19.1 C
New Delhi
Sunday, October 24, 2021

केचन वार्तानि यत् प्रत्येक सनातन धर्मानुयायीं परिपालनीयम् ! हिंदूं धर्मस्य कारणं ! कुछ बाते जो हर सनातन धर्म अनुयायी को ध्यान रखनी चाहिए ! हिंदु धर्म के कारण !

Must read

किं भगवतः रामः भगवतः कृष्ण: कदापि आंग्ल देशस्य हाउस ऑफ लार्ड इत्यस्य सदस्यौ रमितौ स्म ? नैव ? तदा पुनः इदम् किं लार्ड रामा, लार्ड कृष्णा इति कथ्यते ? सरलं सरलं भगवतः राम: भगवतः कृष्ण: इति कथ्यतु ! आंग्ल भाषायाम् अपि !

क्या भगवान राम भगवान कृष्ण कभी इंग्लैंड के house of lord के सदस्य रहे थे ? नहीं ना ? तो फिर ये क्या Lord Rama, Lord Krishna लगा रखा है ? सीधे सीधे भगवान राम, भगवान कृष्ण कहिये ! अंग्रेजी में भी !

कश्चितस्य निधने आरआईपी कदापि मा कथ्यतु अर्थतः रेस्ट इन पीस यत् निखनकेभ्यः कथ्यते ! भवान् कथ्यतु ॐ शांति मोक्ष प्राप्ति भव वा ! आत्मा कदापि एकेस्थाने नविरमितं ! आत्मायाः पुनर्जन्मं भवति तेन मोक्षम् लब्धति वा !

किसी की मृत्यु होने पर RIP बिलकुल मत कहिये यानी Rest In Peace जो दफनाने वालों के लिए कहा जाता है ! आप कहिये ओम शांति अथवा मोक्ष प्राप्ति हो ! आत्मा कभी एक स्थान पर आराम या विश्राम नहीं करती ! आत्मा का पुनर्जन्म होता है अथवा उसे मोक्ष मिलता है !

स्व रामायण एवं महाभारत यथा ग्रंथान् कदापि माइथोलॉजिकल मा कथिष्यते ! माइथो लॉजिकल शब्द निर्मितमस्ति मिथ तः मिथ शब्द च् निर्मितमस्ति हिंद्या: मिथ्या इति शब्देन ! मिथ्या अर्थतः असत्यं यस्य कश्चित अस्तित्वम् नासि वा !

अपने रामायण एवं महाभारत जैसे ग्रंथों को कभी भी mythological मत कहियेगा ! mythological शब्द बना है myth से और myth शब्द बना है हिंदी के मिथ्या शब्द से !
मिथ्या अर्थात झूठा या जिसका कोई अस्तित्व ना हो !

अस्माकं सर्वाणि देव्य: देवा: राम: कृष्णश्च वास्तविक रूपे प्रकटिता: ! इमानि अस्माकं गौरवशालिम् वैदिक ग्रन्थेषु लिखिता: ! रामः एवं कृष्ण: अस्माकं अवतारी देव पुरुष: सन्ति, कश्चित माइथोलॉजिकल पात्राणि न ! स्व इष्ट देवानां नाम आदरेण सह नयन्तु ! तस्य दीपस्तंभ न निर्मितुम् ददान्तु !

हमारे सभी देवी देवता, राम और कृष्ण वास्तविक रूप में प्रकट हुए हैं ! ये हमारा गौरवशाली वैदिक ग्रंथों में लिखा है ! राम एवं कृष्ण हमारे अवतारी देवपुरुष हैं, कोई mythological कलाकार नहीं ! अपने इष्ट देवों का नाम आदर सहित लें ! उनका मजाक न बनने दें !

अस्माकं मन्दिरान् प्रार्थनागृहम् मा कथ्यानि ! मंदिर देवालय भवन्ति ! भगवतस्य निवासगृहम् तत् प्रार्थनागृहम् न भवितं ! मंदिरे केवलं प्रार्थना न भवितं ! अन्यतमः धर्मस्य पूजन पद्धत्याम् केवलं साप्ताहिक प्रार्थना भवति, यद्यपि हिंदू धर्मे इमानि नित्यकर्ममस्ति !

हमारें मंदिरों को प्रार्थनागृह न कहें ! मंदिर देवालय होते हैं ! भगवान के निवासगृह ! वह प्रार्थनागृह नहीं होते ! मंदिर में केवल प्रार्थना नहीं होती ! अन्य धर्म के पूजा पद्धति में सिर्फ साप्ताहिक प्रार्थना होती है, जबकि हिंदू धर्म में ये नित्य कर्म है !

स्व बालकानां जन्मदिवसे दीप प्रवचस्य अपशकुनम् मा कुर्वन्तु ! अग्निदेवम् न प्रवचितं ! दीप प्रज्ज्वलितं अर्थतः प्रकाशस्य संचारं अयम् अस्माकं संस्काराणि सन्ति !

