सम्प्रति कश्चितेन सह न भविष्यति सुशांत यथा उत्पीड़नम्, उत्तर प्रदेशस्य हिन्दी चित्रपटानां केन्द्रम् निर्मिष्यति योगी सरकार: ! अब किसी के साथ नहीं होगा सुशांत जैसा अत्याचार, यूपी को हिन्दी फिल्मों का गढ़ बनायेगी योगी सरकार !

0
276

हिन्दी चित्रपटे कार्यकृतस्य अभिलाषाय यूपी, बिहार देशस्य बहु राजेभ्यः च् यदा जनः नेत्रयो स्वप्नम् गृह्य महाराष्ट्रस्य राजधानी मुम्बईम् प्राप्यन्ति, तर्हि ते बहु संघर्ष कुर्वन्तु ! इदृशं बहु वार्तानि अपि आगच्छन्ति तत हिन्दी भाषिनां मुंबईयाम् गच्छस्य उपरांत स्वप्नेभ्यः संघर्ष कृतस्य अतिरिक्तमपि क्षेत्रीय, भाषां अपिच् न ज्ञातम् कति स्तरे संघर्ष कुर्वन्तु !

हिंदी सिनेमा में काम करने की ललक लिए यूपी, बिहार और देश के तमाम राज्यों से जब लोग आँखों में सपना लिए महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई पहुंचते हैं, तो उन्हें बहुत संघर्ष करना पड़ता है ! ऐसी तमाम खबरें भी आती रहती हैं कि हिंदी भाषियों को मुंबई में जाने के बाद सपनों के लिए संघर्ष करने के अलावा भी क्षेत्रीय, भाषा और भी न जाने कितने स्तर पर संघर्ष करना पड़ता है !

मुम्बईयां चित्रपट नगरस्य भवेन विशेष जातिस्य जनानि एव तस्य लाभम् प्राप्यति ! विशेष जनानाम् तत्र राजम् चलति सुशांत यथा बहवेन नवोदित कलाकारम् तत्र विशेष जनानाम् अग्रम् अन्धकारे गच्छन्ते ! तत्र इदृशमपि जनाः सन्ति यत् खादन्ति तर्हि भारतस्य सन्ति तु गायन्ति पकिस्तानस्य !

मुंबई में फिल्म सिटी के होने से खास तबके के लोगों को ही उसका फायदा पहुंचता है ! विशेष लोगों का वहां राज चलता है सुशांत जैसे बहुत से नवोदित कलाकार वहां विशेष लोगों के आगे गुमनामी में चले जाते हैं वहां ऐसे भी लोग हैं जो खाते तो भारत की हैं पर गाते हैं पाकिस्तान की !

केचन जनानि तर्हि अत्रैव अकथ्यते तत येन चित्रपटे पकिस्तानस्य असाधु परिलक्ष्यते तत् चित्रपट तेन वास्तवम् न रोचते ! एकम् चित्रपट आगतवान स्म गदर एक प्रेम कथा यस्मिन् सनी दयोल: मुख्य भूमिकाम् निर्वहतवान स्म तस्य उपरंतात् सनी दयोलम् चित्रपट प्राप्तम् लगभगम् स्थगितवान, तम् चित्रपट निर्देशक अनिल शर्मास्य नामैव चित्रपट उद्योगेन लुप्तमस्ति !

कुछ लोगों ने तो यहां तक कह दिया है कि जिस फिल्म में पाकिस्तान की बुराई दिखाई जाती है वह फिल्म उन्हें बिल्कुल रास नहीं आती ! एक फिल्म आई थी गदर एक प्रेम कथा जिसमें सनी दयोल ने मुख्य भूमिका निभाई थी उसके बाद से सनी दयोल को फिल्म मिलना लगभग बन्द हो गयी, उस फिल्म के डायरेक्टर अनिल शर्मा का नाम ही फिल्म इंडस्ट्री से गायब है !

येन प्रकारेण राजनीते एकम् प्रवृत्तिम् चलति वंशवादम् विशेषवादम् च्, तेन प्रकारेण चित्रपटैपि वंशवादम् विशेषवादम् च् द्वय प्रकारस्य प्रवृत्तिम् चलन्ति ! केचन विशेष जनः यस्यां एक्टिंग इत्यस्य एबीसीडी न आयतु सः वंशवादस्य विशेषवादस्य कारणम् चित्रपटे चिनोन्ति, यत् च् प्रतिभा सम्पन्न कलाकार उत्तर प्रदेशम् बिहारम् यथा राज्येभ्यः तत्र प्राप्तन्ति तेन एतानि वंशवादस्य विशेषवादस्य वा कारणम् अन्धकारम् प्राप्नोति !

