25.1 C
New Delhi

खालिद:, सलीम:, हकीम: सहितं ९ मुस्लिमा: मेलित्वा वीएचपी नेतु: तस्य भ्रातु: वध कृत्वा निस्सरन् नेत्राणि, अलभन् दंड ! खालिद, सलीम, हकीम सहित 9 मुस्लिमों ने मिलकर VHP नेता और उनके भाई की हत्या कर निकाल ली आँखें, मिली सजा !

Date:

Share post:

गुजराते अमरेल्या: न्यायालयं बुधवासरम् (१३ मार्च २०२४) भाजपा नेतु: एवं तस्य भ्रातु: वधस्य प्रकरणे ९ आरोपिन् दोषी सिद्धन् आजीवन कारागारस्य दंड दत्तमस्ति !

गुजरात में अमरेली की अदालत ने बुधवार (13 मार्च 2024) को भाजपा नेता एवं उनके भाई की हत्या के मामले में 9 आरोपितों को दोषी ठहराते हुए आजीवन कारावास की सजा दी है !

वस्तुतः, वर्षे २०१३ तमे पणस्य कलहे भाजपा नेता अजीत खुमाणस्य तस्यानुज एवं विश्व हिंदू परिषदस्याधिकारिन् भरत खुमाणस्य अमरेली जनपदस्य गुण्डारन ग्रामे वधाकुर्वन् स्म ! जनपदस्य सांवरकुंडला नगरे अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश: धर्मेंद्र श्रीवास्तवस्य न्यायालयं इमे ९ दोषिन् आजीवन कारागारस्य दंड: अशृणोत् !

दरअसल, साल 2013 में पैसे के विवाद में भाजपा नेता अजीत खुमाण (32) और उनके छोटे भाई एवं विश्व हिंदू परिषद (VHP) के अधिकारी भरत खुमाण (26) की अमरेली जिले के गुंडारन गाँव में हत्या कर दी गई थी ! जिले के सावरकुंडला शहर में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र श्रीवास्तव की अदालत ने यह नौ दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है !

यान् दोषिनयम् दंड: अलभन्, तस्य नामानि सन्ति, मामड डाल:, तस्य पुत्र खालिद डाल:, सम्बन्धिन् सलीम डाल:, हकीम डाल:, दीनमुहम्मद डाल:, सुमर डाल:, उस्मान डाल:, यूनुस लखापोटा तस्य च् पुत्र इलियास अर्थतः मुन्नो लखापोटा सम्मिलिता: सन्ति !

जिन दोषियों को यह सजा मिली है, उनके नाम हैं, मामड डाल, उसके बेटे खालिद डाल, रिश्तेदार सलीम डाल, हकीम डाल, दीनमुहम्मद डाल, सुमर डाल, उस्मान डाल, यूनुस लखापोटा और उसके बेटे इलियास उर्फ मुन्नो लखापोटा शामिल हैं !

अस्मिन् वधप्रकरणे मामड के वृहत् पुत्र इमरान डाले अपि वधस्य अभियोगम् चलति स्म, तु वर्षे २०१७ तमे तस्य निधनमभवत् ! यस्यानंतरम् तस्य विरुद्धम् प्रकरणम् संपादितं अकरोत् स्म ! द्वयो: भ्रात्रो: ३० नवंबर २०१३ तमम् आरोपिन: वध: अकुर्वन् स्म !

इस हत्याकांड में मामड के बड़े बेटे इमरान डाल पर भी हत्या का मुकदमा चल रहा था, लेकिन साल 2017 में उसकी मृत्यु हो गई ! इसके बाद उसके खिलाफ मामला समाप्त कर दिया गया था ! दोनों भाइयों की 30 नवंबर 2013 को आरोपियों ने हत्या कर दी थी !

यत् काळमिदम् घटना अभवत् स्म, तत् काळम् द्वौ भ्रातरौ गुण्डारने एकस्य भंडारणस्य निर्माण कार्यस्य अन्विक्षित: स्म ! घटनायाः काळम् अजीत: भाजपायाः लिलिया तालुका इकाई इत्यस्य अध्यक्ष: आसीत् ! तत्रैव तस्य अनुज भरत: लिलिया तालुकायाः गुण्डारन ग्रामस्य सरपंच विश्व हिंदू परिषदस्य च् लिलिया तालुका इकाई इत्यस्य अध्यक्ष: आसीत् !

