21.8 C
New Delhi

सच बोलने की सजा – राष्ट्रवादी पत्रकार नितिन शुक्ला पर जिहादी ने किया जानलेवा हमला

Date:

Share post:

आज के जमाने में सच बोलना ही सबसे बड़ा अपराध है, क्युकी लोगो से सत्य नहीं झेला जाता। सोशल मीडिया पर कई बहादुर राष्ट्रवादी हैं, जो असामाजिक तत्वों की परवाह किये बिना, रात दिन जनता के लिए सत्य खोज कर लाते हैं, और कई बार इसकी कीमत भी उन्हें चुकानी पड़ती है ।

ऐसे ही एक राष्ट्रवादी पत्रकार हैं मध्यप्रदेश के नितिन शुक्ला । सोशल मीडिया पर नितिन शुक्ला काफी मशहूर हैं, और उनके फेसबुक और ट्विटर पर हजारो की संख्या में फॉलोवर्स हैं । नितिन शुक्ला पिछले कई सालो से जनता के सामने कई मुद्दों पर अपनी राय रख चुके हैं, उनके दर्शको में अधिकतर संख्या हिन्दुओ की ही है, और उनके कामो की वजह से हिन्दुओ में भी कई मुद्दों को लेकर जागरूकता आ रही है।

पिछले कुछ सालो में देखा जाए तो नितिन शुक्ला ने जिहादियों से सम्बंधित कई मुद्दों पर बेबाक राय रखी और जनता को जागरूक बनाया, और इस वजह से वो जिहादियों के निशाने पर भी आ गए हैं । उन पर अतीत में भी कुछ हमले किये जा चुके हैं, जान से मारने की धमकी और परिवार को नुकसान पहुंचाने की धमकिया तो उन्हें लगभग हर दिन मिलती ही रहती हैं।

लेकिन अब धीरे धीरे ये बात सोशल मीडिया से बढ़ कर असल जिंदगी तक आ गयी है, क्यूकी अब जिहादियों ने उन पर जानलेवा हमले करने शुरू कर दिए हैं। ताजा मामला कल का है , सोमवार १४ जून को नितिन शुक्ला अपने घर पर ही थे, तभी एक विक्रम टेम्पू वाले ने उनके घर के दरवाजे पर टक्कर मार दी, जिससे उनका दरवाजा टूट आया, और पास ही कड़ी उनकी कार को भी अच्छा ख़ासा नुकसान पंहुचा।

जब नितिन शुक्ला ने टेम्पू के ड्राइवर से बात करनी चाही, तो वो उनके साथ गाली गलौच करने लगा और बोला कि मै जानता हूँ तू एक पत्रकार है और मुसलमानो के खिलाफ वीडियो बनाता है । और इतना बोल कर उसने नितिन जी कि तरफ एक पत्थर फेंका, और उन्होंने झुक कर जैसे तैसे अपने आप को बचाया । नितिन शुक्ला अपनी जान बचाने के लिए घर के अंदर भागे, तो ड्राइवर जिसका नाम अजीज खान था, वो एक सरिया लेकर उनके पीछे भागा।

अजीज खान ने नितिन शुक्ला पर हमला कर दिया और उनके साथ मार पीट करने लग गया, जिसकी वजह से उनकी गर्दन और सीने में काफी चोटें भी आयी । इतनी देर में कुछ पडोसी और उनके मित्र नंदकिशोर यादव और आकाश चौहान दौड़े दौड़े आये और उनकी जान बचायी। ड्राइवर अजीज खान ने उन्हें जान से मारने कि धमकी देते हुए कहा कि “आज तो तू बच गया है, लेकिन तू ज्यादा दिन नहीं बच पायेगा, मै जेल से छूट कर आऊंगा और तुझे जान से मार दूंगा ” ।

नितिन शुक्ला ने अजीज खान के खिलाफ FIR करवा दी है, पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया है और उपयुक्त धाराओं के अंतर्गत उस पर कार्यवाही भी कि जा रही है।

नितिन शुक्ला ने अजीज खान के खिलाफ FIR करवा दी है, पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया है और उपयुक्त धाराओं के अंतर्गत उस पर कार्यवाही भी कि जा रही है। यहाँ हमे लोग नितिन शुक्ला को अपना समर्थन देते हैं , और उनके राष्ट्रवादी विचारो और कार्यो की हम दिल से इज्जत भी करते है। हालांकि यहाँ ये बाद भी महत्वपूर्ण है कि सच बोलना आसान काम नहीं है, इसकी कीमत भी चुकानी पड़ती है।

1 COMMENT

  1. This community who’s always involved in all kind of criminal activities
    ,
    Best Way To Deal With These Scraps Is Declare Bharat As A Hindu Rastra.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

जोधपुरस्य सर्वकारी विद्यालये हिजाब धारणे संलग्ना: छात्रा: ! जोधपुर के सरकारी स्कूल में हिजाब पहनने पर अड़ी छात्राएँ !

राजस्थानस्य जोधपुरे हिजाब इतम् गृहीत्वा प्रश्नं अभवत् ! सर्वकारी विद्यालये छात्रा: हिजाब धारणे गृहीत्वा संलग्नवत्य:, तु तेषां परिजना:...

मेलकम् दर्शनमगच्छन् हिंदू महिला: शमीम: सदरुद्दीन: चताडताम्, उदरे अकुर्वताम् पादघातम् ! मेला देखने गईं हिन्दू महिलाओं को शमीम और सदरुद्दीन ने पीटा, पेट पर...

उत्तरप्रदेशस्य फर्रुखाबाद जनपदे एकः हिंदू युवके, तस्य मातरि भगिन्यां च् घातस्य वार्ता अस्ति ! घातस्यारोपम् शमीमेण सदरुद्दीनेण च्...

हल्द्वानी हिंसायां आहूय-आहूय हिंदू वार्ताहरेषु अभवन् घातम् ! ऑपइंडिया इत्यस्य ग्राउंड सूचनायां रहस्योद्घाटनम् ! हल्द्वानी हिंसा में चुन-चुन कर हिंदू पत्रकारों पर हुआ हमला...

उत्तराखंडस्य हल्द्वानी हिंसायां उत्पातकाः आरक्षक प्रशासनस्यातिरिक्तं घटनायाः रिपोर्टिंग कुर्वन्ति हिंदू वार्ताहरानपि स्वलक्ष्यमकुर्वन् स्म ! ते आहूय-आहूय वार्ताहरेषु घातमकुर्वन्...

हल्द्वान्यां आहतानां सुश्रुषायै अग्रमागतवत् बजरंग दलम् ! हल्द्वानी में घायलों की सेवा के लिए आगे आया बजरंग दल !

हल्द्वान्यां अवैध मदरसा-मस्जिदम् न्यायालयस्य आज्ञायाः अनंतरम् प्रशासनम् धराभीम गृहीत्वा ध्वस्तकर्तुं प्राप्तवत् तु सम्मर्द: उग्राभवन् ! प्रस्तर घातमकुर्वन्, गुलिकाघातमकुर्वन्,...