25.1 C
New Delhi
Sunday, October 24, 2021

भगवतः शिवेण संलग्न: केचन रोचकतथ्यं !भगवान शिव से जुड़े कुछ रोचक तथ्य !

Must read

भगवतः शिवस्य कश्चित मातु-पितु नास्ति ! तेन अनादि मानितं ! अर्थतः यत् सदैवातासीत् ! यस्य जन्मस्य कश्चित तिथिम् नास्ति !

भगवान शिव का कोई माता-पिता नही है ! उन्हें अनादि माना गया है ! मतलब जो हमेशा से था ! जिसके जन्म की कोई तिथि नही है !

ॐ नमः शिवाय

कथक, भरतनाट्यम् कृतस्य कालम् भगवतः शिवस्य यत् मूर्ति ध्रीति तेन नटराज: इति कथ्यते ! कश्चितापि देव्या:-देवस्य त्रोटितं मुर्त्या: पूजनं न भवितं ! तु शिवलिंग: कत्यापि त्रोटितं पुनश्चापि पूजयते !

कथक, भरतनाट्यम करते वक्त भगवान शिव की जो मूर्ति रखी जाती है उसे नटराज कहते है ! किसी भी देवी-देवता की टूटी हुई मूर्ति की पूजा नही होती ! लेकिन शिवलिंग कितना भी टूट जाए फिर भी पूजा जाता है !

शिव भगवतस्य एका भगिनी अप्यासीतमावरी ! येन मातु पार्वत्या: दुराग्रहे स्वयं महादेव: स्व मायाया निर्मित: स्म ! भगवतः शिव मातु पार्वती च् एकमेव पुत्रमासीत् ! यस्य नामासीत् कार्तिकेय: ! गणेश: भगवतः तदा मातु पार्वती स्वोबटनेन निर्मिता स्म !

शंकर भगवान की एक बहन भी थी अमावरी ! जिसे माता पार्वती की जिद्द पर खुद महादेव ने अपनी माया से बनाया था ! भगवान शिव और माता पार्वती का 1 ही पुत्र था ! जिसका नाम था कार्तिकेय ! गणेश भगवान तो मां पार्वती ने अपने उबटन (शरीर पर लगे लेप) से बनाए थे !

भगवतः शिव: गणेश महाशयस्य सिर: येन कारणं कर्तित: स्म कुत्रचित गणेश: शिवम् पार्वत्या मेलने न दत्त: स्म ! तस्य मातु पार्वती इदृशं कृताय बदिता स्म !

भगवान शिव ने गणेश जी का सिर इसलिए काटा था क्योकिं गणेश ने शिव को पार्वती से मिलने नही दिया था ! उनकी मां पार्वती ने ऐसा करने के लिए बोला था !

भोले बाबा: तांडवस्यानंतरम् सनकादि:/पाणिनि: इताभ्यां चतुर्दश वारम् ढक्का बदित: स्म ! यस्मात् माहेश्वर सूत्र अर्थतः संस्कृत व्याकरणस्याधारं प्रकटितं स्म !

भोले बाबा ने तांडव करने के बाद सनकादि/पाणिनि के लिए चौदह बार डमरू बजाया था ! जिससे माहेश्वर सूत्र यानि संस्कृत व्याकरण का आधार प्रकट हुआ था !

शंकर भगवते कदापि केतक्या: पुष्पम् न समर्पित: ! कुत्रचित अयम् ब्रह्म महाशयस्य अनृतस्य साक्षी निर्मितं स्म !

शंकर भगवान पर कभी भी केतकी (किंसुक) का फुल नही चढ़ाया जाता ! क्योंकि यह ब्रह्मा जी के झूठ का गवाह बना था !

शिवलिंगे विल्वपत्रं तदा लगभगम् सर्वाणि समर्पते ! तु यस्मै अपि एकम् विशेषं सतर्कता कर्तुम् भवति तत विना जलम् विल्वपत्रं न समर्पयति !

शिवलिंग पर बेलपत्र तो लगभग सभी चढ़ाते है ! लेकिन इसके लिए भी एक खास सावधानी बरतनी पड़ती है कि बिना जल के बेलपत्र नही चढ़ाया जाता है !

शंकर भगवते शिवलिंगे च् कदापि दीर्घनादेन जलम् न समर्पितं ! कुत्रचित शिव महाशयः शंखचूड़म् स्व त्रिशूलेन दग्धितः स्म ! भवतः ज्ञापयन्तु, शंखचूड़स्यास्थिभिः इव दीर्घनाद: निर्मितं स्म !

