39.1 C
New Delhi

उत्तरप्रदेशस्य ततासनं, यत्र जयेण-पराजयेण निश्चितं भवति लक्ष्मणनगरे क: करिष्यति राज्यं महाभारत कालेणास्ति संबंधम् ! यूपी की वो सीट, जहां हार-जीत से तय होता है लखनऊ में कौन करेगा राज ! महाभारत काल से है नाता !

Date:

Share post:

उत्तरप्रदेशे विधानसभा निर्वाचनस्य प्रथम चरणाय मतदानमभवत् ! येषु आसनेषु प्रथम चरणस्यानुरूपं अद्य मतदानमभवत्, येषु पश्चिमी उत्तरप्रदेशस्य हस्तिनापुर विधानसभा आसनमपि अस्ति ! हस्तिनापुर यत्रैतिहासिक रूपेण स्वभिन्नं महत्वम् ध्रीति !

उत्‍तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान हुए ! जिन सीटों पर पहले चरण के तहत आज मतदान हुआ, उनमें पश्चिमी यूपी की हस्तिनापुर विधानसभा सीट भी है ! हस्तिनापुर जहां ऐतिहास‍िक रूप से अपना अलग महत्‍व रखता है !

तत्रैव येन गृहीत्वा एकं रोचकतथ्यमपि उत्तरप्रदेशस्य राजनित्या संलग्नमस्ति ! हस्तिनापुरं गृहीत्वा तथ्यं इदमस्ति तत १९५७ तमे विधानसभासनं निर्माणस्य अनंतरेण अत्र येन दळम् जयमलभत्, तैव प्रदेशे सर्वकारनिर्माणे साफल्यं लभते ! १९५० तमस्य दशकातारंभितं इदं क्रम २०१७ तमैव निरंतररमितं !

वहीं इसे लेकर एक रोचक तथ्‍य भी यूपी की राजनीति से जुड़ा है ! हस्तिनापुर को लेकर तथ्‍य यह है कि 1957 में विधानसभा सीट बनने के बाद से यहां जिस पार्टी को जीत मिली है, वही प्रदेश में सरकार बनाने में सफल रही है ! 1950 के दशक से शुरू हुआ यह सिलसिला 2017 तक जारी रहा !

यदा राज्ये भाजपायाः नेतृत्वे सर्वकारस्य गठनम् अभवत् ! इदृशेषु यस्मिन् एकदा पुनः सर्वानां दृष्टिम् स्थिराः तत अंततः २०२२ तमस्य निर्वाचनस्य परिणाम कं भवति कः चेकदा पुनः अत्रतः जयकतृ दलमेव राज्ये सर्वकारः निर्मिष्यति ? हस्तिनापुरस्य स्वैतिहासिक महत्वमस्ति !

जब राज्‍य में बीजेपी की अगुवाई में सरकार का गठन हुआ ! ऐसे में इस पर एक बार फिर सभी की नजरें टिकी हुई हैं कि आखिर 2022 के चुनाव का नतीजा क्‍या होता है और क्‍या एक बार फिर यहां से जीत दर्ज करने वाली पार्टी ही राज्‍य में सरकार बनाएगी ? हस्तिनापुर का अपना ऐतिहासिक महत्‍व है !

यस्य सरलसंबंधम् महाभारत कालेणास्ति ! इतिहासे इदम् कुरुवंशस्य राजधान्या: रूपे वर्णितमस्ति, यस्मै कदापि कुरुणां पाण्डवानां च् मध्य युद्धमपि अभवतां स्म ! अतीते अभवन् यूपीविधानसभायाः निर्वाचनानि अत्र सर्वकारनिर्मातृषु दलेषु च् दृष्टिपाताः तर्हि !

इसका सीधा संबंध महाभारत काल से है ! इतिहास में यह कुरुवंश की राजधानी के तौर पर वर्णित है, जिसके लिए कभी कौरवों और पांडवों के बीच युद्ध भी हुआ था ! अतीत में हुए यूपी विधानसभा के चुनावों और यहां सरकार बनाने वाली पार्टियों पर नजर डालें तो !

