21.1 C
New Delhi

आधुनिककाल में श्रीरामचरितमानस का महत्त्व

Date:

Share post:

  1.  1. भवानीशंकरौ   वन्दे  श्रध्दाविश्वासरुपिणौ  |

                             याभ्यां विना न पश्यन्ति सिद्धा स्वान्तःस्थमीश्वरमं |

         इस श्लोक में शिव-पार्वती की महिमा का वर्णन किया गया है | भगवान शंकर और माता  पार्वती ये दोनों श्रद्धा और विश्वास के प्रतिरूप हैं |इनकी कृपा के बिना कोई भी व्यक्ति, वह चाहे कितना ही सिद्ध पुरुष हो, अपने हृदय में ईश्वर के रूप के दर्शन नहीं कर सकता | गोस्वामी तुलसीदासजी ने इस श्लोक में शिव-पार्वती की प्रार्थना करते हुए उनकी महिमा का वर्णन किया है |

        कहने का अभिप्राय यह है कि ईश-वंदना के बिना इस चराचर जगत में कोई भी कार्य करना संभव नहीं है | अतः किसी भी कार्य को करने के पहले  हमें प्रभु का ध्यान अवश्य करना चाहिए | 

2. जो सुमिरत सिधि होई गन नायक करिबर बदन |

                          करउ अनुग्रह सोइ बुद्धि रासि सुभ गुन सदन ||

                                                इन पंक्तियों में  प्रभु गणेशजी की वंदना की गई है जो गुणों की खान हैं,जिनका मुख हाथी के समान है, जो शुभ गुणों के भण्डार हैं और बुद्धि के धनी हैं | ऐसे श्रीगणेशजी के ध्यानमात्र से सभी मनोकामनाएं  पूरी हो जाती हैं |इसीलिए हम सभी लोगों को गणेशजी की वंदना करनी चाहिए |गोस्वामी तुलसीदासजी ने श्रीरामचरितमानस के बालकाण्ड के आरम्भ में ही गणेशजी की बार-बार वंदना की है |

3. सुनि समुझहि जन मुदित मन मज्जहिं अति अनुराग |

                      लहहिं चारि फल अछत तनु साधु समाज प्रयाग   ||                         

इन पंक्तियों में गोस्वामी तुलसीदास जी ने सज्जन लोगों का गुणगान  किया है | जो  लोग सज्जन लोगों की बातों को ध्यान से सुनते हैं और प्रेमपूर्वक उन बातोँ पर  मनन करके प्रसन्नता से अपने जीवन में उतारने का प्रयास करते हैं उन्हें इसी जीवन में  धर्म,अर्थ,काम और मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है | अतः हम सभी  लोगों को सज्जनों की बातों को ध्यानपूर्वक सुनना चाहिए |              

Tiwari Rita
Tiwari Rita
मैंने नवोदय विद्यालय समिति में तीस वर्षो तक उपप्राचार्य के पद पर कार्य किया है | मैंने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से हिंदी में एम.ए और पीएच-डी की डिग्री प्राप्त की है | मेरी रूचि हिंदी धर्म ग्रंथों को पढ़ने तथा उनमें निहित जीवन मूल्यों को अपने जीवन में अपनाने और समाज के लोगों तक उन्हें पहुँचाने में है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

१५ दिवसानां अभ्यांतरम् हलाल माल इत्या: पूर्ण स्टॉक निर्वर्तु, योगी सर्वकारस्य निर्देश: ! 15 दिन के भीतर हलाल माल का सारा स्टॉक हटाओ, योगी...

उत्तर प्रदेशे हलाल प्रोडक्ट प्रतिबंधस्यानंतरम् तत्रस्य योगी सर्वकारः राज्यस्य सर्वे थोक फुटकर च् विक्रेता: अदिशत् तत ताः १५...

मतदाता सूच्यां स्वनाम पंजीकारयन्तु बांग्लादेशिन: अनाधिकृत प्रवेशका: ! मतदाता सूची में अपना नाम दर्ज कराएँ बांग्लादेशी घुसपैठिए !

भारते आगत लोकसभा निर्वाचनतः पूर्वम् तृणमूल कांग्रेसस्यैकस्य नेतु: कथनम् कलहम् उत्पादयत् ! टीएमसी नेता रत्ना बिस्वास पश्चिम बंगस्य...

लाल डायरी इत्यां सोनिया गांध्या: भ्रातु: अपि नाम ! लाल डायरी में सोनिया गाँधी के भाई का भी नाम !

राजस्थानस्य राजनीत्यां लाल डायरी उत्तेजनाम् कृतवत् ! अस्मिन् प्रकरणे कांग्रेसम्, गांधी कुटुंबं राजस्थानस्य च् अशोक गहलोत सर्वकारम् कटन्जने...

ओवैसिन् १५ पलक: भ्रात अधुना पूर्णसभायां आरक्षकम् भर्त्सयत् ! ओवैसी के 15 मिनट वाले भाई ने अब भरी सभा में पुलिस को धमकाया !

तेलंगानायां ३० नवंबर २०२३ तमं विधानसभा निर्वाचनाय मतदानम् भवितमस्ति ! आदर्शाचार संहिता चलति ! तु यस्य पालितुं कथने...