32.1 C
New Delhi

एकम् वर्षमेव कृषि विधेयकानि निलंबितम् तत्पर: सरकारः ! एक साल तक कृषि कानूनों को निलंबित करने को तैयार सरकार !

Date:

Share post:

त्रयाणि नव कृषि विधेयकानि विरुद्धम् प्रदर्शनति कृषकाणाम् सर्कारस्य च् मध्य श्व दशमानि चक्रस्य वार्तालापम् अभवताम् ! अग्र चक्रस्य वार्तालापम् २२ जनवरी इतम् भविष्यति ! सभायाम् सरकारः विधेयकानि केचन कालाय निलंबितस्तः प्रस्तावम् दत्त: !

तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों और सरकार के बीच कल 10वें दौर की बातचीत हुई ! अगले दौर की बातचीत 22 जनवरी को होगी ! बैठक में सरकार ने कानूनों को कुछ समय के लिए निलंबित करने का प्रस्ताव दिया है !

यदैव मध्यस्य मार्गम् न निस्सरयेत्,तदैव विधेयकानां निलंबनम् संचारिष्यते ! अस्यातिरिक्तम् सरकारः समूह निर्मयस्यापि प्रस्तावम् दत्त: ! कृषिमंत्री कृषकसंगठनै: अकथ्यन्,एकस्य समूहस्य गठनम् क्रियेत्, यस्मिन् कृषकः सर्कारस्य च् प्रतिनिधि असि !

जब तक बीच का रास्ता नहीं निकल जाता,तब तक कानूनों का निलंबन जारी रहेगा ! इसके अलावा सरकार ने कमेटी बनाने का भी प्रस्ताव दिया है ! कृषि मंत्री ने किसान संगठनों से कहा, एक कमेटी का गठन किया जाए,जिसमें किसान और सरकार के प्रतिनिधि हों !

समूह विधेयकेषु अनुच्छेदेव चर्चाम् कुर्यात् ! सर्वोच्च न्यायालय: २ मासेभ्यः कृषि विधेयकेषु अवरोध्यते,यदि आवश्यकतां भवति तर्हि सरकारः तस्य कार्यान्यवनाय एकम् वर्षमेव प्रतिक्षाम् कर्तुम् शक्नोति !

कमेटी कानूनों पर क्लॉज वाइज चर्चा करे ! सुप्रीम कोर्ट ने 2 महीने के लिए कृषि कानूनों पर रोक लगा दी है,अगर जरूरत पड़ती है तो सरकार उनके कार्यान्वयन के लिए एक साल तक इंतजार कर सकती है !

कृषिमंत्री कृषकसंगठनै: कथयतु तत सरकार: कृषकाणाम् ह्रदये कश्चितापि प्रकारस्य सन्देहम् द्रुतम् कर्तुम् सर्वोच्च न्यायालये एकम् सहमति पत्रम् दत्तम् तत्परास्ति !

कृषि मंत्री ने किसान संगठनों से कहा कि सरकार किसानों के मन में किसी भी तरह की शंका को दूर करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा देने को तैयार है !

सः इति वार्तायाम् बलम् दत्त: तत गुरु गोविंद सिंहस्य प्रकाशपर्वस्य अवसरे द्वयो पक्षयो सभाम् समापनेण पूर्व सामान्य सहमत्यैव प्राप्तनीय: !

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि गुरु गोविंद सिंह के प्रकाश पर्व के अवसर पर दोनों पक्षों को बैठक समाप्त होने से पहले आम सहमति तक पहुंचना चाहिए !

वार्ताया: अनंतरम् एकः कृषक नेता कथयतु, सरकारः कथयतु तत सः एकार्द्ध वर्षाय विधेयकानि निलंबितुम् तत्परास्ति ! उत्तरे कृषका: कथ्यन्तु तत विधेयकानि निलंबितस्य कश्चित कारणम् नास्ति अयम् च् स्पष्टयत: तत वयं विधेयकानि निरस्तम् कर्तुम् इच्छन्ति !

