माता वैष्णों देवी दुर्घटनायाः कष्टप्रदचित्राणि, पश्यन्तु केनप्रकारेण अभवत दुर्घटनाम् कीदृशं जनाः स्वप्राणं रक्षिता: ! माता वैष्णों देवी हादसे की दर्दनाक तस्वीरें, देखें किस तरह से हुआ हादसा और कैसे लोगों ने अपनी जान बचाई !

0
174

जम्मू-कश्मीर स्थितं माता वैष्णो देवी मंदिरे अभवत् शीघ्रगत्यां जीवितुं अवशेषिताः केचन जनाः ज्ञापिता: तत आंग्लनववर्षस्यागमने अत्राकस्मात् वृहद संख्यायां श्रद्धालुनां आगमनेण शीघ्रगति उत्पादितं ते चेति त्रासदीपूर्ण घटनाय कुप्रबंधनम् दोषिन् कथितं ! इति शीघ्रगत्यां १२ जनानां निधनमभवन् !

जम्मू-कश्मीर स्थित माता वैष्णो देवी मंदिर में मची भगदड़ में जीवित बचे कुछ लोगों ने बताया कि अंग्रेजी नव वर्ष के आगमन पर यहां अचानक बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आने से भगदड़ मची और उन्होंने इस त्रासदीपूर्ण घटना के लिए कुप्रबंधन को दोषी ठहराया ! इस भगदड़ में 12 लोगों की मौत हो गई है !

माता वैष्णो देवी श्राइनायोगमिदम् कथ्यन् आरोपानां खंडनम् कृतवान तत संभावित सम्मर्दस्य दृष्टिगत सर्वाणि आवश्यक प्रबंधम् कृतं स्म ! जम्मू-कश्मीरयो आरक्षक महानिदेशक दिलबाग सिंह: कथित: तत सामान्यकलहमिति दुर्भाग्यपूर्णम् घटनाय जिम्मेवारं अस्ति !

माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने यह कहते हुए आरोपों का खंडन किया कि संभावित भीड़ के मद्देनजर सभी आवश्यक प्रबंध किए गए थे ! जम्मू- कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा कि एक मामूली लड़ाई इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना के लिए जिम्मेदार है !

एकम् शवं परिचयाय एकस्य शवगृहस्य बाह्य प्रतीक्षा रत: उत्तरप्रदेशस्य गाजियाबादतः आगत: एकः तीर्थ यात्रिन् कथित: इति त्रासदीपूर्णम् दुर्घटनायाः कारणं केवलं कुप्रबंधनमस्ति ! तै: सम्मर्द: बर्धनस्य ज्ञानम् आसीत् !

एक शव को पहचानने के लिए एक शवगृह के बाहर इंतजार कर रहे उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद से आए एक तीर्थयात्री ने कहा इस त्रासदीपूर्ण हादसे का कारण केवल कुप्रबंधन है ! उन्हें भीड़ बढ़ सकने की जानकारी थी !

केचनजनान् विनावरोधस्यागमनस्याज्ञाम् दत्त: ! जनः स्वनामोद्घाटनम् नकृतस्यपणे ज्ञापित: तत यदि संबंधितं प्राधिकारिण: वैष्णो देवी तीर्थयात्रीणां सम्यक् प्रबंधनम् कर्तुम् भवितं तर्हि इति स्थित्या विवर्जयतुं शक्नोति स्म !

लेकिन लोगों को बेरोक-टोक आने की अनुमति दी !व्यक्ति ने अपना नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि यदि संबंधित प्राधिकारियों ने वैष्णो देवी तीर्थयात्रियों का बेहतर प्रबंधन किया होता तो इस हालात से बचा जा सकता था !

सः कथित: इत्येव प्रकारस्य स्थितिम् केचन पलम् पूर्वमपि अभवत् स्म, तु सौभाग्येण कश्चित हताहत न अभवत् स्थितिम् च् नियंत्रितं ! वयं १० श्रद्धालुभिः सहागतः स्म ! वयं सहवासिन् सन्ति ! बहु सम्मर्दस्य कारणं शीघ्रगतिं उत्पादितं !

उसने कहा इसी प्रकार की स्थिति कुछ मिनट पहले भी हुई थी, लेकिन सौभाग्य से कोई हताहत नहीं हुआ और स्थिति नियंत्रित कर ली गई ! हम 10 श्रद्धालु साथ आए थे ! हम सभी पड़ोसी हैं ! भारी भीड़ के कारण भगदड़ मची !

कुत्रचित जनाः अभ्यांतर-बाह्य आगच्छति-गच्छति स्म प्रत्येककश्चित शीघ्रतायां आसीत् ! तीर्थयात्री कथित: बहु जनाः पुनः गमनस्यापेक्षा, धरायां विरमति स्म यस्य कारणं च् भवने अतिसम्मर्द: बर्धितं !

