प्रथमसहकारिता सम्मेलने बदित: अमित शाह:, ग्रामीण क्षेत्रेषु विकासम् दत्तमस्ति मंत्रालयस्य लक्ष्यं ! पहले सहकारिता सम्मेलन में बोले अमित शाह, ग्रामीण क्षेत्रों में विकास पहुंचाना है मंत्रालय का लक्ष्य !

0
541

केंद्रीय सहकारिता मंत्री अमित शाह: अद्य सहकारितायाः प्रथम वृहद सम्मेलनम् सम्बोधित: ! इति काळम् सः कथित: तत केंद्रसर्वकारः शीघ्रं नव सहकारिता नीतिमानयस्य तत्परताम् करोति !

केंद्रीय सहकारिता मंत्री अमित शाह आज सहकारिता के पहले विशाल सम्मेलन को संबोधित किया ! इस दौरान उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार जल्द नयी सहकारिता नीति लाने की तैयारी कर रही है !

सहकारिता मंत्री अमित शाह: कथित: तत सहकारिता आंदोलनम् अद्यात्यधिकं प्रासंगिकमस्ति सहकारी संस्थानि च् देशस्य विकासे महत्वपूर्णम् योगदानम् दत्तुम् शक्नोन्ति !

सहकारिता मंत्री अमित शाह ने कहा कि सहकारिता आंदोलन आज अधिक प्रासंगिक है और सहकारी संस्थाएं देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे सकती हैं !

सः कथित: तत सर्वकारः ५००० अर्बुद डॉलर इतस्य अर्थव्यवस्थायाः लक्ष्ये अग्रे बर्ध्यति सहकारी क्षेत्रं च् इति लक्ष्यम् ळब्धे महत्वपूर्ण योगदानम् दाष्यति !

उन्होंने कहा कि सरकार 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य पर आगे बढ़ रही है और सहकारी क्षेत्र इस लक्ष्य को हासिल करने में महत्वपूर्ण योगदान देगा !

स्वसंबोधनस्यारंभन् अमितशाह: कथित: स्वतंत्रतायाः ७५ वर्षस्यानंतरम् इदृशं काले च् यदा सहकारितान्दोलनम् सर्वातधिकमावश्यकतामासीत् तदा देशस्य प्रधानमंत्री महोदयः स्वतंत्र सहकारिता मंत्रालय निर्मित:, अहम् भवत: सर्वान् प्रति तं बहु बहु साधुवाद ज्ञापयामि !

अपने संबोधन की शुरूआत करते हुए अमित शाह ने कहा आजादी के 75 वर्ष के बाद और ऐसे समय पर जब सहकारिता आंदोलन को सबसे ज्यादा जरूरत थी तब देश के प्रधानमंत्री जी ने स्वतंत्र सहकारिता मंत्रालय बनाया, मैं आप सभी की ओर से उनको बहुत-बहुत धन्यवाद देता हूँ !

देशस्य विकासस्याभ्यांतरं सहकारिता बहु महत्वपूर्ण योगदानम् दत्तुं शक्नोति ! देशस्य विकासस्याभ्यांतरं सहकारितायाः योगदानमद्यापि अस्ति ! मया नव प्रकारेण विचार्यतुम् भविष्यति, नवप्रकारेण रेखंकितं कर्तुम् भविष्यति, कार्यस्य प्रारूपं बर्धितुं भविष्यति, पारदर्शितामानीतुम् भविष्यति !

देश के विकास के अंदर सहकारिता बहुत महत्वपूर्ण योगदान दे सकती है ! देश के विकास के अंदर सहकारिता का योगदान आज भी है ! हमें नए सिरे से सोचना पड़ेगा, नए सिरे से रेखांकित करना पड़ेगा, काम का दायरा बढ़ाना पड़ेगा, पारदर्शिता लानी पड़ेगी !

अमितशाह: सहकारिताया: महत्वं रेखांकितं कृतन् कथित: अहमद्य मोदी महोदयमाश्वस्तं कर्तुमिच्छामि तत सहकारिता क्षेत्रमपि भवतः ५ ट्रिलियन डॉलर इतस्य अर्थव्यवस्थां पूर्णयितुं पूर्णशक्तिं व्ययिष्यति !

अमित शाह ने सहकारिता के महत्व को रेखांकित करते हुए कहा मैं आज मोदी जी को आश्वस्त करना चाहता हूँ कि सहकारिता क्षेत्र भी आपके 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी को पूरा करने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा देगी !