जिस तरीके से राजनीति में एक ट्रेंड चल रहा है वंशवाद,उसी तरीके से फिल्मों में भी वंशवाद और विशेषवाद दो तरीके के ट्रेंड चल रहें हैं ! कुछ विशेष लोग जिनको एक्टिंग की एबीसीडी नहीं आती वह वंशवाद और विशेषवाद के कारण फिल्म में लिए जाते हैं, और जो प्रतिभा सम्पन्न कलाकार उत्तर प्रदेश बिहार जैसे राज्यों से वहां पहुंचते हैं उन्हें इसी वंशवाद व विशेषवाद के कारण गुमनामी मिलती है !

बहवेन जनः तर्हि दिवसस्य रात्रिस्य निद्राम् लुप्तवापि नेत्रयो स्वप्नम् धृतं संघर्ष कृतैव न्यवसते ! तस्य पूर्ण उम्र व्यतीतयति नच् तर्हि सः स्व गृहस्य भवत्येति नच् चित्रपट विश्वस्य ! आम् केचन जनानि चित्रपटानि प्राप्तयति कुत्रचित सः विशेषवादेन सुलहम् क्रियन्ते तेषां च् अबदं मार्गस्य अनुसरणम् करोति !

बहुत से लोग तो दिन-रात की नींद उड़ाकर भी आंखों में सपने लिए संघर्ष करते ही रह जाते हैं ! उनकी पूरी उम्र निकल जाती है और न तो वो अपने घर के हो पाते हैं और न ही फिल्मी दुनिया के ! हाँ कुछ लोगों को फिल्में नसीब होती क्योंकि वह विशेषवाद से समझौता कर लेते हैं और उन्हीं के बताए हुए मार्ग का अनुसरण करते है !

चित्रपट नगरे कार्य प्राप्तस्य अन्वेषनैव तस्य मार्गे न आगच्छति अपितु भाषा रूपी बृहद प्रस्तर तस्य स्वप्नानि इदृशं प्रताड़यति तत पुनः कदापि न उथ्येत ! इदृशेषु उत्तर प्रदेशे चित्रपट नगरस्य निर्मयेन वास्तवे बहूनि लाभम् प्राप्यिष्यति, इदृशं कथशक्नोन्ति !

फिल्म इंडस्ट्री में काम पाने की तलाश ही उनके रास्ते में नहीं आती बल्कि भाषा रूपी बड़ा सा पत्थर उनके सपनों को ऐसी टक्कर मारता है कि वो दोबारा कभी उठ नहीं पाते ! ऐसे में उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी के बनने से सच में कइयों को फायदा पहुंचेगा, ऐसा कह सकते हैं !

उत्तर प्रदेशस्य मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ: उत्तर प्रदेशे देशस्य सर्वात् वृहद चित्रपट उद्योग निर्मयस्य घोषणाम् अकरोत् ! सः अधिकारिनि नोयडा, ग्रेटर नोयडा यमुना एक्सप्रेसवे इते वा तस्य आर्श्व पार्श्व वा एकम् उपयुक्तम् भूमिस्य अन्वेषणम् कृतं एकम् कार्य योजनां निर्मितस्य च् निर्देशम् अददात् !

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में देश की सबसे बड़ी फिल्म इंडस्ट्री बनाने की घोषणा की है ! उन्होंने अधिकारियों को नोएडा, ग्रेटर नोएडा या यमुना एक्सप्रेसवे में या उसके आसपास एक उपयुक्त भूमि की तलाश करने और एक कार्य योजना तैयार करने का निर्देश दिया !

योगी आदित्यनाथस्य इति आधिकारिक कथनं अविज्ञातम् कति जनानाम् कुटुम्बस्य स्वप्नानि नव परम् अददात् ! स्व कुटुम्बस्य त्यक्तवा महाराष्ट्रस्य मुम्बईयां गत्वा निवसितम् तत्र च् संघर्ष कृतेभ्यः यथा कश्चितं नव खमं निर्मितस्य वार्ताम् कथ्यतेति !

योगी आदित्यनाथ के इस आधिकारिक बयान ने न जाने कितने लोगों के सपनों को पंख दे दिया है ! अपने घर परिवार को छोड़कर महाराष्ट्र के मुंबई में जाकर बसने और वहां संघर्ष करने वालों के लिए जैसे किसी ने नया आसमान बनाने की बात कह दी हो !