क्योंकि लोग अंदर-बाहर आ-जा रहे थे और हर कोई जल्दी में था ! तीर्थयात्री ने कहा कि कई लोग वापस जाने के बजाय, जमीन पर आराम कर रहे थे और इसके कारण भवन में और भीड़ बढ़ गई !

इति शीघ्रगत्यां स्वमित्रम् ३० वर्षस्यारुण पी सिंहम् वियुज्यकः एकमन्यजनः कथित: ततते उत्तरप्रदेशस्य गोरक्षपुरतः आगतः स्म भवनेच् बहुसम्मर्द: आसीत् ! सः कथित: अहम् लगभगम् १० वर्षाणि पूर्वमन्दिरम् आगतः स्म, तु इतिदा बहुसम्मर्द: दृष्ट्वा मयाश्चर्यम् अभवत् !

इस भगदड़ में अपने मित्र 30 साल के अरुण पी सिंह को खो देने वाले एक अन्य व्यक्ति ने कहा कि वे उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से आए थे और भवन में बहुत भीड़ थी ! उन्होंने कहा मैं करीब 10 साल पहले मंदिर आया था, लेकिन इस बार भारी भीड़ देखकर मुझे हैरानी हुई !

इति त्रासद्या: अनंतरम् वयं निराश्रयासन् अस्माभिः च् प्रातः ६ वादनमेव कश्चित सहाय्य न ळब्धा: ! बिहारस्य मुजफ्फरपुरस्य रानी देवी कथित: तत सा भाग्ययुक्तास्ति ततैति शीघ्रगत्यां तस्याः निधनम् न अभवत् ! सा कथिताहम् बहु जनान् धरायां मृताः दर्शित: मम च् हृदयम् व्यथिता !

इस त्रासदी के बाद हम असहाय थे और हमें तड़के छह बजे तक कोई मदद नहीं मिली ! बिहार के मुजफ्फरपुर की रानी देवी ने कहा कि वह भाग्यशाली हैं कि इस भगदड़ में उनकी मौत नहीं हुई ! उन्होंने कहा मैंने कई लोगों को जमीन पर मृत पड़े देखा और मेरा मन व्यथित हो गया !

सा यस्मै भवने श्रद्धालुनां अनियंत्रित सम्मर्दम् जिम्मेवारम् कथिता ! एकः अन्य तीर्थयात्री आदित्य शर्मा कथित: तत धरायां शेते केचनजनाः शीघ्रगत्यां हतवान ! इति घटनायाः अनंतरम् बहु तीर्थयात्रिन् दर्शनेण विना इव मन्दिरस्याधार शिविरकटरातः पुनः आगतुं दर्शिता: !

उन्होंने इसके लिए भवन में श्रद्धालुओं की अनियंत्रित भीड़ को जिम्मेदार ठहराया ! एक अन्य तीर्थयात्री आदित्य शर्मा ने कहा कि जमीन पर सो रहे कुछ लोग भगदड़ में कुचले गए ! इस घटना के बाद कई तीर्थयात्रियों को दर्शन किए बिना ही मंदिर के आधार शिविर कटरा से लौटते देखा गया !

आयोगस्य एकः अन्य अधिकारिन् स्वनाम गोपनीय धृतस्य पणे ज्ञापित: तत तीर्थयात्रीणां अपेक्षित सम्मर्दस्य कारणं सुरक्षाया सह पर्याप्त प्रबंधम् कृतः स्म ! डीजीपी ज्ञापित: तत प्रारंभिकान्वेषणेन ज्ञातम् अभवत् !

बोर्ड के एक अन्य अधिकारी ने अपना नाम गोपनीय रखने की शर्त पर बताया कि तीर्थयात्रियों की अपेक्षित भीड़ के कारण सुरक्षा समेत पर्याप्त प्रबंध किए गए थे ! डीजीपी ने बताया कि प्रारंभिक जांच से पता चला है !

केचन युवकानां मध्य कलहम् अभवत् स्म केचनैव पले शीघ्रगत्या: स्थितिं निर्मितं सः कथित: नागरिक प्रशासनस्याधिकारिण: आरक्षकः च् तत्क्षण कार्यवाहिम् कृतः सम्मर्दम् च् तत्क्षण व्यवस्थित:, तु तदैव क्षतिमभवत् स्म !

कुछ युवकों के बीच झगड़ा हुआ था और कुछ ही सेकंड में भगदड़ के हालात बन गए उन्होंने कहा नागरिक प्रशासन के अधिकारियों और पुलिस ने तत्काल कार्रवाई की और भीड़ को तत्काल व्यवस्थित किया गया, लेकिन तब तक नुकसान हो चुका था !

लेख साभार टाइम्स नाउ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here