34.1 C
New Delhi

हल्द्वान्यां आहतानां सुश्रुषायै अग्रमागतवत् बजरंग दलम् ! हल्द्वानी में घायलों की सेवा के लिए आगे आया बजरंग दल !

Date:

Share post:

हल्द्वान्यां अवैध मदरसा-मस्जिदम् न्यायालयस्य आज्ञायाः अनंतरम् प्रशासनम् धराभीम गृहीत्वा ध्वस्तकर्तुं प्राप्तवत् तु सम्मर्द: उग्राभवन् ! प्रस्तर घातमकुर्वन्, गुलिकाघातमकुर्वन्, बनभूलपुरा आरक्षितस्थानम् पेट्रोलपंप प्रज्जवलयन्, वाहनानि क्षतिग्रस्तमकुर्वन् धराभीमस्य दर्पणमपि अखंडयन् !

हल्द्वानी में अवैध मदरसा-मस्जिद को कोर्ट के आदेश के बाद प्रशासन बुलडोजर लेकर ध्वस्त करने पहुँचा तो भीड़ उग्र हो गई ! पत्थरबाजी की गई, गोलीबारी की गई, बनभूलपुरा थाना व पेट्रोल पंप फूँक दिया गया, गाड़ियाँ क्षतिग्रस्त कर दी गईं और बुलडोजर का शीशा भी फोड़ दिया गया !

आरक्षककर्मिन: जीवितं दग्धस्य प्रयत्नमपि अकुर्वन् ! हिंदू कार्यकर्ता: यत्काळम् पीड़ितानां सहाय्याकुर्वन्, आरक्षकस्य सहाय्याकुर्वन् ! बहवः महिलारक्षककर्मिन: अपि चिकित्सालये सुश्रुषा हेतु प्रेषितुं अभवन् ! अस्य घटनायाः प्रत्यक्षदर्शिन् रमति बजरंग दलस्य एकः कार्यकर्ता ऑपइंडियातः वार्तालापम् कृत्वा प्रत्यक्षस्थितिमज्ञापत् !

पुलिसकर्मियों को जिंदा जलाने का प्रयास भी किया गया ! हिन्दू कार्यकर्ताओं ने इस दौरान पीड़ितों की सहायता की, पुलिस की मदद की ! कई महिला पुलिसकर्मियों को भी अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा ! इस घटना के चश्मदीद रहे बजरंग दल के एक कार्यकर्ता ने ऑपइंडिया से बातचीत करके आँखों देखा हाल बताया !

हल्द्वान्या: वासिन् जोगिंदर सिंह राणा येन एकं दुर्भाग्यपूर्ण घटनाकथयत् ! सः अज्ञापत् तत यदातः सः वयस्क: अभवत्, तदातः इदृशमेव घटना नापश्यत् ! सः अज्ञापत् तत १९९२ तमे बाबरी प्रारूपस्य ध्वंसनस्य काळमुत्पातानि अभवन् स्म, तु तदापि इदृशमेव हिंसा नाभवत् स्म !

हल्द्वानी के रहने वाले जोगिन्दर सिंह राणा ने इसे एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना करार दिया ! उन्होंने बताया कि जब से उन्होंने होश सँभाला है, तब से ऐसी घटना नहीं देखी ! उन्होंने बताया कि 1992 में बाबरी ढाँचे के विध्वंस के समय दंगे भड़के थे, लेकिन तब भी ऐसी हिंसा नहीं हुई थी !

सः अज्ञापत् तत आरक्षके प्रस्तर घातमकुर्वन्, महिलारक्षकानां वस्त्राणि एव विदारयन् ! सः अज्ञापत् तत कीदृश: बनभूलपुरारक्षिस्थानम् पेट्रोल पंप चदग्धताम् ! सः येन भयकर्ता घटना अकथयत् !

उन्होंने बताया कि पुलिस पर पथराव किया गया, महिला सिपाहियों के कपड़े तक फाड़ डाले गए ! उन्होंने बताया कि कैसे बनभूलपुरा थाने और पेट्रोल पंप को आग के हवाले कर दिया ! उन्होंने इसे भय पैदा करने वाली घटना करार दिया !

