33.1 C
New Delhi

Sunita Raipandit

Exclusive Content

spot_img

कश्मीरी हिंदुओं की दर्द बयान करता यह कश्मीरी गजल ।

वखुत बदल्यव लुकन अनहार बदलुयतु वरतावस अंदर व्यवहार बदलुय तवॉरीखस लेछुख बॅल्य भाग्य त्वहमथकलमकारन ति ज़ॉती कार बदलुय।। बुथ्यन छुन त्राम यिथु गोमुत वनय क्याअछन मंज़...