वार्ता के बाद एक किसान नेता ने कहा,सरकार ने कहा है कि वह डेढ़ साल के लिए कानूनों को निलंबित करने के लिए तैयार है ! जवाब में किसानों ने कहा कि कानूनों को निलंबित करने का कोई मतलब नहीं है और यह स्पष्ट किया है कि हम कानूनों को निरस्त करना चाहते हैं !

कृषक नेता बलबीर सिंह राजेवाल: कथयतु तत सः मह्यं विधेयकानां कार्यान्वयनम् निलंबितेन प्रति अबदत: ! अहम् तेन कथ्यानि तत ते विधिम् निरस्तं कुर्वन्तु ! श्व वयं मेलिष्यामि ! अयम् प्रथमदास्ति तत सरकारः पश्चपगैस्ति !

किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि उन्होंने हमें कानूनों के कार्यान्वयन को निलंबित करने के बारे में बताया ! हमने उनसे कहा कि वे कानून को निरस्त करें ! कल हम मिलेंगे ! यह पहली बार है कि सरकार बैकफुट पर है !

अखिल भारतीय किसान सभायाः महासचिव: हन्नान मोल्लाह: कथयतु सरकारः कथयतु तत सः एकम् एकार्द्धम् वा वर्षाय विधेयकानां कार्यान्वयनम् प्रारंभ न कर्तुम् न्यायालये एक: सहमतिपत्र: पंजीकृत: कर्तुम् तत्परास्ति !

अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव हन्नान मोल्लाह ने कहा सरकार ने कहा कि वह एक या डेढ़ साल के लिए कानूनों के कार्यान्वयन को लागू नहीं करने के लिए अदालत में एक हलफनामा दायर करने के लिए तैयार है !

सः अयमपि कथयतु तत एमएसपी इति विधेयकेषु च् एकम् समितिम् निर्मिष्यते ते च् समित्या: अनुशंसानि प्रारम्भिष्यते ! वयं श्व एकम् सभाम् करिष्याम: प्रस्तावे च् निर्णयम् ग्रहीष्याम: !

उन्होंने यह भी कहा है कि एमएसपी और कानूनों पर एक समिति बनाई जाएगी और वे समिति की सिफारिशों को लागू करेंगे ! हम कल एक बैठक करेंगे और प्रस्ताव पर निर्णय लेंगे !

वस्तुतः सरकारः स्पष्टयत: तत त्रयाणि विधेयकानि निरस्तं न करिष्यन्ते ! तत्रैव कृषकः इत्यात् न्यूने तत्परः न भवन्ति ! सरकारः विधेयकेषु संशोधनाय तत्परास्ति,तु विधेयकानि निरस्तस्य कश्चित स्थानम् नास्ति !

हालांकि सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि तीनों कानूनों को रद्द नहीं किया जाएगा ! वहीं किसान इससे कम में तैयार नहीं हो रहे हैं ! सरकार कानूनों में संशोधन करने के लिए तैयार है,लेकिन कानूनों को निरस्त करने की कोई गुंजाइश नहीं है !

केंद्रीय कृषिमंत्री नरेंद्र सिंह तोमर:,धूमयान, वाणिज्य खाद्यमंत्री च् पीयूष गोयल: केंद्रीय वाणिज्य राज्यमंत्री सोमप्रकाश: च् लगभगम् ४० कृषकसंगठनानां प्रतिनिधिभिः सह विज्ञान भवने वार्ता कुर्वन्ति !

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर,रेल,वाणिज्य और खाद्य मंत्री पीयूष गोयल तथा केंद्रीय वाणिज्य राज्य मंत्री सोमप्रकाश ने लगभग 40 किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ विज्ञान भवन में वार्ता कर रहे हैं !

दशमानि चक्रस्य वार्ता १९ जनवरी इतम् भवनीय स्म तु अयम् स्थगित: अक्रियते स्म ! केंद्र सरकारः प्रदर्शनम् कुर्वन्ति च् कृषक संगठनानां प्रतिनिधिनां मध्य नव चक्रस्य वार्तायाम् प्रकरणानि निष्पादयस्य प्रयत्नम् परिणामहीन: स्म !

दसवें दौर की वार्ता 19 जनवरी को होनी थी लेकिन यह स्थगित कर दी गई थी ! केंद्र सरकार और प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के बीच नौ दौर की वार्ता में मुद्दे को सुलझाने की कोशिश बेनतीजा रही थी !