जोगिंदर सिंह राणाज्ञापत् तत गुरूवासरम् (८ फरवरी, २०२४) रात्र्या: १० वादनम् आरक्षक-प्रशासनस्य अधिकारिभिः तस्य वार्तालापमभवत् स्म, तदा तस्य कथनमासीत् तत हल्द्वान्या: ४ चिकित्सालयेषु १००-१५० ज्ञात आरक्षककर्मिन: सुश्रुषा हेतु आसन् ! हिंदू कार्यकर्ताभिः आरक्षक-प्रशासनम् निवेदनम् अकरोत् तत ते आहता: आरक्षककर्मीनां परिचर्या कुर्यु: !

जोगिन्दर सिंह राणा ने बताया कि गुरुवार (8 फरवरी, 2024) को रात के 10 बजे पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों से उनकी बातचीत हुई थी, तब उनका कहना था कि हल्द्वानी के 4 अस्पतालों में 100-150 ज्ञात पुलिसकर्मी भर्ती थे ! हिन्दू कार्यकर्ताओं से पुलिस-प्रशासन ने निवेदन किया कि वो घायल पुलिसकर्मियों की देखरेख करें !

बजरंग दलस्य कार्यकर्ताज्ञापत् ततारक्षकै: समाघातम् तत् काळम् चलते स्म तेषां च् चिकित्सालयेषु गन्तुं संकटेण परिपूर्णमासीत्, तु रात्रि अर्धाधिकं एकं वादनमेव ते सेवा: दत्तुं रमन्ति ! सः अकथयत् तत तः यत् कारणम् चिंतित: आसीत् कदाचित् केचनमेव मासानि पूर्वम् नूंहे हिंसाभवत् स्म जिहादिन: च् चिकित्सालये विशित्वापि आरक्षकान् हनस्य प्रयत्न: अकुर्वन् स्म !

बजरंग दल के कार्यकर्ता ने बताया कि पुलिस से मुठभेड़ उस समय चल ही रही थी और उनलोगों का अस्पतालों में जाना खतरे से खाली नहीं था, लेकिन रात डेढ़ बजे तक वो लोग सेवाएँ देते रहे ! उन्होंने कहा कि वो इस कारण चिंतित थे क्योंकि कुछ ही महीनों पहले नूँह में हिंसा हुई थी और जिहादियों ने अस्पताल में घुस कर भी पुलिस वालों को मारने का प्रयास किया था !

अतएव, चिकित्सालये हिंदू कार्यकर्ता न केवलं सेवा: कुर्वन्ति स्मापितु सुरक्षा: अपि कुर्वन्ति स्म ! सः अकथयत् ततेदृशमेव कश्चित भयावह परिस्थितिमागच्छति तु प्रति हिंदू कार्यकर्ता: यस्मात् निर्वहने सक्षमा: आसन् ! सः अकथयत् तत यदि भवान् पीड़िता: सन्ति तु भवान् प्रशासनतः अपवादम् कर्तुं शक्नोति, तु यै: आरक्षके घातस्य मार्गमचिनोत् यत् लोकतंत्रे घातमस्ति !

इसीलिए, अस्पताल में हिन्दू कार्यकर्ता न सिर्फ सेवा कर रहे थे बल्कि सुरक्षा भी कर रहे थे ! उन्होंने कहा कि ऐसी कोई विकट परिस्थिति आती है तो हर हिन्दू कार्यकर्ता इससे निपटने में सक्षम था ! उन्होंने कहा कि अगर आप पीड़ित हैं तो आप प्रशासन से शिकायत कर सकते हैं, लेकिन इन्होंने पुलिस पर हमले का रास्ता चुना जो लोकतंत्र पर हमला है !

सः अज्ञापत् तत कीदृश: महिलारक्षक रुदति स्म, कथ्यति स्म तत कीदृश: ता स्वप्राणरक्षित्वा अपलायत् ! बहवः केचन गृहेषु विशित्वा स्वप्राणारक्षन् ! जोगिंदर सिंह राणा यत् काळम् वाल्मीकि समाजस्य जनानां प्रशंसनकथयत् तत स्थानीय वाल्मीकि जनाः आरक्षकेण सह मेलित्वा कार्यमकुर्वन् !