शंकर भगवान और शिवलिंग पर कभी भी शंख से जल नही चढ़ाया जाता ! क्योकिं शिव जी ने शंखचूड़ को अपने त्रिशूल से भस्म कर दिया था ! आपको बता दें, शंखचूड़ की हड्डियों से ही शंख बना था !

भगवतः शिवस्य कण्ठे यत् सर्पमावृतैति तस्य नामास्ति वासुकि: ! अयम् शेषनागस्यानंतरम् व्यालानां द्वितीय नृपः आसीत् ! भगवत: शिव: प्रसन्नम् भूत्वा येन ग्रीवायामावृत्तस्य वरं दत्त: स्म !

भगवान शिव के गले में जो सांप लिपटा रहता है उसका नाम है वासुकि ! यह शेषनाग के बाद नागों का दूसरा राजा था ! भगवान शिव ने खुश होकर इसे गले में डालने का वरदान दिया था !

निशाकरं भगवतः शिवस्य जटासु वासस्य वरं लब्ध: ! नंदी, यत् शंकर भगवतस्य वाहनं तस्य सर्वेषु गणेषु सर्वात् उपरि चपि अस्ति ! सः वास्तवे शिलाद ऋषिम् वरे लब्ध: पुत्रमासीत् ! यतनंतरे कठोर तपस्य कारणं नंदी: निर्मित: स्म !

चंद्रमा को भगवान शिव की जटाओं में रहने का वरदान मिला हुआ है ! नंदी, जो शंकर भगवान का वाहन और उसके सभी गणों में सबसे ऊपर भी है ! वह असल में शिलाद ऋषि को वरदान में प्राप्त पुत्र था ! जो बाद में कठोर तप के कारण नंदी बना था !

गंगा भगवतः शिवस्य शिरात्किं प्रवहति ? देवी गंगाम् यदा धरायां अवतरस्य विचारिता तदा एकम् संकटम् आगतः तत तस्या: वेगेन तदा दीर्घ विनाशम् भविष्यते !

गंगा भगवान शिव के सिर से क्यों बहती है ? देवी गंगा को जब धरती पर उतारने की सोची तो एक समस्या आई कि इनके वेग से तो भारी विनाश हो जाएगा !

तदा शंकर भगवतम् मानितं तत प्रथम गंगाम् स्व जटासु निबध्यतु, पुनः भिन्न-भिन्न दिशाभिः मंथरम्-मंथरम् तया धरायां अवतारयतु !

तब शंकर भगवान को मनाया गया कि पहले गंगा को अपनी ज़टाओं में बाँध लें, फिर अलग-अलग दिशाओं से धीरें-धीरें उन्हें धरती पर उतारें !

शंकर भगवतस्य वदनं नील: येन कारणं भवितः कुत्रचित सः गरलम् पात: स्म ! वस्तुतः समुद्र मंथनस्य कालम् चतुर्दश वस्तुनि निःसृतानि स्म !

शंकर भगवान का शरीर नीला इसलिए पड़ा क्योंकि उन्होने जहर पी लिया था ! दरअसल, समुद्र मंथन के समय 14 चीजें निकली थी !

त्रयोदश वस्तुनि असुरा: देवा: च् अर्धार्ध विभाजिता: तु हलाहल इति नामकस्य गरलम् नीयस्य कश्चित तत्परं नासीत् !

13 चीजें तो असुरों और देवताओं ने आधी- आधी बाँट ली लेकिन हलाहल नाम का विष लेने को कोई तैयार नही था !

इदम् गरलम् बहैव घातकमासीत् यस्य एकम् बिंदु अपि धरायां बहु उत्पातं कर्तुम् शक्नोति स्म ! तदा भगवतः शिव: इति गरलम् पीत: स्म ! अत्रैवेण तस्य नाम भवितं नीलकंठ: !

ये विष बहुत ही घातक था इसकी एक बूँद भी धरती पर बड़ी तबाही मचा सकती थी !तब भगवान शिव ने इस विष को पीया था ! यही से उनका नाम पड़ा नीलकंठ !

भगवतः शिवम् संहारस्य देव मान्यते ! येन कारणं कथ्यते, तृतीय नेत्रम् रुद्धैव रमितं प्रभो: !

भगवान शिव को संहार का देवता माना जाता है ! इसलिए कहते है, तीसरी आँख बंद ही रहे प्रभु की !

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article