25.1 C
New Delhi

हिंदू बालकौ वधिकौ साजिदस्य परिजना: कुर्वन्ति पृथक-पृथक दृढ़कथनानि ! हिंदू बच्चों के हत्यारे साजिद के परिजन कर रहे अलग-अलग दावे !

Date:

Share post:

उत्तरप्रदेशस्य बदायूं इत्यां १९ मार्च २०२४ तमम् २ हिंदू बालकयो: ग्रीवा कर्तनस्य मुख्यारोपिन् साजिदमारक्षकः अग्रिम दिवसं एके समाघाते अहनत् ! साजिदस्य भ्रात घटनायाः च् द्वितीय आरोपिन् जावेद: बंधनमभवत् तेन चारक्षकः कारागारमप्रेषत् !

उत्तर प्रदेश के बदायूँ में 19 मार्च 2024 को 2 हिन्दू बच्चों का गला रेतने के मुख्य आरोपित साजिद को पुलिस ने अगले दिन एक मुठभेड़ में मार गिराया ! साजिद का भाई और घटना का दूसरा आरोपित जावेद गिरफ्तार हो चुका है और उसे पुलिस ने जेल भेज दिया है !

अस्मिन् पूर्ण प्रकरणे आरोपिनौ: तस्य च् परिजनानां कथनेषु बहु विरोधाभास निःसृत्य संमुख: आगच्छन् ! यदि आरोपिन् जावेदस्य तस्य च् कुटुंबिनानां कथनानां आधारे अनुसंधानं कुर्वन्तु तु वधिकयो: रोजा धृते, साजिदस्य भार्या जावेदस्य च् लोकेशन इत्यां पृथक-पृथक निष्कर्ष निःसृत्य संमुख: आगमिष्यन्ति !

इस पूरे मामले में आरोपितों और उनके परिजनों के बयानों में काफी विरोधाभास निकल कर सामने आया है ! अगर आरोपित जावेद और उसके घर वालों के बयानों के आधार पर जाँच की जाए तो कातिलों के रोजा रखने, साजिद की बीवी और जावेद की लोकेशन पर अलग-अलग निष्कर्ष निकल कर सामने आएँगे !

एतेषां कथनेषु आरक्षकस्य च् रहस्योद्घाटने अपि बहु भिन्नता सन्ति ! आरोपिन् जावेदस्य लोकेशन इत्यां अपि संशय: ! प्राथमिक्या: अतिरिक्तं, मृतकानां सहवासिनां दृढ़कथनानि सन्ति तत द्वयो: निर्दोषयो: काळम् जावेद: गृहस्यैव अधो आसीत् ! आईजी राकेश कुमार सिंहरपि स्वकथने जावेदस्य घटनास्थले उपस्थित्या: वार्ताकथयत् !

इन सभी के बयानों और पुलिस के खुलासे में भी काफी अंतर है ! आरोपित जावेद की लोकेशन पर भी संशय है ! FIR के अलावा, मृतकों के पड़ोसियों का दावा है कि दोनों मासूमों की हत्या के समय जावेद घर के ही नीचे था ! IG राकेश कुमार सिंह ने भी अपने बयान में जावेद के घटनास्थल पर मौजूदगी की बात कही है !

यः घटनायाः अनंतरम् गोपितं अभवत् स्म ! आरक्षकस्य प्राथमिक्या: च् विपरीत:, जावेदस्य लोकेशन इत्यस्य प्रकरणे तस्य परिजनानां सखानू ग्रामस्य च् केचन वासिनां पृथक दृढ़ कथनानि सन्ति ! जावेदस्य पितामही ऑप इंडियाम् अज्ञापत् घटनायाः काळम् जावेद: स्व ग्रामे एवासीत् मृत्तिका चुत्खनति स्म !

जो वारदात के बाद फरार हो गया था ! पुलिस और FIR कॉपी के उलट, जावेद की लोकेशन के मामले में उसके परिजनों और सखानू गाँव के कुछ निवासियों के अलग ही दावे हैं ! जावेद की दादी ने ऑपइंडिया को बताया कि घटना के समय जावेद अपने गाँव में ही था और मिट्टी खोद रहा था !

अस्माभिः एकं स्थानमपि अप्रदर्शयत् यत्र गर्त आसीत् ! जावेदस्य पितामही अस्माभिः अज्ञापत्, ता स्वगृहे मृत्तिका उत्खनति स्म ! तेन कश्चितैव दूरभाष कृत्वाज्ञापत् तत भ्रात साजिदस्य कलहमभवत् ! तः कार्य त्यज्य बदायूं अपलायत् तत्र चारक्षकः तेन बंधनमकरोत् ! जावेदस्य संबंधिना रुखसाना सहवासिन् च् मुजफ्फर: अपि जावेदेण मृत्तिका उत्खनस्य वार्ता पुनः-पुनः अकथताम् !

