38.1 C
New Delhi

लाउडस्पीकर कलहम्, पीएफआई इत्या: भर्त्सकः देहली हिंसायां च् स्पष्टम् बदित: राज ठाकरे ! लाउडस्पीकर विवाद, पीएफआई की धमकी और दिल्ली हिंसा पर खुलकर बोले राज ठाकरे !

Date:

Share post:

मस्जिदेषु स्थापितानि लाउडस्पीकर इतम् गृहीत्वा मनसे प्रमुख: राज ठाकरेण दत्तन् कथनम् गृहीत्वा एतानि दिवसानि राजनीतिक कथानकानि बहु भवति ! इति मासस्यारंभे स्व द्वौ गोष्ठयो: मनसे प्रमुख: राज ठाकरे अह्वेयता दत्तमासीत् तत यदि मस्जिदेभ्यः लाउडस्पीकर न निर्वर्तितं !

मस्जिदों पर लगे लाउडस्पीकर को लेकर मनसे प्रमुख राज ठाकरे द्वारा दिए गए बयान को लेकर इन दिनों राजनीतिक बयानबाजी खूब हो रही है ! इस महीने की शुरुआत में अपनी दो रैलियों में मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने चेतावनी दी थी कि अगर मस्जिदों से लाउडस्पीकर नहीं हटाया गया !

तर्हि यस्य धार्मिकस्थलानां संमुखम् तीव्रस्वरेण हनुमान चालीसायाः पाठम् भविष्यति ! राज ठाकरे राज्यसर्वकारम् त्रीणि मईतः पूर्व तस्य याचनायां कार्यवाहिम् कृतस्य सूचनामपि दत्त: ! भाजपाम् राज ठाकरे इत्या: याचनां गृहीत्वा तस्य समर्थनम् कृतम् अस्ति ! राज्यस्येति कथनं गृहीत्वा कांग्रेस, शिवसेना एनसीपी च् तस्य बहु आलोचनाम् कृतमस्ति !

तो इनके धार्मिक स्थलों के सामने जोर-जोर से हनुमान चालीसा का पाठ होगा ! राज ठाकरे ने राज्य सरकार को तीन मई से पहले उनकी मांग पर कार्रवाई करने का अल्टीमेटम भी दिया ! भाजपा ने राज ठाकरे की मांग को लेकर उनका समर्थन किया है ! राज के इस बयान को लेकर कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी ने उनकी खूब आलोचना की है !

संजय राउत: तर्हि राज्यस्य तुलना ओवैसिणा कृतः ! मीडियातः वार्ताकृतन् राज: स्वपुरातन कथनम् पुनः कथित: ! पीएफआई इत्या: उद्दत: तर्हि, त्यजितुं न इत्यकं भर्त्सकं गृहीत्वा पृच्छन् प्रश्ने राज ठाकरे कथित: तर्हि तस्यानंतरं तर्हि का वयं इदृशमेव तिष्ठतुं रमिष्यामः ? वयं अपि तर्हि न त्यजिष्यामः !

संजय राउत ने तो राज की तुलना ओवैसी से कर दी ! मीडिया से बात करते हुए राज ने अपने पुराने बयान को फिर दोहराया है ! पीएफआई की छेड़ा तो, छोडेंगे नहीं वाली धमकी को लेकर पूछे गए सवाल पर राज ठाकरे ने कहा तो उसके बाद तो क्या हम ऐसे ही बैठे रहेंगे ? हम भी तो नहीं छोड़ेंगे !

अयम् चस्माकं उपरि इमानि वस्तूनि नानयतु तर्हीव समीचीनमस्ति ! वयं शांति वांछामः ! वयं कश्चितस्य प्रार्थनाम् अवरूद्धितुं नेच्छामः नैव तस्य विरुद्धम् सन्ति ! वयं इच्छामः मस्जिदानां उपरि यत् लाउडस्पीकर स्थापिता: संपूर्ण देशे, यत् विधिसंमत न सन्ति तेन निस्सरितं ! यत् मस्जिदानां मौलविण: सन्ति मुस्लिमा: सन्ति !

