20.1 C
New Delhi

पीएम मोदी ने की स्वामित्व योजना की शुरुआत, विपक्ष पर साधा निशाना

Date:

Share post:

रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वामित्व योजना की शुरुआत की। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘स्‍वामित्‍व’ योजना के तहत ‘संपत्ति कार्ड’ बांटे। देश के 6 राज्यों के 763 पंचायतों के 1 लाख मकान मालिकों को ये कार्ड मिला। गौरतलब है कि पंचायतीराज मंत्रालय के तहत शुरू हुई इस योजना से 6 राज्यों के 763 पंचायतों के एक लाख लोग लाभान्वित हो रहे हैं। इनमें उत्तर प्रदेश के 346, हरियाणा के 221, महाराष्ट्र के 100 मध्य प्रदेश के 44, उत्तराखंड के 50 और कर्नाटक के दो पंचायत शामिल हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने इस मौके पर सभी लाभार्थियों को बधाई दी और कहा कि इस योजना से गांवों में ऐतिहासिक परिवर्तन लाने वाली है। उन्‍होंने कहा कि आज आपके पास एक अधिकार है, एक कानूनी दस्तावेज है कि आपका घर आपका ही है, आपका ही रहेगा। पीएम मोदी ने इस मौके पर राजनीतिक विरोधियों को भी आड़े हाथों लिया। उन्‍होंने कृषि कानूनों समेत ग्रामीण भारत के लिए हुए फैसलों का जिक्र करते हुए कहा कि वे गांवों को उनके हाल पर नहीं छोड़ सकते।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह योजना आत्मनिर्भर भारत अभियान की दिशा में बड़ा कदम है। उन्‍होंने कहा कि स्वामित्व योजना, गांव में रहने वाले हमारे भाई-बहनों को आत्मनिर्भर बनाने में बहुत मदद करने वाली है। उन्होंने कहा कि ये योजना गांवों में स्वामित्व से जुड़ी कई लड़ाइयां खत्म करेगी।

नरेंद्र मोदी ने कहा कि जब संपत्ति का रिकॉर्ड होता है, जब संपत्ति पर अधिकार मिलता है तो नागरिकों में आत्मविश्वास बढ़ता है। जब संपत्ति का रिकॉर्ड होता है तो निवेश के लिए नए रास्ते खुलते हैं। पूरे विश्व के बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स इस बात पर जोर देते रहे हैं कि जमीन और घर के मालिकाना हक की, देश के विकास में बड़ी भूमिका होती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कांग्रेस पर भी हमला किया। पीएम ने कहा कि पहले भले ही कहा जाता हो कि भारत की आत्मा गांवों में बसती हो लेकिन तब गांवों को उनके नसीब पर छोड़ दिया गया था। सारी समस्याएं गांवों में ही थी। पीएम मोदी ने कहा कि, देश को लूटने में लगे लोगों को, देश अब पहचानने लगा है। ये लोग हर बात का आंख बंद करके विरोध कर रहे हैं। इन्हें ना गरीब, ना गांव और ना देश की चिंता है। ये लोग देश के विकास को रोकना चाहते हैं। ये नहीं चाहते हैं कि गांव, किसान, श्रमिक भाई-बहन भी आत्मनिर्भर बनें। देश ने ठान लिया है कि गांव और गरीब को आत्मनिर्भर बनाना, भारत के सामर्थ्य की पहचान बनाना है। इस संकल्प की सिद्धि के लिए स्वामित्व योजना की भूमिका भी बहुत बड़ी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

सबरीमाला मंदिरम् गन्तुकान् तीर्थयात्रिनः शौचालयस्य जले पचितं भोजनम् परिवेषते स्म अब्दुल: ! सबरीमाला मंदिर जाने वाले तीर्थयात्रियों को शौचालय के पानी में पका खाना...

केरले सत्ताधारिन् सीपीआईएम इत्या: यूथ विंग इत्यस्य नेता अब्दुल शमीमे सबरीमाला मंदिरम् गन्तुकान् तीर्थयात्रिनः शौचालयस्य जले पचत् भोजनम्...

पुनः गृहागमनकृत्वा आफरीन अभवत् निशा ! घर-वापसी कर आफरीन बनीं निशा !

उत्तर प्रदेशस्य सीतापुर जनपदे एका मुस्लिम बालिका गृहागमनम् कृतास्ति ! गृहागमन कर्ता बालिकायाः नाम आफरीन याधुना निशा नाम्ना...

१५ दिवसानां अभ्यांतरम् हलाल माल इत्या: पूर्ण स्टॉक निर्वर्तु, योगी सर्वकारस्य निर्देश: ! 15 दिन के भीतर हलाल माल का सारा स्टॉक हटाओ, योगी...

उत्तर प्रदेशे हलाल प्रोडक्ट प्रतिबंधस्यानंतरम् तत्रस्य योगी सर्वकारः राज्यस्य सर्वे थोक फुटकर च् विक्रेता: अदिशत् तत ताः १५...

मतदाता सूच्यां स्वनाम पंजीकारयन्तु बांग्लादेशिन: अनाधिकृत प्रवेशका: ! मतदाता सूची में अपना नाम दर्ज कराएँ बांग्लादेशी घुसपैठिए !

भारते आगत लोकसभा निर्वाचनतः पूर्वम् तृणमूल कांग्रेसस्यैकस्य नेतु: कथनम् कलहम् उत्पादयत् ! टीएमसी नेता रत्ना बिस्वास पश्चिम बंगस्य...