सहकारिता आंदोलनम् भारतस्य ग्रामीण समाजस्य प्रगत्यापि करिष्यति नव सामाजिक च् पूंजिण: प्रारूपमपि तत्परकरिष्यति ! भारतस्य जनानां स्वभावे सहकारिताम् मिश्रितमस्ति ! अतएव भारते सहकारिता आंदोलनम् कदा अप्रासंगिकम् भवितुम् न शक्नुतं !

सहकारिता आंदोलन भारत के ग्रामीण समाज की प्रगति भी करेगा और नई सामाजिक पूंजी का कंसेप्ट भी तैयार करेगा ! भारत की जनता के स्वभाव में सहकारिता घुली-मिली है ! इसलिए भारत में सहकारिता आंदोलन कभी अप्रासंगिक नहीं हो सकता !

सहकारितायाः उद्देश्यं ज्ञापन् अमित शाह: कथित: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महोदयः यत् सहकारिता मंत्रालयं निर्मितमस्ति तस्य ग्रामीण क्षेत्रे विकासम् नयस्योद्देश्यमस्ति !

सहकारिता का उद्देश्य बताते हुए अमितशाह ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने जो सहकारिता मंत्रालय बनाया है उसका ग्रामीण क्षेत्र में विकास को पहुंचाने का उद्देश्य है !

अद्य देशे अनुमानतः ९१ प्रतिशतं ग्रामानि इदृशमस्ति तत्र लघु दीर्घ कश्चितं न कश्चित सहकारी संस्था कार्यं करोति ! विश्वे कश्चित इदृशं देशम् न भविष्यति यस्य ९१ प्रतिशतम् ग्रामेषु सहकारितौपस्थितमसि !

आज देश में लगभग 91% गांव ऐसे हैं जहां छोटी-बड़ी कोई न कोई सहकारी संस्था काम करती है ! दुनिया में कोई ऐसा देश नहीं होगा जिसके 91% गांव में सहकारिता उपस्थित हो !

सहकारितामंत्रालय कॉपरेटिव संस्थान् कठोर कर्तुम्, तेन अग्रम् बर्धितुम्, तेनाधुनिकं निर्मितुम्, तेन पारदर्शी निर्मितुम्, तेन प्रतिस्पर्धायां स्थितुमिव निर्मितमस्ति !

सहकारिता मंत्रालय कॉ-ऑपरेटिव संस्थाओं को मजबूत करने, उन्हें आगे बढ़ाने, उन्हें आधुनिक बनाने, उन्हें पारदर्शी बनाने, उन्हें प्रतिस्पर्धा में टिके रखने के लिए ही बनाया गया है !

कृषिक्षेत्रस्योल्लेख कृतन् अमितशाह: कथित: कृषि क्षेत्रे पूर्व सप्त वर्षेषु मोदीमहोदयः पूर्णरूपेण परिवर्तनमानीत: ! २००९-१० इत्ये कृषि बजट १२००० कोटि रूप्यकाणि आसीत् ! २०२०-२१ इत्ये कृषि बजटम् बर्धित्वा १३४४९९ कोटि रूप्यकाणि मोदी सर्वकारे कृतः !

कृषि क्षेत्र का जिक्र करते हुए अमित शाह ने कहा कृषि क्षेत्र में पिछले सात वर्ष में मोदी जी आमूलचूल परिवर्तन लाए हैं ! 2009-10 में कृषि बजट 12,000 करोड़ रुपये था ! 2020-21 में कृषि बजट को बढ़ाकर 1,34,499 करोड़ रुपये मोदी सरकार में किया गया !

वयं निश्चितं कृतवान तत केचन कालस्याभ्यांतरं नव सहकारी नीतिम् यत् पूर्व २०२२ तमे अटल महोदयः गृहीत्वा नयतु स्माधुना च् २००२ तमे मोदी महोदयः गृहीत्वागमिष्यति ! स्वतंत्रतायाः अमृतमहोत्सवे नव सहकारी नीतिम् निर्माणस्य वयमारंभम् करिष्यामि !

हमने तय किया है कि कुछ समय के अंदर नई सहकारी नीति जो पहले 2002 में अटल जी लेकर आए थें और अब 2022 में मोदी जी लेकर आएंगे ! आजादी के अमृत महोत्सव में नई सहकारी नीति को बनाने की हम शुरुआत करेंगे !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here