जिस समय यह घटना हुई थी, उस समय दोनों भाई गुंडारन में एक गोदाम के निर्माण कार्य की देखरेख कर रहे थे ! घटना के समय अजीत भाजपा की लिलिया तालुका इकाई के अध्यक्ष थे ! वहीं उनके छोटे भाई भरत लिलिया तालुका के गुंडारन गाँव के सरपंच और वीएचपी की लिलिया तालुका इकाई के अध्यक्ष थे !

कथ्यते तत भरत: अजीत: च् मामड डालतः किंचित रूप्यकाणि ऋणानयताम् स्म ! येन गृहीत्वायम् कलहमभवत् स्म यस्मिन् च् द्वयो: वध: अकुर्वन् स्म ! सूचनायाः अनुरूपम्, भरत खुमाणस्य शव भंडारणस्य नींवे अलभत् स्म, यद्यपि अजीतस्य शव ५०-६० फीट अंतरे आपणे अलभत् स्म !

कहा जाता है कि भरत और अजीत ने मामड डाल से कुछ रुपए उधार लिए थे ! इसे लेकर यह विवाद हुआ था और इसमें दोनों की हत्या कर दी गई थी ! रिपोर्ट के मुताबिक, भरत खुमाण का शव गोदाम की नींव में पाया गया था, जबकि अजीत का शव 50-60 फीट दूर बाजार में बरामद किया गया था !

घटनायाः काळम् १० आरोपिन: द्वयो: भ्रात्रौ: छुरिका, अक्ष: खड्ग च् समेतं अनेकै: घातकै: अस्त्रै: घातमकुर्वन् स्म ! आरोपिन: पीड़ितयो: नेत्राणि अपि निस्सरन् स्म ! आक्रोशम् दर्शत् वृहतारक्षकस्योपस्थितिसु अंतिम संस्कारम् अकरोत् स्म !

घटना के दौरान 10 आरोपितों ने दोनों भाइयों पर खंजर, कुल्हाड़ी और तलवार समेत अनेक घातक हथियारों से हमला किया था ! आरोपितों ने पीड़ित की आँखें भी निकाल ली थीं ! तनाव को देखते हुए भारी पुलिस की मौजूदगी में अंतिम संस्कार किया गया था !

इंडियन एक्सप्रेसम् विशेष लोक अभियोजक: अनिल देसाई अज्ञापत्, प्रत्यक्षदर्शिनः अस्माकं प्रकरणस्य समर्थनमकुर्वन् वैज्ञानिक साक्ष्याणि अपि च्, यस्मिनारोपिभिः प्रयुज्यं अनंतरे च् आरक्षकेण ळब्धं अस्त्रेषु रक्तस्य विंदवः अपि सम्मिलिता: आसन् ! चत्वारः आरोपिन: दृढ़ कथनमकुर्वन् तत तै: प्रकरणे अपत्रापन्ते !

इंडियन एक्सप्रेस को विशेष लोक अभियोजक अनिल देसाई ने बताया, चश्मदीदों ने हमारे मामले का समर्थन किया और वैज्ञानिक सबूतों ने भी, जिसमें आरोपियों द्वारा इस्तेमाल किए गए और बाद में पुलिस द्वारा बरामद किए गए हथियारों पर खून के धब्बे भी शामिल थे ! चार आरोपियों ने दावा किया कि उन्हें मामले में फँसाया जा रहा है !

देसाई अग्रमज्ञापत्, तेषां निषेधस्यानंतरम् न्यायालयेण तेषां ब्रेन मैपिंग परीक्षणस्यानुरोधम् अकरोत्व ! परीक्षनै: ज्ञातमभवत् तत चत्वारः अपराधे स्व संलिप्ततायाः विवरण: गोप्यति स्म ! यस्य प्रकारमस्माकं प्रकरणम् दृढ़ अभवत् ! न्यायालयं यान् दृष्टे धृतं सर्वान् ९ आरोपिन् च् दोषिन: अकथयत् !

देसाई ने आगे बताया, उनके इनकार करने के बाद अदालत से उनका ब्रेन मैपिंग परीक्षण कराने का अनुरोध किया गया ! परीक्षणों से पता चला कि चारों अपराध में अपनी संलिप्तता का विवरण छिपा रहे थे ! इस प्रकार हमारा मामला मजबूत हुआ ! अदालत ने इन सबको ध्यान में रखा और सभी नौ आरोपियों को दोषी ठहराया !

