21.8 C
New Delhi

गुप्तमार्गेण अवैधप्रवेशस्य प्रयत्नम् करोति अतंकिम्-सैन्यप्रमुख: एमएम नरवणे: ! सुरंगों के द्वारा घुसपैठ की कोशिश कर रहे आतंकी- सेना प्रमुख एमएम नरवणे !

Date:

Share post:

फोटो साभार ANI

पूर्वी लद्दाखे वास्तविक नियंत्रण रेखायाम् चिनेन कलहम् पश्चिमे च् पकिस्तानेन अतंकिम् अवैधप्रवेशस्य संकटानां मध्य सैन्यप्रमुखः एमएम नरवणे: अचेतयत् तत आतंकम् सम्प्रति अपि एकम् वृहद संकटम् निर्मिताभवत् !

पूर्वी लद्दाख में वास्‍तविक नियंत्रण रेखा पर चीन से तनाव और पश्चिम में पाकिस्तान से आतंकी घुसपैठ के खतरों के बीच सेना प्रमुख एमएम नरवणे ने चेताया कि आतंकवाद अब भी एक बड़ा खतरा बना हुआ है !

सः अयमपि अकथयत् तत अतंकिम् हिमपातेन पूर्व सम्प्रति च् गुप्तमार्गैरपि अवैधप्रवेशस्य प्रयत्नम् कुर्वन्ति,येन गृहित्वा विशेषं सतर्कता कृतस्य आवाश्यक्तामस्ति ! अस्माकं पश्चिमी सीमायाम् यत् स्थितिमस्ति !

उन्‍होंने यह भी कहा कि आतंकी बर्फबारी से पहले और अब सुरंगों के जरिये भी घुसपैठ की कोशिश कर रहे हैं, जिसे लेकर विशेष सतर्कता बरतने की जरूरत है ! हमारी पश्चिमी सीमा पर जो हालात हैं !

तेन पश्यतः स्पष्टमस्ति तत आतंकम् एकम् गम्भीर्य संकटम् निर्मिताभवत् अयम् सर्वाणि प्रयत्नानां उपरांत समाप्तम् न भव्यते ! अतंकिम् जम्मू-कश्मीरे अवैधप्रवेशस्य प्रयत्ने संलग्नास्ति, तदापि सामान्य लोकतांत्रिक प्रक्रियानि बाधित कृताशक्नुते !

उसे देखते हुए स्‍पष्‍ट है कि आतंकवाद एक गंभीर खतरा बना हुआ है और यह सभी प्रयासों के बावजूद समाप्त नहीं हो रहा है ! आतंकी जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ करने की कोशिश में लगे हैं, ताकि सामान्य लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को बाधित किया जा सके !

शरदानां आरम्भेण सह अवैधप्रवेशस्य प्रयत्नम् बर्ध्यते ! अतंकिम् सर्द हिमपातस्य वा कारणम् विभिन्न दर्रानां व मार्गाणां अवरुद्ध भवेन पूर्वम् अवैधप्रवेशस्य प्रयत्ने सन्ति ! इयम् कारणमस्ति तत ते दक्षिण प्रति बर्ध्यन्ति सम्प्रति च् निम्न क्षेत्रेषु गुप्त मार्गाणां माध्यमेन अंतरराष्ट्रीय सीमायाम् पारम् कृत अवैधप्रवेशस्य प्रयत्नम् कुर्वन्ति !

सर्दियों की शुरुआत के साथ घुसपैठ की कोशिश बढ़ गई है ! आतंकी ठंड व बर्फबारी के कारण विभिन्‍न दर्रों व मार्गों के बंद हो जाने से पहले घुसपैठ की कोशिश में हैं ! यही वजह है कि वे दक्षिण की तरफ बढ़ रहे हैं और अब निचले क्षेत्रों में सुरंगों के माध्यम से अंतरराष्‍ट्रीय सीमा पार कर घुसपैठ करने का प्रयास कर रहे हैं !