अपने बच्चों के जन्मदिन पर दीप बुझा के अपशकुन न करें ! अग्निदेव को न बुझाएँ ! दीप प्रज्ज्वलित करना अर्थात प्रकाश का संचार करना यह हमारे संस्कार हैं !

बालकान् दीपस्य प्रार्थनां शिक्षयन्तु तमसो मा ज्योतिर्गमय ( भो अग्निदेव:, मह्यं तमात् प्रकाशं प्रति गमनस्य मार्गम् दर्शयतु) इमानि समस्त प्रतीकं बालकानां मस्तिष्के गहन प्रभावं कुर्वन्ति !

बच्चों को दीप की प्रार्थना सिखायें तमसो मा ज्योतिर्गमय ( हे अग्नि देवता, मुझे अंधेरे से उजाले की ओर जाने का रास्ता बताएँ ) ये सारे प्रतीक बच्चों के मस्तिष्क में गहरा असर करते हैं !

किं भवतः भगवतेन विभेन्ति ? नैव, भयमपि मा करणीय:, कुत्रचित भगवतः तदा चराचरे विद्यमान: सन्ति ! अजन्मा, परोपकारिम्, न्यायकारिम् सर्वशक्तिमानं च् सन्ति ! इत्येव न अस्मासु स्वयं भगवतस्य अंश विद्यमानमस्ति !

क्या आप भगवान से डरते हैं ? नहीं ना, डरना भी नहीं चाहिए, क्योंकि भगवान तो चराचर में विद्यमान हैं ! अजन्मा, परोपकारी, न्यायकारी और सर्वशक्तिमान हैं ! इतना ही नहीं हममें स्वयं भगवान का अंश मौजुद है !

तदा पुनः आत्मानम् गॉड फियरिंग अर्थतः भगवतेन भीत: मा कथ्यतु ! गॉड बिलिवर भगवते विश्वासकर्ता इति कथ्यतु !

तो फिर अपने आपको God Fearing अर्थात भगवान से डरने वाला मत कहिये ! God Believer भगवान में विश्वास रखने वाला कहिए !

कदापि कश्चितं बधाई इति दत्तमसि तदा बधाई शुभकामनाएं इति शब्दस्य प्रयोगम् करोतु बधाई स्वीकार कृतमसि तदा धन्यवाद इति शब्दस्य प्रयोगम् करोतु ! मुबारक शुक्रिया च् इति शब्दस्य प्रयोगम् मा करोतु कुत्रचित अस्यार्थम् भिन्नम् सन्ति !

कभी भी किसी को बधाई देनी हो तो बधाई या शुभकामनाएँ शब्द का प्रयोग कीजिये और बधाई स्वीकार करनी हो तो धन्यवाद शब्द प्रयोग कीजिये ! मुबारक और शुक्रिया शब्द का प्रयोग न करो क्योंकि इनके अर्थ अलग हैं !

हिंदूषु सप्त वरण: गृहित्वा पाणिग्रहणं क्रियते ! कश्चितानुबंधस्य पाणिग्रहणं न भवितं ! अतएव टीवी इत्यादि चलचित्राणि दर्शित्वा-दर्शित्वा भेड़चाल इत्ये स्व धर्मपत्निम् बीवी इति मा कथ्यतु !

हिन्दुओं में 7 फेरे लेकर विवाह किया जाता है ! कोई कॉन्ट्रैक्ट का विवाह नहीं होता ! इसलिए TV आदि फिल्में देख-देखकर भेड़चाल में अपनी धर्मपत्नी को बीवी मत कहिए !

यदि भवान् तया स्व जीवनसंगिनी मान्यते तदा पत्नी इति शब्दम् प्रयोगम् करोतु ! यदि भवान् तामनुबंधेन सह पाणिग्रहण कृत्वानयतु तदा भवान् बीवी इति कथितुम् शक्नोति !

यदि आप उन्हें अपनी जीवनसंगिनी मानते हैं तो पत्नी शब्द प्रयोग कीजिये ! यदि आप उनको कॉन्ट्रैक्ट के साथ ब्याह कर लाये हैं तो आप बीवी कह सकते हैं !

ध्यानं रमतु, विश्वे केवलं तस्य सम्मानं भवति यत् स्वयमस्य सम्मानं करोति ! इदम् लेख कश्चितस्य विरुद्धम् नास्ति, इदम् केवलं स्व सनातन संस्कृतये आदरमस्ति !

ध्यान रहे, विश्व में केवल उनका सम्मान होता है जो स्वयं का सम्मान करते है ! यह लेख किसी के विरुद्ध नहीं है, ये बस अपनी सनातन संस्कृति के लिए आदर है !

सनातन धर्मस्य सम्मानाय, सम्मान बर्धनाय एतान् विचारान् ज्ञायन्तु स्व हिंदू भवे च् गर्वम् गौरवम् च् कुर्वन्तु !

सनातन धर्म के मान के लिए, सम्मान बढ़ाने के लिए इन विचारों को जाने और अपने हिन्दू होने पर गर्व और गौरव करें !

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article