूर्-नगरस्य हिन्दु धार्मिक धर्मार्थ विभागस्य संशोधकाः एकं शिलालेखम् अन्विष्टवन्तः! अयं शिलालेखः चोळा-राज्ञः आदित्य-करिकालन् इत्यस्य राज्यं प्रकाशयिष्यति! तिरुवेन्नैलूर् नगरस्य समीपे इमाप्पुर्-इत्यत्र सहस्रवर्षप्राचीनस्य वेदपुरीसवरर्-देवालयस्य निरीक्षणं प्रचलति!

वहीं, तमिलनाडु के तिरुवेन्नईलालुर में हिंदू धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती विभाग के शोधकर्ताओं ने एक शिलालेख की खोज की है ! यह शिलालेख चोल राजा आदित्य करिकालन के राज्य पर प्रकाश डालेगा ! तिरुवेन्नईलालुर के पास इमप्पुर में हजारों साल पुराने वेदपुरीसावरर मंदिर का निरीक्षण का काम चल रहा है !

“सुन्दरचोळस्य पुत्रस्य, राजराजचोळस्य अनुजः च आदित्यकारिकलन् इत्यस्य शासनकालस्य शिलालेखः वयं प्राप्तवन्तः! पूर्वं तिरुवलङ्गडु-नगरे, चेन्नै-नगरे, एस्सलम्-नगरे च चेपेडु (ताम्र-शिलालेखः) प्राप्तः आसीत्! जर्मनीदेशस्य सङ्ग्रहालये रक्षितः अयं शिलालेखः पाण्ड्यराजं वीरपाण्डियन् इत्यस्य पराजयं कृत्वा तञ्जावूर्-प्रासादे तस्य शिरः स्थापितवान् इति उल्लिखति।

टीम के सदस्य रमेश ने कहा, हमें सुंदर चोल के बेटे और राजा राजा चोल के छोटे भाई आदित्य करिकालन के शासन काल का एक शिलालेख मिला है ! इसके पहले चेपेडु (ताँबा शिलालेख) तिरुवलंगाडु, चेन्नई और एसलाम में पाया गया था ! जर्मनी के एक संग्रहालय में रखे इस शिलालेख में पांडियन राजा वीरपांडियन को हराने और तंजौर के महल में उसका सिर रखने के उनके कृत्य का उल्लेख है !

विल्लुपुरम्-प्रदेशेषु स्वस्य शिलालेखानां उपस्थितिं विवृत्य सः इतोऽपि अवदत् यत्, “सुन्दरचोळा तोण्डैमण्डलं, तिरुमुनैपाडी च प्रदेशान् करिकालन् इत्यस्य शासनार्थं न्ययोजयत्! वयं पूर्वं पेरङ्गियूर् तिरुमुण्डीस्वरम् इत्यत्र शिलालेखाः अन्विष्टवन्तः, अधुना अयं नूतनः आविष्कारः अस्माकं अवबोधं वर्धयितुं साहाय्यं करिष्यति!

विल्लुपुरम क्षेत्रों में उनके शिलालेखों की उपस्थिति के बारे में बताते हुए उन्होंने आगे कहा, सुंदर चोल ने थोंडाईमंडलम और थिरुमुनैपडी क्षेत्रों को करिकालन के शासन को सौंपा ! हमने पहले पेरंगियूर और तिरुमुंडीश्वरम में शिलालेख खोजे हैं और अब यह हालिया खोज हमारी समझ को बढ़ाने में मदद करेगी !

ईमाप्पुर् इत्यत्र प्राप्तस्य नूतनस्य शिलालेखानां विवरणं कृत्वा रमेशः अवदत् यत्, “एषा स्वस्तिः श्री वीरपाण्डियन् तलाय् कोण्ड कोप्परा केसरि इत्यनेन आरभ्य सा. श. ९६० तमात् वर्षात् आरभ्यते! अस्मिन् प्रदेशे देशस्य इमाप्पेर्-नट्टु-इमाप्पेर्-तिरुमुनैपाडी इति उल्लेखः अस्ति, यत् तस्य मुख्यालयः आसीत्। कालान्तरे इदं इमापुर्-रूपेण विकसितम् अभवत् !