अत्र उल्लेखनियमस्ति तत सुरक्षा शक्तिनि जम्मू-कश्मीरस्य सांबा जनपदे एकम् गुप्तमर्गस्य ज्ञायते स्म ! बीएसएफ इत्यस्य वरिष्ट पदाधिकारी आशंकाम् व्यक्तयते स्म !

यहां उल्‍लेखनीय है कि सुरक्षा बलों ने जम्मू-कश्मीर के सांबा जिले में एक सुरंग का पता लगाया था ! बीएसएफ के वरिष्ट पदाधिकारी ने आशंका जताई थी !

नगरोटायाम् शीघ्रेवे अहन्यत् जैश-ए-मोहम्मद इत्यस्य अतंकिम् संभवतः इत्येव गुप्तमार्गेण भारतीय क्षेत्रे प्रवेश्यते स्म ! अस्य लम्बनम् ३०-४० मीटर इति बदनोत्ये,यत् सांबा जनपदे पकिस्तानेन संलग्नम् अंतरराष्ट्रीय सीमायाः पार्श्वासीत् !

नगरोटा में हाल ही में मारे गए जैश-ए-मोहम्‍मद के आतंकी संभवत: इसी सुरंग के जरिये भारतीय क्षेत्र में दाखिल हो गए थे ! इसकी लंबाई 30-40 मीटर बताई जा रही है, जो सांबा जिले में पाकिस्तान से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास था !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

जोधपुरस्य सर्वकारी विद्यालये हिजाब धारणे संलग्ना: छात्रा: ! जोधपुर के सरकारी स्कूल में हिजाब पहनने पर अड़ी छात्राएँ !

राजस्थानस्य जोधपुरे हिजाब इतम् गृहीत्वा प्रश्नं अभवत् ! सर्वकारी विद्यालये छात्रा: हिजाब धारणे गृहीत्वा संलग्नवत्य:, तु तेषां परिजना:...

मेलकम् दर्शनमगच्छन् हिंदू महिला: शमीम: सदरुद्दीन: चताडताम्, उदरे अकुर्वताम् पादघातम् ! मेला देखने गईं हिन्दू महिलाओं को शमीम और सदरुद्दीन ने पीटा, पेट पर...

उत्तरप्रदेशस्य फर्रुखाबाद जनपदे एकः हिंदू युवके, तस्य मातरि भगिन्यां च् घातस्य वार्ता अस्ति ! घातस्यारोपम् शमीमेण सदरुद्दीनेण च्...

हल्द्वानी हिंसायां आहूय-आहूय हिंदू वार्ताहरेषु अभवन् घातम् ! ऑपइंडिया इत्यस्य ग्राउंड सूचनायां रहस्योद्घाटनम् ! हल्द्वानी हिंसा में चुन-चुन कर हिंदू पत्रकारों पर हुआ हमला...

उत्तराखंडस्य हल्द्वानी हिंसायां उत्पातकाः आरक्षक प्रशासनस्यातिरिक्तं घटनायाः रिपोर्टिंग कुर्वन्ति हिंदू वार्ताहरानपि स्वलक्ष्यमकुर्वन् स्म ! ते आहूय-आहूय वार्ताहरेषु घातमकुर्वन्...

हल्द्वान्यां आहतानां सुश्रुषायै अग्रमागतवत् बजरंग दलम् ! हल्द्वानी में घायलों की सेवा के लिए आगे आया बजरंग दल !

हल्द्वान्यां अवैध मदरसा-मस्जिदम् न्यायालयस्य आज्ञायाः अनंतरम् प्रशासनम् धराभीम गृहीत्वा ध्वस्तकर्तुं प्राप्तवत् तु सम्मर्द: उग्राभवन् ! प्रस्तर घातमकुर्वन्, गुलिकाघातमकुर्वन्,...