12.1 C
New Delhi

लखनऊ में पुलिस ने 2 मंदिरो को तोडा और मूर्तियां गायब की; ये क्या हो रहा है उत्तर प्रदेश में??

Date:

Share post:

आज भारत में हिन्दू हितो का ध्यान रखने वाली सरकार है,भारत के सबसे ज्यादा जनसँख्या वाले सूबे उत्तर प्रदेश में भी योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में अच्छी सरकार चल रही है। ऐसे में अगर कोई हिन्दू अहित का काम हो तो बहुत दुःख होता है ,और मन को भी कचोटता है। आज की खबर कुछ ऐसी ही है।

लखनऊ में, निशातगंज के पास काला काकर कॉलोनी,न्यू हैदराबाद, 5 नंबर नाले के पास एक नीम का पेड़ है जहाँ एक छोटा सा मंदिर बनाया हुआ है , जहाँ लोकल हिन्दू लोग पूजा पाठ करते हैं, क्युकि आस पास के इलाके में और कोई मंदिर नहीं है। इस इलाके में सभी धर्म के लोग सद्भाव से रहते आये थे, लेकिन इस ईद पर माहौल बिगड़ गया, क्युकि कुछ मुस्लिमो ने रातो रात इस मंदिर की मूर्ति को उखाड़ कर फेंक दिया।

Picture credit – Manish Mahajan

जाहिर है इस घटना से बवाल होना तय था, हिन्दू और मुस्लिम पक्ष एक दुसरे के आमने सामने आ गए । यहाँ ये बात समझने की है, कि जिन सज्जन के घर के बाहर ये मंदिर है, वो भी एक मुस्लिम हैं,और उन्हें इस मंदिर से कोई दिक्कत नहीं है,लेकिन फिर भी मुस्लिमो ने इस मामले पर संकीर्ण दृष्टिकोण जारी रखा।

पुलिस को बुलाया गया , और उन्हें मामला सुलझाने को कहा गया , लेकिन पुलिस ने इस मामले में ढीलापन दिखाया । इस बीच हिन्दू पक्ष के लोगो ने पुलिस कि मौजूदगी में वापस से मंदिर में मूर्ती स्थापित कर दी । हिन्दू पक्ष को ये उम्मीद थी कि अब पुलिस के संरक्षण में सारा कार्य किया गया है, नयी मूर्ति स्थापित कि गयी है, तो आगे समस्या नहीं होगी, लेकिन ये उनकी गलतफहमी निकली।

अगले दिन जब श्रद्धालु सुबह पूजन करने वहां पहुंचे तो उन्हें पुलिस ने पूजा नहीं करने दी , हिन्दू पक्ष को लगा कि हो सकता है अभी किसी अप्रिय घटना के अंदेशा होने कि वजह से रोक रहे हैं, वो शाम को पूजा करने कि बात कह कर चले गये।

दोपहर में पुलिस फाॅर्स आयी, और सभी लोगो के घर के गेट बाहर से बंद कर दिए , ताकि कोई विरोध ना कर सके । इलाके में PAC भी तैनात कर दी गयी है, और दिन में PAC ने हिन्दुओ पर लाठीचार्ज भी किया, और उसके बाद पुलिस ने सारा मंदिर तोड़ दिया और मूर्ति को अपने साथ ले गए।

Picture Credit – Manish Mahajan

घटना की जानकारी मिलते ही लोगो में रोष फ़ैल गया और सभी लोग नजदीकी थाने का घेराव किया और पुलिस अधिकारियो से तुरंत एक्शन लेने की मांग की, लेकिन पुलिस का रवैया बिलकुल भी सहयोग करने का नहीं था।

बाद में हिन्दू पक्ष ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के आवास जाने की बात की तो पुलिस अधिकारी स्वाति सिंह वहाँ आयी और बोली की उन्हें इस घटना की की जानकारी नहीं है, वो इसका संज्ञान लेंगी और मूर्ति को जल्द से जल्द वापस स्थापित कराने में मदद करेंगी।

Picture Credit – Manish Mahajan

ये बात किसी को पची नहीं क्युकि पूरा पुलिस महकमा वहां था ,दिन में भी पुलिस फाॅर्स वहां भेजी गयी थी मूर्ति हटाने के लिए, ऐसे में ये सम्भव नहीं की कोई वरिष्ठ अधिकारी को इस मामले के बारे में जानकारी ना हो । यहाँ ये बात भी जानने लायक है की मूर्ति अभी भी पुलिस के कब्जे में ही थी।

पुलिस अधिकारी ने हिन्दू पक्ष को बोला कि एक FIR दर्ज करा दी गयी है , और सुबह तक मूर्ति की पुनःस्थापना कर दी जायेगी । जो विवादित जगह है, वहां पास ही में एक अवैध मजार भी है , लेकिन पुलिस ने उसे हाथ भी नहीं लगाया।