योगी आदित्यनाथस्य इति आधिकारिक कथनस्य उपरांत चित्रपट संसार तानि कलाकारा: अस्य प्रशंसाम् कृतमपि प्रारम्भयते, यत् मुम्बई चित्रपट उद्योगे वंशवादम् विशेषवादम् वा पीड़ितासन् ! सुशांत सिंह: प्रकरणे स्पष्टम् बदितः बॉलीवुड इत्यस्य क्वीन कंगना प्रसन्नताम् व्यक्त कृतं अस्य प्रशंसाम् अकरोत् !

योगी आदित्यनाथ के इस आधिकारिक बयान के बाद फिल्म जगत उन सितारों ने इसकी सराहना करनी भी शुरू कर दी है, जो मुंबई फिल्म इंडस्ट्री में वंशवाद व विशेषवाद के पीड़ित थे ! सुशांत सिंह मामले में खुलकर बोलने वाली बॉलीवुड की क्वीन कंगना ने खुशी जाहिर करते हुए इसकी सराहना की !

भजन गायक: अनूप जलोटा: अपि उत्तर प्रदेशस्य मुख्यमंत्रिस्य बहु प्रशंसाम् अकरोत् ! बीजेपी नेता भोजपुरी कलाकारम् च् मनोज तिवारी: अपि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथस्य पहलस्य प्रशंसाम् अकरोत् ! हिंदी चित्रपटानां, दक्षिण भारतीय चित्रपटानां, भोजपुरी चित्रपटानां बहैव प्रभावकारी कलाकारम् येन वर्तमानैव मुम्बई चित्रपट नगरे ड्रग्स इत्यस्य प्रकरणस्य उत्थायत् स्म, गोरखपुर सांसद रवि किशन: अपि योगिस्य इति निर्णयस्य प्रशंसाम् अकरोत् !

भजन गायक अनूप जलोटा ने भी यूपी के मुख्यमंत्री की जमकर तारीफ की ! बीजेपी नेता और भोजपुरी कलाकार मनोज तिवारी ने भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पहल की सराहना की है ! हिंदी फिल्मों के, दक्षिण भारतीय फिल्मों के, भोजपुरी फिल्मों के बहुत ही प्रभावकारी कलाकार जिन्होंने हाल में ही मुंबई फिल्म सिटी में ड्रग्स के मामले को उठाया था, गोरखपुर सांसद रवि किशन ने भी योगी के इस फैसले की सराहना की है !

उत्तर प्रदेशे चित्रपट नगरस्य निर्माणेन एकम् वार्ताम् तर्हि निश्चितमस्ति तत हिंदी चित्रपट जगतेन संलग्नम् बहवेन जनाः मुम्बईया: न गत्वा यूपी चित्रपट नगरे स्व भविष्य अन्वेषणिष्यति ! येन प्रकारेण दक्षिणस्य चित्रपटानां मुम्बईया केचन हस्तक्षेपम् न भवति !

उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी के निर्माण से एक बात तो तय है कि हिंदी फिल्म जगत से जुड़े बहुत से लोग मुंबई का रुख न करके यूपी फिल्म सिटी में अपना भविष्य तलाशेंगे ! जिस तरह से दक्षिण की फिल्मों का मुंबई से कुछ लेना देना नहीं होता है !

तत्रस्य जनाः तत्रैव स्व भाषास्य चित्रपटानां निर्माणेन गृहित्वा प्रत्येक कार्य क्रियन्ते, तथैव सम्भवमस्ति तत उत्तर प्रदेशे चित्रपट नगर निर्माणेन इयम् हिंदी चित्रपटस्य केन्द्रम् निर्मयते ! उत्तर भारतीय राज्यानां महाराष्ट्रेवस्य परत्व गच्छेन मुक्तिम् प्राप्यिष्यन्ते ते स्व निकषे स्व भविष्यम् निर्मितिष्यन्ते !

वहां के लोग वहीं अपनी भाषा की फिल्मों की मेकिंग से लेकर हर काम कर लेते हैं, वैसे ही संभव है कि यूपी में फिल्म सिटी बन जाने से ये हिंदी सिनेमा का गढ़ बन जाए ! उत्तर भारतीय राज्यों को महाराष्ट्र तक की दूरी तय करने से फुर्सत मिल जाएगी और वो अपने नजदीक में अपना करियर बना पाएंगे !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here