23.1 C
New Delhi

‘अपनों’ के जख्म से दर्द और खौफ में ‘लाल किला’

Date:

Share post:

देश की राजधानी दिल्ली के चांदनी चौक के सामने सीना तान कर खड़े देश की शान लाल किला ने आजादी से पहले बहुत से हमले झेले होंगे, लेकिन आजादी के बाद 72वें राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस के दिन जिस तरह से ‘अपनों’ ने ही उसे कभी न मिटने वाले जख्म दिए, उससे लाल किला बुधवार को दर्द और खौफ के साये में डूबा दिखा।

किसानों की गणतंत्र दिवस के दिन राजधानी दिल्ली में ट्रैक्टर परेड में कुछ ऐसा हुआ जिसकी किसी को भी उम्मीद नहीं थी। किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान कुछ उपद्रवियों ने देश की शान लाल किले के प्राचीर से अपना झंडा फहरा दिया और लाल किले को काफी नुक्सान पहुंचाया। बुधवार को किले बाहर-भीतर कई जगह उपद्रव के निशान देखने को मिले।

लाल किले के सामने परिसर का हर कोना बर्बादी की दास्तां दिखा-सुना रहा था। यहीं पर उप्रदवियों ने लाल किले की सुरक्षा में तैनात पुलिस व अर्धसैनिक बल के जवानों पर लोहे की रॉड, तलवारव लाठी से हमला बोला था। एक तरफ पुलिस की क्षतिग्रस्त जिप्सी पलटी पड़ी थी, जो लाल किले में हुई बर्बता की दास्तां सुना रही थी।

इतना ही नहीं, लाल किले में चेंकिग व टिकट काउंटर, मेटल डिटेक्टर, मेज, पंखे, व ऑफिस पर उपद्रवियों ने जमकर उत्पात मचाया। लाल किले की व्यवस्था को पूरी तरह से तहस-नहस कर दिया। ये तो फिर से व्यवस्थित हो जाएंगे, पर लाल किला की प्राचीर के ऊपर स्थित संरक्षित गुंबद को तोड़कर उपद्रवियों ने जो नुकसान पहुंचाया है, शायद ही उसकी भरपाई हो सकेगी।

गणतंत्र दिवस के दिन हुए उपद्रव के बाद लाल किले को अब अभेद्य किले में तब्दील कर दिया गया है। साथ ही इसकी सुरक्षा में पांच हजार से अधिक जवानों की तैनाती की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

[tds_leads input_placeholder="Email address" btn_horiz_align="content-horiz-center" pp_checkbox="yes" pp_msg="SSd2ZSUyMHJlYWQlMjBhbmQlMjBhY2NlcHQlMjB0aGUlMjAlM0NhJTIwaHJlZiUzRCUyMiUyMyUyMiUzRVByaXZhY3klMjBQb2xpY3klM0MlMkZhJTNFLg==" msg_composer="success" display="column" gap="10" input_padd="eyJhbGwiOiIxNXB4IDEwcHgiLCJsYW5kc2NhcGUiOiIxMnB4IDhweCIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCA2cHgifQ==" input_border="1" btn_text="I want in" btn_tdicon="tdc-font-tdmp tdc-font-tdmp-arrow-right" btn_icon_size="eyJhbGwiOiIxOSIsImxhbmRzY2FwZSI6IjE3IiwicG9ydHJhaXQiOiIxNSJ9" btn_icon_space="eyJhbGwiOiI1IiwicG9ydHJhaXQiOiIzIn0=" btn_radius="0" input_radius="0" f_msg_font_family="521" f_msg_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsInBvcnRyYWl0IjoiMTIifQ==" f_msg_font_weight="400" f_msg_font_line_height="1.4" f_input_font_family="521" f_input_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEzIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMiJ9" f_input_font_line_height="1.2" f_btn_font_family="521" f_input_font_weight="500" f_btn_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_btn_font_line_height="1.2" f_btn_font_weight="600" f_pp_font_family="521" f_pp_font_size="eyJhbGwiOiIxMiIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_pp_font_line_height="1.2" pp_check_color="#000000" pp_check_color_a="#309b65" pp_check_color_a_h="#4cb577" f_btn_font_transform="uppercase" tdc_css="eyJhbGwiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjQwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGUiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjMwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGVfbWF4X3dpZHRoIjoxMTQwLCJsYW5kc2NhcGVfbWluX3dpZHRoIjoxMDE5LCJwb3J0cmFpdCI6eyJtYXJnaW4tYm90dG9tIjoiMjUiLCJkaXNwbGF5IjoiIn0sInBvcnRyYWl0X21heF93aWR0aCI6MTAxOCwicG9ydHJhaXRfbWluX3dpZHRoIjo3Njh9" msg_succ_radius="0" btn_bg="#309b65" btn_bg_h="#4cb577" title_space="eyJwb3J0cmFpdCI6IjEyIiwibGFuZHNjYXBlIjoiMTQiLCJhbGwiOiIwIn0=" msg_space="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIwIDAgMTJweCJ9" btn_padd="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIxMiIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCJ9" msg_padd="eyJwb3J0cmFpdCI6IjZweCAxMHB4In0=" msg_err_radius="0" f_btn_font_spacing="1"]
spot_img

Related articles

कैलाश पर्वतस्य चंद्रस्य च् रहस्यम् ! कैलाश पर्वत और चंद्रमा का रहस्य !

कैलाश पर्वतं एकं असिद्ध रहस्यमस्ति, कैलाश पर्वतस्य एतै: रहस्यै: नासापि विस्मित: अभवत्, कैलाश पर्वतं, अस्य ऐतिहासिक पर्वतं अद्यैव...

एकं इदृशमेव सत्यघटना यस्योत्तरमद्यैव कश्चित पार्श्व नास्ति ! एक ऐसी सत्य घटना जिसका जवाब आज तक किसी के पास नहीं है !

स्थानम्, श्री हनुमान गढ़ी मंदिरमयोध्या ! काळं, वर्ष १९९८ तमस्यैकं अघोषित दिवसं ! मंदिरम् परिसरे स्थापितं शीतजलस्य मशीन...

बिहारे भयातंकस्य च् द्वितीय नाम पप्पू यादव: ! बिहार में भय और आतंक का दूसरा नाम पप्पू यादव !

पप्पू यादवस्य जन्म मधेपुरा जनपदे १९६७ तमे अभवत् स्म, १९९० तमे निर्दलीय विधायक: भूत्वागतवान् स्म ! पप्पू यादवस्य...

तमिल संस्कृतिमग्रम् बर्धयति पीएम मोदिन्-अधीनमस्य त्रिनवति अधिकं द्वयशतानि महंत: ! तमिल संस्कृति को आगे बढ़ा रहे PM मोदी-अधीनम के 293वें महंत !

मदुरै अधीनमस्य प्रमुख महंत: नव संसद भवनस्योद्घाटने तमिल संस्कृतिमग्रम् बर्धनाय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदिम् धन्यवाद: दत्तवान् ! मदुरै अधीनम के...