एमाप्पुर में पाए गए नए शिलालेख के बारे में बताते हुए रमेश ने कहा, यह स्वस्ति श्री वीरपांडियन थलाई कोंडा कोप्पारा केसरी से शुरू होता है और 960 ईस्वी का है ! इसमें इस क्षेत्र का उल्लेख एमाप्पेरुर नट्टू एमाप्पेरुर देश के थिरुमुनैपडी के रूप में वर्णित है, जो इसका मुख्यालय था ! समय के साथ यह एमाप्पुर में विकसित हुआ !

एकस्मिन् मेषपालकेन मन्दिरे तिरुवल्लन्दुरै अज़्वर् इत्यस्य कृते नन्दविलक्कु (तैलदीपः) इत्यस्य रक्षणार्थं ९६ शलाकानां योगदानं दत्तम् आसीत्, यत् सूर्य-चन्द्रयोः अस्तित्वपर्यन्तं प्रचलिता परम्परां प्रतिबिम्बयति! एतानि शलाकानि मन्दिरस्य न्यासधारिणं पान्-मेगेश्वर् इत्यस्मै दत्तानि।

उन्होंने आगे कह, एक चरवाहे ने मंदिर में तिरुवलंदुरई अजवार के लिए नंदा विलाक्कु (एक तेल का दीपक) को बनाए रखने के लिए 96 बकरियों का योगदान दिया था, जो सूर्य और चंद्रमा के अस्तित्व तक चलने वाली परंपरा को दर्शाता है ! इन बकरियों को मंदिर के ट्रस्टी पान मेगेश्वर को सौंप दिया गया था !

साभार-ऑपइंडिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

पाणिग्रहणस्य कुचक्रम् दत्वा भोपालतः केरलम् नयवान्, इस्लाम स्वीकरणस्य भारम् कर्तुम् अरभत् ! शादी का झाँसा दे भोपाल से केरल ले गया, इस्लाम कबूलने का...

मध्यप्रदेशस्य राजधानी भोपाल्-नगरस्य एका हिन्दु-बालिका विवाहस्य प्रलोभनेन राजा खान् इत्यनेन केरल-राज्यं नीतवती। कथितरूपेण, इस्लाम्-मतं स्वीकृत्य कल्मा-ग्रन्थं पठितुं दबावः...

कमल् भूत्वा, कामिल् एकः हिन्दु-बालिकाम् वशीकृतवान्, ततः एकवर्षं यावत् तां ब्ल्याक्मेल् कृत्वा यौनशोषणम् अकरोत्! कमल बनकर कामिल ने हिंदू लड़की को फँसाया, फिर ब्लैकमेल...

उत्तरप्रदेशस्य मुज़फ़्फ़र्नगर्-नगरस्य कामिल् नामकः मुस्लिम्-बालकः स्वस्य नाम मतं च प्रच्छन्नं कृत्वा इन्स्टाग्राम्-इत्यत्र हिन्दु-बालिकया सह मैत्रीम् अकरोत्। ततः सः...

यूरोपीय मीडिया भारतस्य विषये मिथ्या-वार्ताः प्रदर्शयन्ति-ब्रिटिश वार्ताहर: ! यूरोपीय मीडिया भारत के बारे में दिखाता है झूठी खबरें-ब्रिटिश पत्रकार !

पाश्चात्य मीडिया भारतं प्रति पक्षपाती सन्ति। सा केवलं तेभ्यः एव भारतस्य वार्ताभ्यः महत्त्वं ददति ये किंवदन्तीषु विश्वसन्ति! परन्तु,...

गुजरात सर्वकारस्यादेशानुसारं मदरसा भ्रमणार्थं शिक्षिकोपरि आक्रमणं जातम् ! गुजरात सरकार के आदेश पर मदरसे का सर्वे करने पहुँचे शिक्षक पर हमला !

गुजरात्-सर्वकारस्य आदेशात् परं अद्यात् (१८ मे २०२४) सम्पूर्णे राज्ये मद्रासा-सर्वेः आरब्धाः सन्ति। अत्रान्तरे अहमदाबाद्-नगरे मदरसा सर्वेक्षणस्य समये एकः...