हमें एक जगह भी दिखाई गई, जहाँ गड्ढा था ! जावेद की दादी ने हमें बताया, वो अपने घर पर मिट्टी खोद रहा था ! उसे किसी ने फोन करके बताया कि भाई साजिद का झगड़ा हो गया है ! वो काम छोड़कर बदायूँ भागा और वहाँ पुलिस ने उसे पकड़ लिया ! जावेद की रिश्तेदार रुखसाना और पड़ोसी मुजफ्फर ने भी जावेद द्वारा मिट्टी खोदे जाने की बात दोहराई !

यत् स्थानम् मृतिकौत्खनत् तेन दृष्ट्वा अनुभूति तत तस्याधिकत: अधिकं १ घटक पूर्वमुत्खनन भवितुं भविष्यति ! अधुना प्रश्नमिदमस्ति तत जावेद: केवलं १ घाटकमेव मृत्तिकौत्खनितुं भविष्यति ? केवलं एकस्य घटकस्य कार्यम् पूर्ण दिवसस्य कार्यम् कथनस्य पश्च किमिच्छा रमितुं भविष्यति ? संभवतः भविष्ये इदमपि अनुसंधानस्य विषय: अभवत् !

जिस जगह मिट्टी खोदी गई है उसे देख कर लगता है कि उसकी अधिक-से-अधिक 1 घंटा पहले खुदाई हुई होगी ! अब सवाल यह ये है कि जावेद ने महज 1 घंटे ही मिट्टी खोदी होगी ? महज एक घंटे के काम को दिन भर का काम बताने के पीछे क्या मंशा रही होगी ? शायद भविष्य में यह भी जाँच का विषय बने !

जावेदस्य बरेल्यां बंधनतः पूर्वम् एकं चलचित्रम् प्रसृतमभवत् स्म ! अस्मिन् चलचित्रे तं घटना स्थले सम्मर्द: दृष्ट्वा भयस्य कारणं पलायस्य दृढ़कथनमकरोत् स्म ! जावेदस्य ग्राम सखानो: बदायूं नगरतः अंतरानुमानतः १५ किलोमीटर अस्ति ! द्वयो: मध्य एकल मार्गमस्ति, यत् कर्मवत् आपणतः च् भूत्वा गच्छति !

जावेद का बरेली में गिरफ्तारी से पहले एक वीडियो वायरल हुआ था ! इस वीडियो में उसने घटनास्थल पर भीड़ देखकर डर के मारे भाग जाने का दावा किया था ! जावेद के गाँव सखानू की बदायूँ शहर से दूरी लगभग 15 किलोमीटर है ! दोनों के बीच सिंगल सड़क है, जो व्यस्त है और बाजार से होकर जाती है !

यदि जावेद: बाइक तः अपि स्वभ्रातु: पार्श्व घटनास्थले गच्छति तु तेन तत्र प्राप्ते न्यूनाति न्यूनम् ४० पलस्य काळम् गच्छति ! इयत् काले आक्रोशिन: सम्मर्द: घटनास्थलस्यापेक्षारक्षक पार्श्वाप्राप्तयत् स्म ! इदृशे बहु प्रश्नम् इदृशः स्थितः भवन्ति तत घटनायाः काळम् जावेद: कुत्रासीत् ?

अगर जावेद बाइक से भी अपने भाई के पास घटनास्थल पर जाता तो उसे वहाँ पहुँचने में कम-से-कम 40 मिनट का समय लगता है ! इतने समय में आक्रोशित भीड़ घटनास्थल के बजाय पुलिस चौकी पहुँच चुकी थी ! ऐसे में तमाम सवाल ऐसे खड़े होते हैं कि घटना के समय जावेद था कहाँ ?

ययो द्वितीय वधप्रकरणयो साजिदस्य भार्या सन्याः उल्लेख मीडिया सोशल मीडिया इत्याम् पूर्व दिवसेण अस्ति ! प्राथमिक्यामपि साजिदेण स्वभार्याम् गर्भवती ज्ञापत्वा पणम् नयस्योल्लेखं अकरोत् ! २१ जनवरीम् आजतक साजिदस्य श्वाश्रुपक्ष ददमई गत्वा सनातः साजिदस्य च् श्वासुतः वार्ता कृतरासीत् !

इस दोहरे हत्याकांड में साजिद की बीवी सना का जिक्र मीडिया और सोशल मीडिया में पहले दिन से है ! FIR में भी साजिद द्वारा अपनी बीवी को गर्भवती बताकर पैसे वसूलने का जिक्र किया गया है ! 21 जनवरी को आजतक ने साजिद की ससुराल ददमई जाकर सना और साजिद की सास मिस्कीन से बात की थी !