और ये हमारे ऊपर ये सारी चीजें ना लाए तो ही बेहतर है ! हम लोग शांति चाहते हैं ! हम किसी की प्रार्थना को बंद नहीं करना चाहते हैं, ना ही उसके खिलाफ हैं ! हम चाहते हैं मस्जिदों के ऊपर जो लाउडस्पीकर लगाए हैं देशभर में, जो गैर-कानूनी हैं उसे निकालें ! जो मस्जिदों के मौलवी हैं या मुस्लिम हैं !

यदि तै: अनुभवन्ति तत तस्य धर्मेति देशेण विध्या वा वृहत्तरः अस्ति तर्हि तत तर्हि अस्ति न ! देहल्या: जहांगीरपुर्यामभवत् हिंसाम् गृहीत्वापृच्छत् प्रश्ने राज ठाकरे कथित: मयानुभवामि ततेदृशानि वस्तुनां उत्तरं तादृशानि इव दानीयं तान् जनान् ! न तर्हि तान् जनान् अवगम्यितुं नागमिष्यति ! मम संपूर्णदेशस्य देशभक्ताः हिंदून् इदमेव कथनमस्ति तत ३ मई एव वयं विरमिता: !

अगर उन्हें लगता है कि उनका धर्म इस देश या कानून से बड़ा है तो वो तो है नहीं ! दिल्ली के जहांगीरपुरी में हुई हिंसा को लेकर पूछे गए सवाल पर राज ठाकरे ने कहा मुझे लगता है कि ऐसी चीजों का जवाब वैसे ही देना चाहिए उन लोगों को ! नहीं तो उन लोगों को समझ में नहीं आएगा ! मेरा देशभर के देशभक्त हिंदुओं को यही कहना है कि 3 मई तक हम रूकें !

तस्यानंतरम् यत् मस्जिदतः लाउडस्पीकर न निस्सारयति तर्हि तस्यबाह्य हनुमान चालीसा वादयन्तु ! ताः पंचदा अजानस्य नमाज पठिष्यन्ति तर्हि वयं पंचदा तस्य बाह्य हनुमान चालीसा पठिष्यामः ! लाउडस्पीकर इत्या: प्रकरणं धार्मिक न सामाजिकमस्ति, यदा राज ठाकरेणापृच्छत् तत गृह मंत्री कथ्यति तत लाउडस्पीकर स्थापन विधिसंमत नास्ति !

उसके बाद जो मस्जिद से लाउडस्पीकर नहीं निकालता है तो उसके बाहर हनुमान चालीसा लगाएं ! वो पांच बार अजान की नमाज पढ़ेंगे तो हम पांच बार उसके बाहर हनुमान चालीसा पढ़ेंगे ! लाउडस्पीकर का मामला धार्मिक नहीं सामाजिक है, जब राज ठाकरे से पूछा गया कि गृह मंत्री कहते हैं कि लाउडस्पीकर लगाना गैर कानूनी नहीं है !

अपितु तस्य स्वरम् गृहीत्वा विधिमस्ति, तर्हि यस्य उत्तरम् दत्तन् राज ठाकरे कथित: वयं यदा राजनैतिक गोष्ठिम् कुर्यामः तर्हि अस्माभिः आज्ञाम् नीतुं भवामः न ! तर्हि यान् प्रतिदिन यत् इदम् पंचदा प्रार्थनाम् कुर्वन्ति, कं यै: आज्ञाम् ददाति !

बल्कि उसकी आवाज को लेकर कानून है, तो इसका जवाब देते हुए राज ठाकरे ने कहा हम जब राजनैतिक रैली करते हैं तो हमें परमिशन लेनी पड़ती है ना ! तो इनको रोज जो ये पांच बार प्रार्थना करते हैं, कौन इन्हें परमिशन देता है !