उन्होंने बताया कि कैसे महिला सिपाही रो रही थीं, कह रही थीं कि कैसे वो जान बचा कर भागीं ! कइयों ने कुछ घरों में घुस कर जान बचाई ! जोगिन्दर सिंह राणा ने इस दौरान वाल्मीकि समाज के लोगों की तारीफ करते हुए कहा कि स्थानीय वाल्मीकि लोगों ने पुलिस के साथ मिल कर काम किया !

यद्यपि, यत् काळम् ते बहितः अत्रागत्य वासिनां सत्यापनस्य याचनापि उत्थायन् ! सः अज्ञापत् तत कीदृश: प्लास्टिक इत्यस्य कांच इत्यस्य कूपेषु पेट्रोल परिपूर्ण कृत्वा बम इति अरचन् ! आरक्षकै: मैगजीन इति अलुंठन् ! अवकरेषु अभवन् कुपै: पेट्रोल बम इति अरचन् !

हालाँकि, इस दौरान उन्होंने बाहर से यहाँ आकर बसने वालों के सत्यापन की माँग भी उठाई ! उन्होंने बताया कि कैसे प्लास्टिक व काँच की बोतलों में पेट्रोल डाल कर बम बनाया गया ! पुलिस वालों से मैगजीन भी छीन ली गई ! कूड़े में पड़े बोतलों से पेट्रोल बम बनाया गया !

सः अज्ञापत् ततावकरस्य वणिज्य कर्ता: तैव जनाः सन्ति ! सर्वे मुस्लिमा: एकमेव न भवन्ति, इति विचारके सः अकथयत् तत ते आरक्षके घातकर्तासु एतान् सम्मिलिता: अदर्शन् ! सः अवदत् तत कीदृश: बनभूलपुरारक्षिस्थाने नियुक्त एकस्य आहत: मुस्लिमाधिकारिण: सेवा बजरंग दलका: अकुर्वन्, सहैव तेन गृहमपि अत्यजत् !

उन्होंने बताया कि कूड़े के कारोबार करने वाले वही लोग हैं ! सभी मुस्लिम एक जैसे नहीं होते’ वाले नैरेटिव पर उन्होंने कहा कि उन्होंने पुलिस पर हमला करने वालों में इन सभी को शामिल देखा ! उन्होंने बताया कि कैसे बनभूलपुरा थाने में तैनात एक घायल मुस्लिम अधिकारी की सेवा बजरंग दल वालों ने की, साथ ही उन्हें घर भी छोड़ा !

जोगिंदर सिंह राणाकथयत्, यदि आरक्षकः वाल्मीकि समाजस्य जनाः वा यै: नावरोधयन् तु स्थितिमसाधु अभवन् ! ५-६ सहस्र जनानां सम्मर्द: आसन् ! इयत् न्यून काले इयत् मात्रायां पेट्रोल प्रस्तर वा एकत्रिता: कीदृश: अभवन्, यस्यानुसंधानम् भवनीयम् ! स्पष्टमस्ति, हिंदू कार्यकर्ता: स्वप्राण चिंता नाकुर्वनारक्षकानां सुश्रुषाकुर्वन्, येषां सुरक्षापि अकुर्वन् !

जोगिन्दर सिंह राणा कहा, अगर पुलिस वाले या वाल्मीकि समाज के लोग इन्हें नहीं रोकते तो स्थिति और खराब होती ! 5-6 हजार लोगों की भीड़ थी ! इतनी कम समय में इतनी मात्रा में पेट्रोल या पत्थर इकट्ठा कैसे हुआ, इसकी जाँच होनी चाहिए ! साफ है, हिन्दू कार्यकर्ताओं ने अपनी जान पर खेल कर पुलिस वालों का इलाज कराया, उनकी सुरक्षा भी की !

एकः अन्य प्रत्यक्षदर्शिन् दीपांशु ऑपइंडियातः अज्ञापत् तत महिलारक्षक रुदति स्म, ज्ञापयति स्म तत तयाघाताभवत् ! सः अकथयत्, विचार्यतु, कश्चितैव जनस्योपरि इष्टिकाघात भविष्यति तु तः कति रुदिष्यति ! बहु भयावह स्थितिमासीत् ! घातका: छदितः प्रस्तराणि क्षिपन्ति स्म !

