32.1 C
New Delhi

मराठा और मराठी भाषा “अस्मिता” के नाम पर मूर्ख बनती सामान्य महाराष्ट्र की जनता.

Date:

Share post:

महाराष्ट्र की एक बहुत बड़ी समस्या है अस्मिता वाली राजनीति.
मराठी भाषा अस्मिता या किसान अस्मिता या मराठा अस्मिता, अपनी भाषा, जाति या क्षेत्र पर गर्व होना कोई गलत बात नहीं है. लेकिन कभी-कभी जनता इस अस्मिता के नाम पर होने वाली राजनीति को समझ नहीं पाती.
महाराष्ट्र में शरद पवार ने मराठा अस्मिता और किसान अस्मिता के नाम पर जनता को बहुत अच्छे से गुमराह किया. विकास के नाम पर उनके पास दिखाने के लिए सिर्फ बारामती मॉडल लॉलीपॉप है.
मराठा अस्मिता के नाम पर महाराष्ट्र के एक बहुत बड़े भाग में शरद पवार जैसे नेताओं को भगवान की तरह पूजा जाता है. वैसे तो यह लोग दूसरों को अंधभक्त कहते हैं परंतु शरद पवार जैसे भ्रष्टाचारी नेताओं की भक्ति स्वयं करते हैं, बात केवल भ्रष्टाचार तक सीमित नहीं होती परंतु उनके ऊपर दाऊद इब्राहिम जैसे आतंकवादी के साथ सांठगांठ के भी आरोप लगते आए हैं. परंतु मूर्ख लोग और नेता उन्हें आज भी महाराष्ट्र का बहुत बड़ा कद्दावर नेता और भगवान मान रहे हैं.

दूसरी तरफ शिवसेना है जिसने मराठी भाषा अस्मिता के नाम पर अपनी पार्टी की शुरुआत की और उसके बाद हिंदुत्व की ढाल थाम ली.
यह बात अलग है कि बाल ठाकरे ने अपने जीते जी पार्टी को हिंदुत्व के दिशा पर अग्रसर रखा और बांधे रखा. परंतु इस समय उनके सुपुत्र और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे अपने पिता के बताए हुए राह के बिल्कुल विपरीत चल रहे हैं. वैसे भी शिवसेना मुंबई की गलियों में हफ्ता वसूली के लिए पहले से जानी जाती थी और आज के समय में यह बात आम जनमानस भी करने लगा है. अगर आप एक सामान्य मराठी मानुष से बात करेंगे तो वह आपको यह बात बताएगा कि मराठी भाषा अस्मिता के नाम पर शिवसेना ने केवल मराठी मानुष को थका है और उसके हाथ में एक लॉलीपॉप थमा दिया है.असल में जिस प्रदेश में इस प्रकार की राजनीति चलती है वहां विकास और अन्य मुद्दे बहुत पीछे चले जाते हैं और जनता ऐसे नेताओं के चंगुल में फंसकर मुख्य मुद्दों से दूर हट जाती है.
ठीक है यही हाल बंगाल में भी है जहां पर बंगाली भाषा अस्मिता के नाम पर वामपंथ ने कई साल राज किया और फिर उसके बाद ममता बनर्जी ने भी वही चाल चली.
मूर्ख हिंदुओं को एक बात नहीं समझ में आती कि अगर कोई अस्मिता पालनी है तो हिंदू अस्मिता और राष्ट्र गौरव की बात कि जाए।
हिंदुत्व और विकास यही एक ऐसा गठबंधन है जिससे आम जनता का भला हुआ है फिर चाहे आप मोदी जी का गुजरात मॉडल देख लीजिए या योगी जी का उत्तर प्रदेश मॉडल.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

रोहिंग्या-मुस्लिम्-जनाः ५००० हिन्दु-बौद्धानां गृहाणि दग्धवन्तः, तेषां दृष्टेः पुरतः सर्वं लुण्ठितवन्तः ! रोहिंग्या मुस्लिमों ने 5000 हिंदुओं-बौद्धों के घर जलाए, आँखों के सामने सब कुछ...

म्यान्मार्-देशस्य राखैन्-राज्ये सैन्य-नेतृत्वस्य जुण्टा-जातीय-विद्रोहि-समूहयोः मध्ये सङ्घर्षाः तीव्रतां प्राप्य साम्प्रदायिक-हिंसा प्रारब्धा। तत्र अस्य तनावस्य कारणात्, रोहिंज्या-जनाः हिन्दूनां बौद्धानां च...

धर्मपरिवर्तनं कारित्वा त्वया एव विवाहं करिष्यामि-मुस्लिम युवकः जुनैद: ! धर्म परिवर्तन कराकर तुमसे ही करेंगे निकाह-मुस्लिम युवक जुनैद !

उत्तरप्रदेशस्य अलीगढ-मण्डले, मुस्लिम्-युवकाः परीक्षार्थं उपस्थितां हिन्दु-बालिकाम् अनुधावन्, तां मार्गे चालयितुं प्रयतन्ते स्म। न केवलं, अभियुक्तः अपि पीडितस्य गृहं...

पाणिग्रहणस्य कुचक्रम् दत्वा भोपालतः केरलम् नयवान्, इस्लाम स्वीकरणस्य भारम् कर्तुम् अरभत् ! शादी का झाँसा दे भोपाल से केरल ले गया, इस्लाम कबूलने का...

मध्यप्रदेशस्य राजधानी भोपाल्-नगरस्य एका हिन्दु-बालिका विवाहस्य प्रलोभनेन राजा खान् इत्यनेन केरल-राज्यं नीतवती। कथितरूपेण, इस्लाम्-मतं स्वीकृत्य कल्मा-ग्रन्थं पठितुं दबावः...

कमल् भूत्वा, कामिल् एकः हिन्दु-बालिकाम् वशीकृतवान्, ततः एकवर्षं यावत् तां ब्ल्याक्मेल् कृत्वा यौनशोषणम् अकरोत्! कमल बनकर कामिल ने हिंदू लड़की को फँसाया, फिर ब्लैकमेल...

उत्तरप्रदेशस्य मुज़फ़्फ़र्नगर्-नगरस्य कामिल् नामकः मुस्लिम्-बालकः स्वस्य नाम मतं च प्रच्छन्नं कृत्वा इन्स्टाग्राम्-इत्यत्र हिन्दु-बालिकया सह मैत्रीम् अकरोत्। ततः सः...