१९५७ तमे अत्रतः कांग्रेसस्य बिशांभर सिंह: जयं कृतः स्म तत च् निर्वाचनस्यानंतरम् दळमत्र सर्वकारः निर्मीतं स्म ! इदम् क्रम १९६७ तमस्य निर्वाचनमेव निरंतररमति स्म ! वर्षम् १९६९ तमे कांग्रेसमिदम् आसनम् पराजितं स्म भारतीय क्रांति दळम् चत्रतः जयं पंजीकृतं स्म, यस्य गठन चौधरी चरण सिंह: कांग्रेसतः पृथकभूत्वा कृतवान स्म !

1957 में यहां से कांग्रेस के ब‍िशांभर सिंह ने जीत दर्ज की थी और उस चुनाव के बाद पार्टी ने यहां सरकार बनाई थी ! यह सिलसिला 1967 के चुनाव तक जारी रहा था ! वर्ष 1969 में कांग्रेस यह सीट हार गई थी और भारतीय क्रांति दल ने यहां से जीत दर्ज की थी, जिसका गठन चौधरी चरण सिंह ने कांग्रेस से अलग होकर किया था !

१९६९ तमे सः उत्तरप्रदेशस्य सीएम अभवत् ! तु १९७४ तमे इदम् आसनम् पुनः कांग्रेसस्य अंशे गतवान दळमत्र सर्वकारनिर्माणे साफल्यं भूतं ! १९७७ तमे अत्रतः जनता दळम् जयं ळब्धं दलस्य च् नेता रामनरेश यादव: अत्र सीएम भूत: ! वर्षं १९८० तमे पुनः कांग्रेसम् (I) जयं ळब्धं विश्वनाथ प्रताप सिंह: च् सीएम भूत: !

1969 में वह यूपी के सीएम बने ! लेकिन 1974 में यह सीट फिर से कांग्रेस के खाते में गई और पार्टी यहां सरकार बनाने में सफल रही ! 1977 में यहां से जनता पार्टी ने जीत हासिल की और पार्टी के नेता राम नरेश यादव यहां सीएम बने ! वर्ष 1980 में फिर कांग्रेस (I) ने जीत हासिल की और विश्‍वनाथ प्रताप सिंह सीएम बने !

१९८५ तमे अपि कांग्रेसम् अत्रतः जये उत्तरप्रदेशे च् सर्वकारनिर्माणे साफल्यं रमितं ! १९८९ तमे अत्रतः जनता दलस्य (सोशलिस्ट) प्रत्याशिन् जयं ळब्धं तमेव वर्षम् च् मुलायम सिंह यादव: राज्यस्य सीएम अभवत् ! यस्यानंतरम् १९९६ तमे अभवत् निर्वाचने बहुजन समाज दळमत्रतः जयं ळब्धं सर्वकारनिर्माणे च् साफल्यं रमितं !

1985 में भी कांग्रेस यहां से जीतने और यूपी में सरकार बनाने में कामयाब रही ! 1989 में यहां से जनता दल (सोशलिस्‍ट) के प्रत्‍याशी ने जीत हासिल की और उसी साल मुलायम सिंह यादव राज्‍य के सीएम बने ! इसके बाद 1996 में हुए चुनाव में बहुजन पार्टी ने यहां से जीत हासिल की और सरकार बनाने में सफल रही !

तु पुनः २००२ तमस्य निर्वाचने सपात्र जयं पंजीकृतं सर्वकारः च् निर्मीतं ! वर्ष २००७ तमे बसपायाः निर्वाचनपत्रे योगेश वर्मात्रतः जय: मायावती च् राज्यस्य सीएम भूता ! २०१२ तमस्य निर्वाचने इदम् आसनं सपायाः अंशे आगतवन्तः अखिलेश यादवस्य नेतृत्वे दळम् उत्तरप्रदेशे सर्वकारः निर्मीत: !