यदि अस्माकं गणपत्या: नवरात्र्या: वौत्सवं भवामि तर्हि अस्माभिः आज्ञाम् नीतुं भवाम:, लाउडस्पीकर इत्या: ! इमे कदाज्ञाम् याच्यन्ति ! मयानुभवामि तत बहु अभवत् इमानि ! अद्यैव सर्वे जनाः स्वीकृतन् आगताः !

अगर हमारा गणपति या नवरात्रि का त्योहार होता है तो हमें परमिशन लेनी पड़ती है, लाउडस्पीकर की ! ये कब परमिशन मांगते हैं ! मुझे लगता है कि बहुत हो गया है ये सब ! आज तक सब लोग बर्दाश्त करते हुए आए हैं !

मुस्लिमसमाजमपि अवगम्यतुं आगमनीयं तत इदम् कश्चित धार्मिक प्रकरणं नास्ति अपितु सामाजिक प्रकरणं अस्ति ! यस्मिन् मस्जिदानां न कश्चित वार्ता आगच्छति नैव च् प्रार्थनायाः कश्चित वार्तागच्छति ! वार्तास्ति केवलं लाउडस्पीकर इत्या: मयानुभवामि तत लाउडस्पीकर इत्या: कश्चितावश्यकतां नास्ति !

मुस्लिम समाज को भी समझ में आना चाहिए कि ये कोई धार्मिक इश्यू नहीं है बल्कि सामाजिक इश्यू है ! इसमें मस्जिदों की ना कोई बात आती है और ना ही प्रार्थना की कोई बात नहीं आती है ! बात है सिर्फ लाउडस्पीकर की और मुझे लगता है कि लाउडस्पीकर की कोई जरूरत नहीं है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

भारतं अस्माकं भ्राता अस्ति, पाकिस्तानः अस्माकं शत्रुः अस्ति-अफगानी वृद्ध: ! भारत हमारा भाई, पाकिस्तान दुश्मन-अफगानी बुजुर्ग !

सहवासिन् पाकिस्तान-देशः न केवलं भारतस्य, अपितु अफ्गानिस्तान्-देशस्य च प्रतिवेशिनी अस्ति। अफ़्घानिस्तानस्य जनाः पाकिस्तानं न रोचन्ते। अफ्गानिस्तान्-देशे भयोत्पादनस्य प्रसारकानां...

बृजभूषण शरण सिंहस्य पुत्रस्य यात्रावाहनस्य फार्च्यूनर् इत्यनेन 2 बालकाः मृताः। बृजभूषण शरण सिंह के बेटे के काफिले में शामिल फॉर्च्यूनर से कुचल कर 2...

उत्तरप्रदेशस्य कैसरगञ्ज्-नगरे भाजप-अभ्यर्थी करणभूषणसिङ्घस्य यात्रावाहनस्य फार्च्यूनर् इत्यनेन 3 बालकाः धाविताः। अस्मिन् दुर्घटनायां 2 जनाः तत्स्थाने एव मृताः, अन्ये...

पञ्जाबे सर्वाः जी मीडिया चैनल प्रतिबन्धिताः, एषा पत्रिका-स्वातन्त्र्यस्य उपरि आक्रमणं नास्ति वा ? पंजाब में जी मीडिया के सभी चैनल बैन, क्या यह प्रेस...

पञ्जाबे सर्वाः जी न्यूज चैनल प्रतिबन्धिताः सन्ति। चैनल तस्य घोषणा कृता अस्ति ! पञ्जाबे जी-मीडिया इत्यस्य सर्वाः चैनल...

६ जैन साध्व्यः मार्गेण गच्छन्तः आसन्, अल्ताफ् हुसैन् शेखः प्रथमं तान् अनुधावन् ततः पट्ट्या प्रहारं कृतवान् ! सड़क से गुजर रहीं थी 6 जैन...

गुजरातस्य भरूच्-नगरे, अल्ताफ् हुसैन् शेख् नामकः एकः पुरुषः मार्गे गच्छतां जैन साध्वीं आक्रान्तवान्। जैनः साध्वीं आक्रमनात् पूर्वं दीर्घकालं...