भाजपा कार्यालये रक्षक: धृतमस्ति तर्हि अहम् अग्निवीरम् धरिष्यामि, इति कथने अवरुद्ध: कैलाश विजयवर्गीय: ! भाजपा ऑफिस में सिक्योरिटी रखनी है तो मैं अग्निवीर को रखूंगा, इस बयान पर घिरे कैलाश विजयवर्गीय !

0
94

अग्निपथ योजनाम् गृहीत्वा सततं विरोध-प्रदर्शनम् भवन्ति ! बहवः स्थानम् हिंसक प्रदर्शनमपि अभवन् ! इति मध्य भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीयस्य एकं कथनमागतः, यत् बहु वायरल भवति ! इति कथने आपत्तिमपि व्यक्तयते !

अग्निपथ योजना को लेकर लगातार विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं ! कई जगह हिंसक प्रदर्शन भी हुए हैं ! इस बीच बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय का एक बयान आया है, जो काफी वायरल हो रहा है ! इस बयान पर आपत्ति भी जताई जा रही है !

अग्निपथ योजनायाः लाभम् ज्ञाप्यन् विजयवर्गीय: कथित: तत भाजपायाः कार्यालये रक्षक: धृतमस्ति तर्हि अहम् अग्निवीरम् प्राथमिकताम् दाष्यामि ! भाजपा सांसद: वरुण गांधी इति कथने प्रत्युत्तरन् कथित: तत यः महानसैन्यस्य शौर्यगाथा: कथने पूर्ण शब्दकोशमसमर्थमसि !

अग्निपथ योजना का फायदा बताते हुए विजयवर्गीय ने कहा कि बीजेपी के ऑफिस में सिक्योरिटी रखना है तो मैं अग्निवीर को प्राथमिकता दूंगा ! भाजपा सांसद वरुण गांधी ने इस बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि जिस महान सेना की वीर गाथाएँ कह सकने में समूचा शब्दकोश असमर्थ हो !

यस्य पराक्रमस्य ध्वनि समस्त विश्वे गुंजायमानमसि, तं भारतीय सैनिकं कश्चित राजनीतिक कार्यालयस्य रक्षणस्य निमंत्रणम्, तेन दातामिव मुबारक इति ! भारतीय सैन्यम् माँ भारत्या: सेवायाः माध्यमस्ति, केवलं एकं दासता न !

जिनके पराक्रम का डंका समस्त विश्व में गुंजायमान हो, उस भारतीय सैनिक को किसी राजनीतिक दफ्तर की चौकीदारी करने का न्यौता, उसे देने वाले को ही मुबारक ! भारतीय सेना माँ भारती की सेवा का माध्यम है, महज एक नौकरी नहीं !

एकं प्रति छात्रा: सन्ति तत न मान्यन्ते तर्हि द्वितीयं प्रति सर्वकारः प्रत्येक प्रयत्नम् करोति तत खिन्न छात्रान् युवान् च् मान्यन्तु ! इदमेव वृहत् कारणमस्ति तत केवलं द्वयो दिवसयो ५ मंत्रालयानि अग्निवीरान् चतुरवर्षाणि अनंतरम् दासताम् गृहीत्वा एकस्य अनंतरम् एकं निर्णयं नीतानि !

एक तरफ छात्र हैं कि मान नहीं रहे है तो दूसरी तरफ सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है कि नाराज छात्रों और युवाओं को मना लिया जाए ! यही बड़ी वजह है कि सिर्फ 2 दिन में 5 मंत्रालयों ने अग्निवीरों को चार साल बाद नौकरी को लेकर एक के बाद एक फैसले लिए !

अग्निपथ कार्यक्रमे अग्निवीरानां प्रवेशाय वायुसैन्यं डिटेल अभिज्ञानम् स्व वेबसाइट इत्यां प्रस्तुतमस्ति ! इति डिटेल इत्या: अनुसारम् चतुरवर्षस्य सेवायाः काळम् अग्निवीरानां वायुसैन्यं प्रत्या बहवः सौविध्य: दाष्यते यत्स्थायी वायुसैनिकान् ळब्धकं सौविध्यानां अनुसारमिव भविष्यति !

अग्निपथ स्कीम में अग्निवीरों की भर्ती के लिए वायुसेना ने डिटेल जानकारी अपनी वेबसाइट पर जारी कर दी है ! इस डिटेल के अनुसार चार साल की सेवा के दौरान अग्निवीरों की वायुसेना की ओर से कई सुविधाएं दी जाएंगी जो स्थायी वायुसैनिकों को मिलने वाली सुविधाओं के अनुसार ही होगी !

वायुसैन्यस्य वेबसाइट इत्यां प्रस्तुतस्य अभिज्ञानस्य अनुसारम् अग्निवीरान् पारिश्रमिकेण सह हार्डशिप एलाउंस, यूनिफार्म एलाउंस, कैंटीन सौविध्यं मेडिकल सौविध्यमपि च् ळब्धिष्यति ! इमानि सौविध्य: सम्यक् तेन प्रकारेण ळब्धिष्यति यत् नियमित सैनिकं ळब्धति !

एयरफोर्स की वेबसाइट पर अपलोड की जानकारी के अनुसार अग्निवीरों को सैलरी के साथ हार्डशिप एलाउंस, यूनीफार्म एलाउंस, कैंटीन सुविधा और मेडिकल सुविधा भी मिलेगी ! ये सुविधाएं ठीक उसी तरह से मिलेगी जो एक रेगुलर सैनिक को मिलती हैं !

अग्निवीरेभ्यः वायुसैन्यस्य प्लान-
अग्निवीरों के लिए एयरफोर्स का प्लान-

४ वर्षाय अग्निवीरम् प्रवेशं भविष्यन्ति, ४ वर्षाणि अनंतरम् २५ प्रतिशतस्य निगुक्तिम्, प्रवेशस्योम्रम् अर्धाधिकं सप्तदश तः आरम्भम्, अग्निवीरानां रैंक इति पृथकं भविष्यति, मासस्य वेतन ३० सहस्र रूप्यकाणि, प्रतिवर्षम् निश्चित वेतन वर्धनम्, वर्षे ३० दिवसानि अवकाशम् लब्धिष्यति !

4 साल के लिए अग्निवीर भर्ती होंगे, 4 साल बाद 25% की नियुक्ति, भर्ती की उम्र साढ़े 17 से शुरू, अग्निवीरों का रैंक अलग होगा, महीने का वेतन 30 हजार रुपये, हर साल तय वेतन बढ़ोतरी, साल में 30 दिन छुट्टी मिलेगी !

मेडिकल अवकाशस्य पृथकं व्यवस्थाम्, सेवा काले निधने इंश्योरेंस कवर, कुटुंबम् लगभगम् १ कोटि रूप्यकाणि लब्धिष्यति, सेवाकाले ट्रैवल एलाउंस लब्धिष्यति, सीएसडी कैंटीन इत्या: अपि सौविध्यं लब्धिष्यति, सम्मानस्य अवार्ड इत्या: च् अधिकारिन् भविष्यति !

मेडिकल लीव की अलग व्यवस्था,सेवा काल में मृत्यु पर इन्श्योरेंस कवर, परिवार को करीब 1 करोड़ रुपये मिलेंगे, सेवा काल में ट्रैवल एलाउंस मिलेगा, CSD कैंटीन की भी सुविधा मिलेगी, सम्मान और अवॉर्ड के हकदार होंगे !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here