धैर्यमस्ति तर्हि ? उद्धव ठाकरे केंद्रम् दत्त: दाऊद इब्राहिमस्य हननस्याह्वेयतां, नवाब मलिकस्य कृतः रक्षणम् ! हिम्‍मत है तो ? उद्धव ठाकरे ने केंद्र को दी दाऊद इब्राहिम के खात्‍मे की चुनौती, नवाब मलिक का किया बचाव !

0
175

महाराष्ट्रस्य मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदिण: नेतृत्वक: भाजपासर्वकारम् अह्वेयतान् शुक्रवासरम् कथित: तत यदि धैर्यमस्ति तर्हि तेन दाऊद इब्राहिमस्य हननम् करणीय: !

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली बीजेपी सरकार को चुनौती देते हुए शुक्रवार को कहा कि अगर हिम्‍मत है तो उन्‍हें दाऊद इब्राहिम का खात्‍मा करना चाहिए !

राज्य विधानसभायां स्ववार्ताधृतन् सीएम ठाकरे स्व मंत्रिमंडले सम्मिलित: राष्ट्रवादी कांग्रेस दलस्य नेता नवाब मलिकस्य रक्षणमपि कृतवान, येन पूर्व दिवसानि अंडरवर्ल्ड दस्यु दाऊद इब्राहिमेण संबंधस्य क्रमे अवरुद्ध: स्म !

राज्‍य विधानसभा में अपनी बात रखते हुए सीएम ठाकरे ने अपने मंत्रिमंडल में शामिल राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता नवाब मलिक का बचाव भी किया, जिन्‍हें पिछले दिनों अंडरवर्ल्‍ड डॉन दाऊद इब्राहिम से कनेक्‍शन के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था !

उद्धव ठाकरे मंत्रिमंडलेण नवाबमलिकस्य त्याग पत्रस्य याचनां गृहीत्वा महाराष्ट्र विधानसभायाः बाह्य भाजपा विधायकानां प्रदर्शने प्रतिक्रियाम् व्यक्तन् सीएम कथित:, भवान् नवाब मलिकस्य त्यागपत्रम् याच्यन्ति !

उद्धव ठाकरे मंत्रिमंडल से नवाब मलिक के इस्‍तीफे की मांग को लेकर महाराष्ट्र विधानसभा के बाहर बीजेपी विधायकों के प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करे हुए सीएम ने कहा, आप नवाब मलिक का इस्‍तीफा मांग रहे हैं !

प्रथम मया ज्ञापयतु तत भवान् जम्मू कश्मीरयो महबूबा मुफ्तिम् समर्थनम् कं दत्त: स्म, यस्या: सहानुभूति: अफजल गुरु बुरहान वानी यथातंकिन: रमति ! सा दाऊद इब्राहिमतः नवाब मलिकस्य संबंधस्यारोपान् गृहीत्वापि भाजपायां प्रत्युतरम् कृतः !

पहले मुझे बताइये कि आपने जम्‍मू कश्‍मीर में महबूबा मुफ्ती को समर्थन क्‍यों दिया था, जिनकी सहानुभूति अफजल गुरु और बुरहान वानी जैसे आतंकियों से रही है ! उन्‍होंने दाऊद इब्राहिम से नवाब मलिक के कनेक्‍शन के आरोपों को लेकर भी बीजेपी पर पलटवार किया !

सीएम ठाकरे कथित: यदि दाऊद इब्राहिमेण सह नवाब मलिकस्य वर्षभिः संबंधम् रमति तर्हि केंद्रीय संस्था: इयत् वर्षभिः किं कुर्वन्ति स्म ? महाराष्ट्रे विपक्षस्य नेता देवेंद्र फडणवीसे व्यंगकृतन् सः कथित: तत प्रवर्तन निदेशालयेण तस्य प्रवेशम् करणीयं !