अस्मिन् वार्तालापे सन्याः गर्भवती न भूतस्यापि रहस्योद्घाटनमभवत् स्म ! तदा साजिदस्य श्वाश्रुपक्षकाः अयमपि दृढ़कथनम् अकुर्वन् स्म तत सना पूर्व १५ दिवसै: स्वमातृ गृहैवास्ति ! ऑपइंडिया इत्यस्य दलम् यदा साजिदस्य ग्राम सखानू इत्यां प्राप्तवंत: तदा तत्र एतेषां दृढ़ कथनानां विपरीतमेव वार्ता ज्ञातमभवत् !

इस बातचीत में सना के गर्भवती न होने का भी खुलासा हुआ था ! तब साजिद की ससुराल वालों ने यह भी दावा किया था कि सना पिछले 15 दिनों से अपने मायके में ही है ! ऑपइंडिया की टीम जब साजिद के गाँव सखानू में पहुँची तो वहाँ इन दावों के उलट ही बात पता चली !

साजिदस्य पितामही दृढ़कथनमकरोत् तत घटनाया केचन घटकानि पूर्वम् गृहे उपस्थित: साजिद: स्वभार्याया भोजनम् पचितुं अकथयत् स्म ! साजिदस्य पितामह्याः पार्श्वोपस्थिते रुखसाना शानवाज इत्यादि अपि अस्य दृढ़ कथनस्य समर्थने आमकथताम् !

साजिद की दादी ने दावा किया कि घटना से कुछ घंटे पहले घर पर मौजूद साजिद ने अपनी बीवी से खाना बनाने के लिए कहा था ! साजिद की दादी के पास मौजूद रुखसाना और शानवाज आदि भी इस दावे के समर्थन में हाँ में हाँ मिलाते दिखे !

यद्यपि साजिदस्य भार्यायाः लोकेशन इतम् प्रति अधुनैव प्रशासनिक स्तरे कश्चित आधिकारिक अभिज्ञानम् संमुख: नागच्छत् ! आरक्षकः दृढ़ कथनमस्ति तत घटनाया संलग्नेषु बहुसु क्रोणेषु विचार:-विमर्श: चलति ! साजिदस्य भार्या २० मार्चम् एकं अन्य वार्ता चैनल इत्यां अज्ञापत् स्म तत तया स्वपत्योपरि स्थापित: वधस्यारोपम् तस्यानंतरम् च् तस्य एनकाउंटर इत्यादयः अभिज्ञानम् नास्ति !

हालाँकि साजिद की बीवी की लोकेशन के बारे में अभी तक प्रशासनिक स्तर पर कोई आधिकारिक जानकारी सामने नहीं आई है ! पुलिस का दावा है कि घटना से जुड़े तमाम पहलुओं पर विचार-विमर्श चल रहा है ! साजिद की बीवी ने 20 मार्च को एक अन्य न्यूज चैनल पर बताया था कि उसे अपने पति पर लगे हत्या के आरोप और उसके बाद उसके एनकाउंटर आदि की जानकारी नहीं है !

यदि साजिदस्य पितामह्या: दृढ़कथनानि सम्यक् मान्यतु तु निरीहयो: वधस्य त्वरितानंतरम् गृहे दूरभाषागच्छत् ! अस्यैव दूरभाषस्यानंतरम् जावेद: ग्रामतः निःसृतवान् ! तदा गच्छति काळम् तं साजिदेण सह भवन् कलहस्य अभिज्ञानम् गृहे अपि दत्तरासीत् ! इदृशे प्रश्नम् उत्थति तत सत्य साजिदस्य भार्या बदति तस्य च् पितामही वा ?

यदि साजिद की दादी के दावे सही मानें तो मासूमों की हत्या के तुरंत बाद घर पर फोन आया ! इसी फोन के बाद जावेद गाँव से बदायूँ निकल गया ! तब जाते समय उसने साजिद के साथ हुए विवाद की जानकारी घर में भी दी थी ! ऐसे में सवाल उठता है कि सच साजिद की बीवी बोल रहीं है या उनकी दादी ?

जावेद: आरक्षकः पृच्छने अज्ञापत् स्म तत रमजानस्य मासे साजिद: छुरिका क्रीतरासीत् ! यं छुरिकाम् रमजानस्य मासे इफ्तारी इत्यै आमिष इत्यादयः कर्तनाय प्रयुज्ये भवितुं अज्ञापत् स्म ! ऑपइंडिया इत्या वार्तालापस्य काळम् साजिदस्य पितामही यस्य विपरीतं वार्ता अकथयत् !

जावेद ने पुलिस पूछताछ में बताया था कि रमजान के महीने में साजिद ने छुरा खरीदा था ! इस छुरे को रमजान के महीने में इफ्तारी के लिए गोश्त आदि काटने के लिए प्रयोग में होना बताया था ! ऑपइंडिया से बातचीत के दौरान साजिद की दादी ने इसके उलट बातें कहीं !