देसाई अकथयत् तत न्यायिक बन्धने अवरुद्धा: ९ जनाः पूर्वमेव विचाराधीन बंधकस्य रूपे औसतन १० वर्षाणि कारागारे अयापन् ! तै: वध, अविधिक सभा, उत्पात, साक्ष्याणि क्षति ग्रस्तेण सह-सह शस्त्र अधिनियमस्य विरुद्धम् दोषिन: अकथयत् ! न्यायालयं प्रत्येकारोपिसु २१५०० रूपयकानां अर्थदंड अपि अकरोत् !

देसाई ने कहा कि न्यायिक हिरासत में बंद नौ लोग पहले ही विचाराधीन कैदी के रूप में औसतन 10 साल जेल में काट चुके हैं ! उन्हें हत्या, गैरकानूनी सभा, दंगा, सबूतों को नष्ट करने के साथ-साथ शस्त्र अधिनियम के खिलाफ दोषी ठहराया गया है ! अदालत ने प्रत्येक आरोपित पर 21,500 रुपए का जुर्माना भी लगाया है !

दोषिन: भारतीय दंड संहितायाः विभिन्न धाराणां अनुरूपम् प्रदत्तं दंड: एके सह यापिष्यन्ति ! न्यायालयं दोषिभिः प्रदत्तं अर्थदंडेतः अजीतस्य भरतस्य च् कुटुंबिन् ५१००० रूप्यकानां अर्थ दंड दत्तस्यापि आज्ञामददात् ! अर्थदंडस्य राशि न दत्ते त्रयाणां मासानां अतिरिक्तं साधारण बंधनम् यापितुं भविष्यन्ति !

दोषी भारतीय दंड संहिता (IPC) की विभिन्न धाराओं के तहत सुनाई गई सजा एक साथ काटेंगे ! अदालत ने दोषियों द्वारा जमा किए गए जुर्माने में से अजीत और भरत के परिजनों को 51,000 रुपए का मुआवजा देने का भी आदेश दिया ! मुआवजे की राशि जमा नहीं करने पर तीन महीने की अतिरिक्त साधारण कैद काटनी होगी !

साभार:-ऑपइंडिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

कन्हैया लाल तेली इत्यस्य किं ?:-सर्वोच्च न्यायालयम् ! कन्हैया लाल तेली का क्या ?:-सर्वोच्च न्यायालय !

भवतम् जून २०२२ तमस्य घटना स्मरणम् भविष्यति, यदा राजस्थानस्योदयपुरे इस्लामी कट्टरपंथिनः सौचिक: कन्हैया लाल तेली इत्यस्य शिरोच्छेदमकुर्वन् !...

१५ वर्षीया दलित अवयस्काया सह त्रीणि दिवसानि एवाकरोत् सामूहिक दुष्कर्म, पुनः इस्लामे धर्मांतरणम् बलात् च् पाणिग्रहण ! 15 साल की दलित नाबालिग के साथ...

उत्तर प्रदेशस्य ब्रह्मऋषि नगरे मुस्लिम समुदायस्य केचन युवका: एकायाः अवयस्का बालिकाया: अपहरणम् कृत्वा तया बंधने अकरोत् त्रीणि दिवसानि...

यै: मया मातु: अंतिम संस्कारे गन्तुं न अददु:, तै: अस्माभिः निरंकुश: कथयन्ति-राजनाथ सिंह: ! जिन्होंने मुझे माँ के अंतिम संस्कार में जाने नहीं दिया,...

रक्षामंत्री राजनाथ सिंहस्य मातु: निधन ब्रेन हेमरेजतः अभवत् स्म, तु तेन अंतिम संस्कारे गमनस्याज्ञा नाददात् स्म ! यस्योल्लेख...

धर्मनगरी अयोध्यायां मादकपदार्थस्य वाणिज्यस्य कुचक्रम् ! धर्मनगरी अयोध्या में नशे के कारोबार की साजिश !

उत्तरप्रदेशस्यायोध्यायां आरक्षकः मद्यपदार्थस्य वाणिज्यकृतस्यारोपे एकाम् मुस्लिम महिलाम् बंधनमकरोत् ! आरोप्या: महिलायाः नाम परवीन बानो या बुर्का धारित्वा स्मैक...