लेकिन फिर 2002 के चुनाव में सपा ने यहां जीत दर्ज की और सरकार बनाई ! साल 2007 में बसपा के टिकट पर योगेश वर्मा यहां से जीते और मायावती राज्‍य की सीएम बनीं ! 2012 के चुनाव में यह सीट सपा के खाते में गई और अखिलेश यादव के नेतृत्‍व में पार्टी ने यूपी में सरकार बनाई !

वर्ष २०१७ तमस्य निर्वाचनं भाजपात्र जयं पंजीकृतं यस्यानंतरम् योगी आदित्यनाथस्य नेतृत्वे दळमत्र सर्वकारस्य गठनम् कृतवान ! इदमेव कारणमस्ति तताधुनैकदा पुनः हस्तिनापुरे सर्वानां दृष्टिम् स्थिरा: तत अंततः इतिदात्रतः केषां जयं भवति कस्मिनेव दळम् उत्तरप्रदेशे सर्वकारनिर्माणे साफल्यं भवति !

साल 2017 के चुनाव बीजेपी ने यहां जीत दर्ज की, जिसके बाद योगी आदित्‍यनाथ की अगुवाई में पार्टी ने यहां सरकार का गठन किया है ! यही वजह है कि अब एक बार फिर हस्तिनापुर पर सभी की नजरें टिकी हैं कि आखिर इस बार यहां से किसकी जीत होती है और कौन सी पार्टी यूपी में सरकार बनाने में सफल होती है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

पञ्जाबे सर्वाः जी मीडिया चैनल प्रतिबन्धिताः, एषा पत्रिका-स्वातन्त्र्यस्य उपरि आक्रमणं नास्ति वा ? पंजाब में जी मीडिया के सभी चैनल बैन, क्या यह प्रेस...

पञ्जाबे सर्वाः जी न्यूज चैनल प्रतिबन्धिताः सन्ति। चैनल तस्य घोषणा कृता अस्ति ! पञ्जाबे जी-मीडिया इत्यस्य सर्वाः चैनल...

६ जैन साध्व्यः मार्गेण गच्छन्तः आसन्, अल्ताफ् हुसैन् शेखः प्रथमं तान् अनुधावन् ततः पट्ट्या प्रहारं कृतवान् ! सड़क से गुजर रहीं थी 6 जैन...

गुजरातस्य भरूच्-नगरे, अल्ताफ् हुसैन् शेख् नामकः एकः पुरुषः मार्गे गच्छतां जैन साध्वीं आक्रान्तवान्। जैनः साध्वीं आक्रमनात् पूर्वं दीर्घकालं...

फतेहपुरस्य शिव-कवितायो: पुनः गृहागमनस्य कथा ! फतेहपुर के शिव-कविता की घरवापसी की कहानी !

उत्तरप्रदेशस्य फ़तेह्पुर्-नामकस्य उजाड़ेग्रामे, २० वर्षेभ्यः पूर्वं इस्लाम्-मतं स्वीकृत्य वञ्चितः एकः हिन्दु-दम्पती इदानीं हिन्दु-मतं प्रति प्रत्यागतः अस्ति! शिवप्रसादलोधिः, कविता...

वाहिद कुरैशी इत्यनेन मथुरायाः पञ्जाबी बाजार इत्यस्य नाम इस्लामिक बाजार इति परिवर्तितम् ! मथुरा की पंजाबी बाजार के नाम को वाहिद कुरैशी ने बदलकर...

उत्तरप्रदेशस्य मथुरा-जनपदस्य कोसिकलां ग्रामे एकः मुस्लिम्-दुकानदारः विपण्याः नाम परिवर्तितवान्। सः स्वस्य स्थानात् प्रदत्तानां वस्तूनां प्रचारसामग्रीनां च सञ्चिकासु पञ्जाबी-बजार्...