सरकारः पूर्व वार्तायाम् कृषकसंगठनै: अनौपचारिक समूह: निर्मित्वा स्व याचनानां प्रति सरकारं एकम् प्रारूपम् प्रस्तुतम् कथयतु स्म ! वस्तुतः कृषकसंगठन: त्रयाणि कृषिविधेयकानि निरस्तस्य स्व याचनायाम् अविचलति !

सरकार ने पिछली वार्ता में किसान संगठनों से अनौपचारिक समूह बनाकर अपनी मांगों के बारे में सरकार को एक मसौदा प्रस्तुत करने को कहा था ! हालांकि किसान संगठन तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने की अपनी मांग पर अड़े रहे !

उल्लेखनियमस्ति तत सरकारः कृषकसंगठनानां च्मध्य चरति वार्तायाः मध्य उच्चतम न्यायालय: ११ जनवरी इतम् गतिरोध समापनस्य प्रयोजनेन चत्वारि सदस्यीय समित्या: गठनम् कृतवान स्म !

उल्लेखनीय है कि सरकार और किसान संगठनों के मध्य चल रही वार्ता के बीच उच्चतम न्यायालय ने 11 जनवरी को गतिरोध समाप्त करने के मकसद से चार सदस्यीय समिति का गठन किया था !

तु प्रर्दशनकारी कृषका: नियुक्त सदस्यै: पूर्वे कृषि विधेयकानि गृहित्वा धृत: रायि प्रश्नम् उत्थेत् ! अस्यानंतरम् एकः सदस्य: भूपिंदर सिंह मानः स्वयमम् इति समित्या: विरक्त अक्रियते !

लेकिन प्रदर्शनकारी किसानों ने नियुक्त सदस्यों द्वारा पूर्व में कृषि कानूनों को लेकर रखी गई राय पर सवाल उठाए ! इसके बाद एक सदस्य भूपिंदर सिंह मान ने खुद को इस समिति से अलग कर लिया है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

कन्हैया लाल तेली इत्यस्य किं ?:-सर्वोच्च न्यायालयम् ! कन्हैया लाल तेली का क्या ?:-सर्वोच्च न्यायालय !

भवतम् जून २०२२ तमस्य घटना स्मरणम् भविष्यति, यदा राजस्थानस्योदयपुरे इस्लामी कट्टरपंथिनः सौचिक: कन्हैया लाल तेली इत्यस्य शिरोच्छेदमकुर्वन् !...

१५ वर्षीया दलित अवयस्काया सह त्रीणि दिवसानि एवाकरोत् सामूहिक दुष्कर्म, पुनः इस्लामे धर्मांतरणम् बलात् च् पाणिग्रहण ! 15 साल की दलित नाबालिग के साथ...

उत्तर प्रदेशस्य ब्रह्मऋषि नगरे मुस्लिम समुदायस्य केचन युवका: एकायाः अवयस्का बालिकाया: अपहरणम् कृत्वा तया बंधने अकरोत् त्रीणि दिवसानि...

यै: मया मातु: अंतिम संस्कारे गन्तुं न अददु:, तै: अस्माभिः निरंकुश: कथयन्ति-राजनाथ सिंह: ! जिन्होंने मुझे माँ के अंतिम संस्कार में जाने नहीं दिया,...

रक्षामंत्री राजनाथ सिंहस्य मातु: निधन ब्रेन हेमरेजतः अभवत् स्म, तु तेन अंतिम संस्कारे गमनस्याज्ञा नाददात् स्म ! यस्योल्लेख...

धर्मनगरी अयोध्यायां मादकपदार्थस्य वाणिज्यस्य कुचक्रम् ! धर्मनगरी अयोध्या में नशे के कारोबार की साजिश !

उत्तरप्रदेशस्यायोध्यायां आरक्षकः मद्यपदार्थस्य वाणिज्यकृतस्यारोपे एकाम् मुस्लिम महिलाम् बंधनमकरोत् ! आरोप्या: महिलायाः नाम परवीन बानो या बुर्का धारित्वा स्मैक...