सीएम ठाकरे ने कहा अगर दाऊद इब्राहिम के साथ नवाब मलिक का वर्षों से कनेक्‍शन रहा है तो केंद्रीय एजेंसियां ​​​इतने वर्षों से ​क्या कर रही थीं ? महाराष्‍ट्र में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस पर तंज करते हुए उन्‍होंने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा उनकी भर्ती की जानी चाहिए !

यथा तत सः कुत्रैव यं प्रत्यां साक्ष्य भवितं येन च् ईडी इतम् प्रदत्तस्य दृढ़कथनम् कृतवान ! सः प्रश्नम् कृतः तत सः कुत्रास्ति ? कुत्रास्ति दाउद: ? का कश्चित ज्ञायति तत सः कुत्रास्ति ? नवाब मलिकम् ईडी २३ फरवरिम् अवरुद्ध: स्म !

जैसा कि उन्होंने कहीं इस बारे में साक्ष्‍य होने और इसे ED को सौंपने का दावा किया है ! उन्‍होंने सवाल किया, कहां है दाऊद ? क्‍या कोई जानता है कि वह कहां है ? नवाब मलिक को ED ने 23 फरवरी को दाऊद इब्राहिम मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार किया था !

भाजपामह्वेयतान् महाराष्ट्रस्य सीएम कथित: भवान् पूर्वनिर्वाचनं राममंदिरस्य नामनि रणित: स्म, अधुना अग्रिम निर्वाचने का दळम् दाऊद इब्राहिमस्य नामनि मतम् याचने गच्छति ? का (अमेरिकायाः पूर्व राष्ट्रपति) ओबामा (अलकायदा प्रमुख: ओसामा बिन) लादेनस्य नामनि मतम् याचित: स्म ?

बीजेपी को चुनौती देते हुए महाराष्‍ट्र के सीएम ने कहा आपने पिछला चुनाव राम मंदिर के नाम पर लड़ा था, अब अगले चुनाव में क्‍या पार्टी दाऊद इब्राहिम के नाम पर वोट मांगने जा रही है ? क्या (अमेरिका के पूर्व राष्‍ट्रपति बराक) ओबामा ने (अलकायदा सरगना ओसामा बिन) लादेन के नाम पर वोट मांगे थे ?

यदि भवति धैर्यमस्ति तर्हि दाऊद इब्राहिमस्य हननम् कृत्वा प्रदर्शयतु ! का भवान् कर्तुं शक्नोतीदृशं ? सः वर्तमानदिवसेषु स्वपुत्र आदित्य ठाकरेस्य मित्राणां वासेषु आईटी इत्या: अनुसन्धानान् गृहीत्वापि भाजपा सर्वकारमवरुद्ध: कथित: च् सर्वाणि तेन कारागारे क्षिपस्य कुचक्रमस्ति, तु तं भेष्यति न !

अगर आपमें हिम्‍मत है तो दाऊद इब्राहिम का खात्‍मा करके दिखाइये ! क्‍या आप कर सकते हैं ऐसा ? उन्‍होंने हाल के दिनों में अपने बेटे आदित्य ठाकरे के करीबियों के ठिकानों पर IT के छापों को लेकर भी बीजेपी सरकार को घेरा और कहा कि यह सब उन्‍हें जेल में डालने की साजिश है, लेकिन वे डरेंगे नहीं !

न्यायालये साक्ष्यानां आवश्यकतां भवति तस्याधारे निर्णयानि भवन्ति ! सः अह्वेयतापूर्णस्वरे कथित: मया कारागृहे क्षिपानि ! अहमिदम् न कुर्यामि तताहं कृष्णोस्मि, तु का भवान् कथितुं शक्नोति तत भवान् कंस: नास्ति ?

कोर्ट में सबूतों की जरूरत होती है और उसके आधार पर फैसले होते हैं ! उन्‍होंने चुनौती भरे लहजे में कहा मुझे जेल में डाल दीजिये ! मैं ये नहीं कर रहा हूँ कि मैं कृष्ण हूँ, लेकिन क्या आप कह सकते हैं कि आप कंस नहीं हैं ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here