एक अन्य चश्मदीद दीपांशु ने ऑपइंडिया से बताया कि महिला कॉन्स्टेबल रो रही थीं, बता रही थीं कि उन्हें चोट लगी है ! उन्होंने कहा, सोचिए, किसी व्यक्ति के ऊपर ईंट पड़ेगी तो वो कितना रोएगा ! बहुत दर्दनाक मंजर था ! हमलावर छत से पत्थर फेंक रहे थे !

टंकी इत्यां जलस्य स्थानम् प्रस्तराणि परिपूर्णा: आसन् ! चलचित्रम् अन्वेषणे कश्चित प्रस्तर न अलभत् स्म, तानि गोपित्वाधरन् स्म ! वीएचपी इत्यस्य बजरंग दलस्य च् कार्यकर्ता: ब्लड डोनेट अकुर्वन् ! यस्मिन् प्रशासनस्य कश्चित अनृतता नास्ति ! सर्वकारी आज्ञायां ताः ड्यूटी कर्तुं आगच्छन् स्म !

टंकी में पानी की जगह पत्थर भरे थे ! वीडियो सर्वे में कोई पत्थर नहीं मिला था, वो छिपा कर रखे गए थे ! VHP और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने ब्लड डोनेट किया ! इसमें प्रशासन की कोई गलती नहीं है ! सरकारी आदेश पर वो ड्यूटी करने आए थे !

साभार:-ऑपइंडिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

फैजान:, जिशानः, फिरोज: च् एकः वृद्ध आरएसएस कार्यकर्तारं अघ्नन् ! फैजान, जीशान और फिरोज ने बुजुर्ग RSS कार्यकर्ता को मार डाला !

राजस्थानस्य देवालयं प्रति गच्छन् एकः 65 वर्षीयः वृद्धस्य वध: अकरोत् । पूर्वं मृत्युः रोगेण अभवत् इति मन्यन्ते स्म,...

हिंदू बालिका मुस्लिम बालकः च् विवाहः अवैधः मध्यप्रदेशस्य उच्चन्यायालयः ! हिंदू लड़की और मुस्लिम लड़का शादी वैध नहीं-मध्यप्रदेश हाईकोर्ट !

मध्यप्रदेशस्य उच्चन्यायालयेन उक्तम् अस्ति यत् मुस्लिम्-बालकस्य हिन्दु-बालिकायाः च विवाहः मुस्लिम्-विधिना वैधविवाहः नास्ति इति। न्यायालयेन विशेषविवाह-अधिनियमेन अन्तर्धार्मिकविवाहेभ्यः आरक्षकाणां संरक्षणस्य...

भारतं अस्माकं भ्राता अस्ति, पाकिस्तानः अस्माकं शत्रुः अस्ति-अफगानी वृद्ध: ! भारत हमारा भाई, पाकिस्तान दुश्मन-अफगानी बुजुर्ग !

सहवासिन् पाकिस्तान-देशः न केवलं भारतस्य, अपितु अफ्गानिस्तान्-देशस्य च प्रतिवेशिनी अस्ति। अफ़्घानिस्तानस्य जनाः पाकिस्तानं न रोचन्ते। अफ्गानिस्तान्-देशे भयोत्पादनस्य प्रसारकानां...

बृजभूषण शरण सिंहस्य पुत्रस्य यात्रावाहनस्य फार्च्यूनर् इत्यनेन 2 बालकाः मृताः। बृजभूषण शरण सिंह के बेटे के काफिले में शामिल फॉर्च्यूनर से कुचल कर 2...

उत्तरप्रदेशस्य कैसरगञ्ज्-नगरे भाजप-अभ्यर्थी करणभूषणसिङ्घस्य यात्रावाहनस्य फार्च्यूनर् इत्यनेन 3 बालकाः धाविताः। अस्मिन् दुर्घटनायां 2 जनाः तत्स्थाने एव मृताः, अन्ये...