Picture Credit – Manish Mahajan

यही पुलिस कल ही उसी इलाके के पंचमुखी हनुमान जी के मंदिर में धमक दिखाने चली गयी थी, जब वहां सुंदर काण्ड चल रहा था, तभी एकाएक पुलिस वाले आ कर पाठ रोक देते हैं ,३ पुजारियों के मोबाइल छीन लेते हैं, वहां लगे हुए CCTV कमरे बंद कर देते हैं और उसके बाद वहां की मूर्ति भी उखाड़ कर ले जाते हैं। इस वजह से हिन्दू पक्ष का विश्वास पुलिस पर बिलकुल नहीं था।

जब बवाल हुआ तो स्थानीय भाजपा विधायक भी आये, और शान्ति रखने की अपील की, लेकिन हिन्दू पक्ष ने कहा कि इस तरह जोर जबरदस्ती से पुलिस हिन्दू मंदिरो को तोड़ रही है, ये कोई सही तरीका नहीं है , और इससे सरकार और पूरे महकमे की बदनामी ही हो रही है।

बाद में वहां DM भी आये और उन्होंने आश्वासन दिया किवे दोनों पक्षों से बात करेंगे और बुधवार सुबह मंदिर में मूर्ति को पुनःस्थापना भी करवाएंगे । आश्वासन सुन कर हिन्दू पक्ष ने थाने का घेराव बंद कर दिया और वापस लौट गए।

सुबह अखबार में आया कि मनीष महाजन और चार अन्य लोगो पर इस मामले में पुलिस ने मुकदमा कर दिया है। इन पर आरोप लगाया गया कि इन्होने प्रशासन के कार्य में दखल दिया और उस जगह कि कुर्की के आदेश थे, इसलिए वहां पर तोड़फोड़ की गयी। लेकिन यहाँ एक बात सोचने लायक है , पुलिस बाकी सामान ले जा सकते हैं, लेकिन पुलिस को मूर्ति ले जाने का कोई अधिकार नहीं है, जिस मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की जा चुकी हो,उसे ले जाने का तो कोई सवाल भी नहीं उठता।

मनीष महाजन, जो हिन्दू पक्ष का नेतृत्व कर रहे थे, उन्होंने पुलिस से FIR की कॉपी भी मांगी, लेकिन पुलिस ने देने से मना कर दिया । मनीष जी कल सुबह कोर्ट जाएंगे और FIR और मुक़दमे की कॉपी भी वहां से लेंगे। मनीष जी इस घटना से इतने व्यथित हैं कि उन्होंने घोषणा कि है कि वे पुलिस के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराएँगे, जिन्होंने एक प्राणप्रतिष्ठा की गयी मूर्ति को अवैध तरीके से मंदिर से उठा लिया है। इस घटना को लेकर हिन्दुओ में काफी रोष है, और सरकार और प्रशासन के खिलाफ भी माहौल बन गया है।

यहाँ ये काफी दुःख की बात है कि पुलिस इस मामले में एकतरफा कार्यवाही कर रही है , और सिर्फ हिन्दुओ के खिलाफ FIR हुई है, जबकि उसी इलाके में एक अवैध मज़ार है,जिस पर कार्यवाही नहीं हुई है। ऊपर से पुलिस का व्यवहार असंवैधानिक है और अवांछनीय भी है। पुलिस को कोई अधिकार नहीं है कि इस तरह से मंदिरो को तोड़ें, मूर्तियों को गायब कर दे, और जब लोग विरोध करें तो उन पर ही FIR दर्ज कर दें। फिलहाल हिन्दू पक्ष इस मामले में कानूनी लड़ाई के लिए तैयार है।

यहाँ ये काफी दुःख की बात है कि पुलिस इस मामले में एकतरफा कार्यवाही कर रही है,और सिर्फ हिन्दुओ के खिलाफ FIR हुई है, जबकि उसी इलाके में एक अवैध मज़ार है,जिस पर कार्यवाही नहीं हुई है। ऊपर से पुलिस का व्यवहार असंवैधानिक है और अवांछनीय भी है। पुलिस को कोई अधिकार नहीं है कि इस तरह से मंदिरो को तोड़ें, मूर्तियों को गायब कर दे, और जब लोग विरोश करें तो उन पर ही FIR दर्ज कर दें।

इस मामले में हम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी से निवेदन करेंगे कि इस मामले का संज्ञान लें और तुरंत दोनों मंदिरो का पुननिर्माण और मूर्ति स्थापना कि व्यवस्था कराएं। साथ ही हिन्दुओ के खिलाफ की गयी FIR को रद्द किया जाए, और गलत काम करने वाले पुलिस अधिकारियो पर कड़ी कार्यवाही हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

