28.1 C
New Delhi
Friday, August 6, 2021

सुल्तान अंसारी:, इमानि तर्हि केवलं टूलकिट इव अस्ति, अस्य पात्रस्य नट: तर्हि अन्यैव सन्ति ! सुल्तान अंसारी, ये तो बस टूलकिट ही है, इस किरदार के अदाकार तो और ही हैं !

Must read

रामजन्मभूमि न्यासम् भूमि क्रीतमस्ति, तत अयोध्या धूमयान स्थानकस्य प्रश्वास्ति भव्य राम मंदिरे च् सौविध्यानां निर्माणाय महत्वपूर्णं भूमि अस्ति !

रामजन्मभूमि ट्रस्ट ने जमीन ली है, वह अयोध्या रेलवे स्टेशन के पास है और भव्य राम मंदिर में सुविधाओं के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण जमीन है !

इदम् एकम् विवादितं भूमि आसीत्, येन इति भूमिम् अधिगृहित: स्म तः येन सुन्नी वक्फ विभागस्य भूमि बदति स्म यस्मिन् च् अभियोगं चरति स्म !

यह एक विवादित जमीन थी, जिन्होंने इस जमीन को हड़प रखा था वो इसे सुन्नी वक्फ बोर्ड की जमीन बताते थे और इस पर केस चल रहा था !

अस्यधरायाः तृतीयदानुबंधं भवितानि ! कुत्रचित कुसुम पाठकाभियोग रणेन निर्वाणं ळब्धुम् इच्छति स्म, येन कारणं साइति भूमिम् विक्रयस्य निर्णयम् कृतवती ! विक्रयपत्रं न भवितुम् शक्नुतं कुत्रचिताभियोगम् चरति स्म !

इस जमीन का 3 बार एग्रीमेंट हो चुका है ! क्योंकि कुसुम पाठक मुकदमेबाजी से छुटकारा पाना चाहती थी, इसलिए उन्होंने इस जमीन को बेचने का निश्चय किया ! बैनामा नहीं हो सका क्योंकि मुकदमा चल रहा था !

प्रथमानुबंधं ४ मार्च २०११ तमे २ कोटि रूप्यके भूमिविक्रयं गृहित्वा सुल्तान अंसारिण: पितु इरफान अंसारिणाभवत् स्म !

पहला एग्रीमेंट 4 मार्च 2011 में 2 करोड़ रुपए में जमीन बेचने को लेकर सुल्तान अंसारी के पिता इरफान अंसारी से हुआ था !

द्वितीयानुबंधं २०१४ तमे अभवत् तृतीयानुबंधं च् सितंबर २०१९ तमे अभवत् स्म ! धरायाः मूल्य २ कोटि रूप्यकाणि २०११ तमे इव निश्चितं भवितं स्म !

दूसरा एग्रीमेंट 2014 में हुआ और तीसरा एग्रीमेंट सितंबर 2019 में हुआ था ! जमीन की कीमत 2 करोड़ रूपये 2011 में ही तय हो चुकी थी !

२०२० तमे इति धरायां सुन्नी वक्फ विभागं स्व दृढकथनं त्यजतं कथितं च् इदम् तस्य भूमि न अस्ति ! अर्थतः इति विवादितं धरायां अभियोगं २०२० तमे संपादितं !

2020 में इस जमीन पर सुन्नी वक्फ बोर्ड ने अपना दावा छोड़ दिया और कहा ये उसकी जमीन नहीं है ! अर्थात इस विवादित जमीन पर मुकदमा 2020 में खत्म हुआ !

वर्तमाने इति धरायाः क्षेत्रस्यानुरूपम् मूल्य (इदम् न्यूनतम् मूल्य भवति, यस्मिन् मुद्रांक शुल्क भवति) लगभगम् ५ कोटि रूप्यकाणि अस्ति !

वर्तमान में इस जमीन का सर्किल रेट (ये मिनिमम रेट होता है, जिसपर स्टैंप ड्यूटी देनी पड़ती है) लगभग 5 करोड़ रूपये है !

उत्तरप्रदेश सर्वकार: नवायोध्या निर्माणाय अयोध्यायां भूमिम् क्षेत्रस्यानुरूपम् मूल्यतः ४ गुणित मूल्ये क्रयति ! अर्थतः तः भूमि यदि उत्तर प्रदेश सर्वकार: क्रीत: तर्हि २५ कोटिनां आर्श्व पार्श्व क्रीत: !

उत्तरप्रदेश सरकार नई अयोध्या बनाने के लिए अयोध्या में जमीन को सर्किल रेट से 4 गुना कीमत पर खरीद रही है ! यानी वो जमीन अगर उत्तरप्रदेश सरकार खरीदती तो 25 करोड़ के आसपास खरीदती !

रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यासम् भव्य राममंदिर निर्माणाय तत धरायाः आवश्यकतामासीत् !

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए उस जमीन की आवश्यकता थी !

राममंदिर न्यासम् द्वयो पक्षयो अर्थतः कुसुम पाठकं सुल्तान अंसारिम् च् आहुतं,वार्तालापस्य अनंतरम् द्वयो पक्षयो सहर्ष सहमतिम् निर्मिते !

राम मंदिर ट्रस्ट ने दोनो पक्षों यानी कुसुम पाठक और सुलतान अंसारी को बुलाया, बातचीत के बाद दोनो पक्षों में सहर्ष सहमति बनी !

रामजन्मभूमि न्यासम् तत धरायां विक्रयपत्रं कृतेन पूर्व १८ मार्च २०२१ तमम् निरस्तकृतस्य पत्रम् दत्तवान, अर्थतः संपूर्णानुबंधं संपूर्ण ऋणं निरस्तं अक्रियते ! अधुना भूमि सर्वै: कलहै: भारै: च् मुक्तमभवत् स्म !

राम जन्मभूमि ट्रस्ट को उस जमीन का बैनामा करने से पहले 18 मार्च 2021 को निरस्तनामा दिया गया, यानी सारे एग्रीमेंट और सारी देनदारियां रद्द की गई ! अब जमीन सभी विवादों और भारों से मुक्त हो चुकी थी !

यतधिकारपत्रमनाधिकृतं विक्रेता आप सांसदः संजय सिंह: कथ्यति तत विक्रयपत्रे कश्चित अनुबंधस्योल्लेखम् किं नास्ति, तः येन कारणं नास्ति !

जो टिकट ब्लैक करने वाला आप सांसद संजय सिंह कह रहा है कि बैनामे में किसी एग्रीमेंट का जिक्र क्यों नहीं है, वो इसीलिए नहीं है !

तमेव दिवसं १८ मार्च २०२१ तमम् सुल्तान अंसारिणा २ कोटि रूप्यकाणि कुसुम पाठकम् दत्त: !

उसी दिन 18 मार्च 2021 को सुल्तान अंसारी द्वारा 2 करोड़ रुपया कुसुम पाठक को दिया गया !

तस्यानंतरम् तमेव दिवसं १८ मार्च २०२१ तमम् सुल्तान अंसारी: तत भूमि राममंदिर न्यासम् आपनमूल्यात् न्यून मूल्ये अर्थतः १८.५ कोटि रूप्यके विक्रीत: !

उसके बाद उसी दिन 18 मार्च 2021 को सुल्तान अंसारी ने वो जमीन राम मंदिर ट्रस्ट को मार्केट रेट से कम दाम पर यानी 18.5 करोड़ रूपये में बेच दी !

अर्थतः विक्रयानुबंधं २०११ तमे इव भवितं स्म ! २ कोटि रूप्यकाणि २०११ तमस्य मूल्यास्ति यत् निश्चितं भवितं स्म ! वर्तमाने ताम् धरायाः आपणमूल्य २० तः २५ कोटि रूप्यकाणि अस्ति !

अर्थात एग्रीमेंट ऑफ सेल 2011 में ही हो चुका था ! 2 करोड़ रुपया 2011 का रेट है जो तय हो चुका था ! वर्तमान में उस जमीन की मार्केट वैल्यू 20 से 25 करोड़ रुपया है !

राममंदिर न्यासम् तत भूमि आपणमूल्यतः न्यूने अर्थतः १८.५ कोटि रूप्यके क्रीतं ! पूर्ण क्रय विक्रय सम्यकरूपे अभवत् ! मुद्रांकशुल्कं दत्तम् !

राम मंदिर ट्रस्ट ने वो जमीन मार्केट रेट से कम में यानी 18.5 करोड़ रुपये में खरीदी है ! पूरी डील एक नंबर में हुई है ! स्टैंप ड्यूटी चुकाई गई है !

यस्मिनालजालम् कुत्र तः भवितं ? इमानि सपायाः, आपस्य, कांग्रेसस्योदारानां संयुक्त अनलमस्ति, यस्मिन् भारत समाचार चैनल इत्यस्य ब्रजेश मिश्र:, वीरेंद्र सिंह: घृतोपदायाः कार्यम् कुरुत: !

इसमें घोटाला कहां से हो गया ? ये सपा, आप, कांग्रेस लिब्ररलो के षड्यंत्र की संयुक्त आग है, जिसमें भारत समाचार चैनल के ब्रजेश मिश्रा, वीरेंद्र सिंह घृत डालने का काम कर रहे हैं !

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article