तस्य पितामही अकथयत् १९ मार्च इत्यस्य सायं अनुमानतः ५ वादनम् साजिद: बदायूं निःसृतेन पूर्वम् स्वभार्याया भोजनम् याचितरासीत् ! ज्ञापयतु तत इस्लामी मान्यतानां अनुरूपम्, रमजानस्य मासे व्रतकर्ताणां सूर्यास्त भवितैव भोजनम् तु अंतरम् जलम् चपि पिबस्याज्ञा न भवति !

उसकी दादी ने कहा कि 19 मार्च की शाम लगभग 5 बजे साजिद ने बदायूँ निकलने से पहले अपनी बीवी से खाना माँगा था ! बता दें कि इस्लामी मान्यताओं के मुताबिक, रमजान के महीने में रोजेदारों को सूर्यास्त होने तक खाना तो दूर पानी भी पीने की इजाजत नहीं होती है !

५ वादनम् सूर्यास्त नाभवत् स्म ! उर्दू पॉइंट इत्यस्यानुरूपम्, देहल्या: आर्श्वपार्श्वस्य च् क्षेत्रेषु इफ्तारी इत्यस्य काळम् सायं ६:३० इत्यस्य अनंतरमस्ति ! इदृशे यदि साजिदस्य रोजा आसीत् तु तं भार्याया भोचनम् किमयाचत् ? यदि साजिद: रोजा नाधरत् स्म तु तस्य भ्रात एवं द्वितीयारोपिन् जावेद: असत्यं किमवदत् ?

5 बजे सूर्यास्त नहीं हुआ था ! उर्दू पॉइंट के मुताबिक, दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में इफ्तारी का समय शाम 6:30 के बाद है ! ऐसे में अगर साजिद का रोजा था तो उसने बीवी से खाना क्यों माँगा ? अगर साजिद ने रोजा नहीं रखा था तो उसका भाई एवं दूसरा आरोपित जावेद ने झूठ क्यों बोला ?

प्रश्नमिदमस्ति तत किं साजिदस्य पितामही सत्यं वदति ? सद्य: निष्कर्षस्य रूपे इदम् मानितुं शक्नोति तत साजिदस्य परिजनानां कथनम् आरक्षकस्य प्राथमिक्या: च् विपरीतम् तु सन्ति एव ते च् परस्परं कथनमपि पृथक: सन्ति !

सवाल यह भी है कि क्या साजिद की दादी सही बोल रही है ? फिलहाल निष्कर्ष के तौर पर यह माना जा सकता है कि साजिद के परिजनों के बयान पुलिस और FIR के विपरीत तो हैं ही और वे एक-दूसरे के बयान भी अलग हैं !

साभार:-ऑपइंडिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

कन्हैया लाल तेली इत्यस्य किं ?:-सर्वोच्च न्यायालयम् ! कन्हैया लाल तेली का क्या ?:-सर्वोच्च न्यायालय !

भवतम् जून २०२२ तमस्य घटना स्मरणम् भविष्यति, यदा राजस्थानस्योदयपुरे इस्लामी कट्टरपंथिनः सौचिक: कन्हैया लाल तेली इत्यस्य शिरोच्छेदमकुर्वन् !...

१५ वर्षीया दलित अवयस्काया सह त्रीणि दिवसानि एवाकरोत् सामूहिक दुष्कर्म, पुनः इस्लामे धर्मांतरणम् बलात् च् पाणिग्रहण ! 15 साल की दलित नाबालिग के साथ...

उत्तर प्रदेशस्य ब्रह्मऋषि नगरे मुस्लिम समुदायस्य केचन युवका: एकायाः अवयस्का बालिकाया: अपहरणम् कृत्वा तया बंधने अकरोत् त्रीणि दिवसानि...

यै: मया मातु: अंतिम संस्कारे गन्तुं न अददु:, तै: अस्माभिः निरंकुश: कथयन्ति-राजनाथ सिंह: ! जिन्होंने मुझे माँ के अंतिम संस्कार में जाने नहीं दिया,...

रक्षामंत्री राजनाथ सिंहस्य मातु: निधन ब्रेन हेमरेजतः अभवत् स्म, तु तेन अंतिम संस्कारे गमनस्याज्ञा नाददात् स्म ! यस्योल्लेख...

धर्मनगरी अयोध्यायां मादकपदार्थस्य वाणिज्यस्य कुचक्रम् ! धर्मनगरी अयोध्या में नशे के कारोबार की साजिश !

उत्तरप्रदेशस्यायोध्यायां आरक्षकः मद्यपदार्थस्य वाणिज्यकृतस्यारोपे एकाम् मुस्लिम महिलाम् बंधनमकरोत् ! आरोप्या: महिलायाः नाम परवीन बानो या बुर्का धारित्वा स्मैक...