[tds_leads input_placeholder="Email address" btn_horiz_align="content-horiz-center" pp_checkbox="yes" pp_msg="SSd2ZSUyMHJlYWQlMjBhbmQlMjBhY2NlcHQlMjB0aGUlMjAlM0NhJTIwaHJlZiUzRCUyMiUyMyUyMiUzRVByaXZhY3klMjBQb2xpY3klM0MlMkZhJTNFLg==" msg_composer="success" display="column" gap="10" input_padd="eyJhbGwiOiIxNXB4IDEwcHgiLCJsYW5kc2NhcGUiOiIxMnB4IDhweCIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCA2cHgifQ==" input_border="1" btn_text="I want in" btn_tdicon="tdc-font-tdmp tdc-font-tdmp-arrow-right" btn_icon_size="eyJhbGwiOiIxOSIsImxhbmRzY2FwZSI6IjE3IiwicG9ydHJhaXQiOiIxNSJ9" btn_icon_space="eyJhbGwiOiI1IiwicG9ydHJhaXQiOiIzIn0=" btn_radius="0" input_radius="0" f_msg_font_family="521" f_msg_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsInBvcnRyYWl0IjoiMTIifQ==" f_msg_font_weight="400" f_msg_font_line_height="1.4" f_input_font_family="521" f_input_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEzIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMiJ9" f_input_font_line_height="1.2" f_btn_font_family="521" f_input_font_weight="500" f_btn_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_btn_font_line_height="1.2" f_btn_font_weight="600" f_pp_font_family="521" f_pp_font_size="eyJhbGwiOiIxMiIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_pp_font_line_height="1.2" pp_check_color="#000000" pp_check_color_a="#309b65" pp_check_color_a_h="#4cb577" f_btn_font_transform="uppercase" tdc_css="eyJhbGwiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjQwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGUiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjMwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGVfbWF4X3dpZHRoIjoxMTQwLCJsYW5kc2NhcGVfbWluX3dpZHRoIjoxMDE5LCJwb3J0cmFpdCI6eyJtYXJnaW4tYm90dG9tIjoiMjUiLCJkaXNwbGF5IjoiIn0sInBvcnRyYWl0X21heF93aWR0aCI6MTAxOCwicG9ydHJhaXRfbWluX3dpZHRoIjo3Njh9" msg_succ_radius="0" btn_bg="#309b65" btn_bg_h="#4cb577" title_space="eyJwb3J0cmFpdCI6IjEyIiwibGFuZHNjYXBlIjoiMTQiLCJhbGwiOiIwIn0=" msg_space="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIwIDAgMTJweCJ9" btn_padd="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIxMiIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCJ9" msg_padd="eyJwb3J0cmFpdCI6IjZweCAxMHB4In0=" msg_err_radius="0" f_btn_font_spacing="1"]
spot_img

Related articles

रामचरितमानसस्यानादर:, रिक्तं रमवान् सपायाः हस्तम् ! रामचरितमानस का अपमान, खाली रह गए सपा के हाथ ?

उत्तर प्रदेशे वर्तमानेव भवत् विधान परिषद निर्वाचनस्य परिणाम: आगतवान् ! पूर्ण ५ आसनेभ्यः निर्वाचनमभवन् स्म् ! यत्र ४...

चीन एक ‘अलग-थलग’ और ‘मित्रविहीन’ भारत चाहता है

एक अमेरिकी रिपोर्ट के अनुसार, "पाकिस्तान के बजाय अब चीन, भारतीय परमाणु रणनीति के केंद्र में है।" चीन भी समझता है कि परमाणु संपन्न भारत 1962 की पराजित मानसिकता से मीलों बाहर निकल चुका है।

हमारी न्याय व्यवस्था पर बीबीसी का प्रहार

बीबीसी ने अपनी प्रस्तुति में भारत के तथाकथित सेकुलरवादियों, जिहादियों और इंजीलवादियों के उन्हीं मिथ्या प्रचारों को दोहराया है, जिसे भारतीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) ने न केवल वर्ष 2012 में सिरे से निरस्त कर दिया

मध्यप्रदेशे इस्लामनगरम् ३०८ वर्षाणि अनंतरम् पुनः कथिष्यते जगदीशपुरम् ! मध्यप्रदेश में इस्लाम नगर 308 साल बाद फिर से कहलाएगा जगदीशपुर !

मध्यप्रदेशस्य भोपालतः १४ महानल्वम् अंतरे एकं ग्रामम् इस्लामनगरमधुना जगदीशपुर नाम्ना ज्ञाष्यते ! केंद्र सर्वकार: ग्रामस्य नाम परिवर्तनस्याज्ञा दत्तवान्...