अस्मान् तदा केवलमन्वेषणं नव मार्गणां-संजय राउत: ! हमको तो बस तलाश नए रास्तों की हैं-संजय राउत !

0
227

महाराष्ट्रस्य राजनित्याम् एतादृशं झंझावतं आगतम् यस्य शीघ्रोन्मूलनस्याशा न दृश्यते ! आरोपं सरलरूपेण राज्यस्य गृहमंत्री अनिल देशमुखे अभवतारोपक: च् सन्ति मुंबैरक्षकस्य पूर्वायुक्त: परमबीर सिंह: !

महाराष्ट्र की सियासत में ऐसा तूफान आया है जिसके जल्द थमने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं ! आरोप सीधे-सीधे राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर लगे हैं और लगाने वाले हैं मुबंई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह !

परमबीर सिंह: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरेम् अलिखत् पत्रे अनिल देशमुखे १०० कोट्या: आदानम् लक्ष्यस्य गम्भीर्यारोपमारोपयत् ! एतानां सर्वानां मध्य शिवसेना प्रवक्ता: संजय राउत: एकम् एतादृशं ट्वीतं कृतः यस्मिन् सर्वानां ध्यानाकर्षणं भवन्ति !

परमबीर सिंह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे पत्र में अनिल देशमुख पर 100 करोड़ की वसूली टारगेट का गंभीर आरोप लगाया है ! इन सबके बीच शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने एक ऐसा ट्वीट किया है जिस पर सबका ध्यान आकर्षित हो रहा है !

अद्य प्रातः संजय राउत: सुप्रभात इति लिखमानः एकम् व्यंगकाव्यम् ट्वीतं कृतमानः अलिखत् सुप्रभात, अस्मान् तदा केवलमन्वेषणं नव मार्गणां वयं सन्ति पान्थ: इदृश: यत् गंतव्य तः आगता: !

आज सुबह संजय राउत ने सुप्रभात लिखते हुए एक शायरी को ट्वीट करते हुए लिखा सुप्रभात, हमको तो बस तलाश नए रास्तों की है हम हैं मुसाफिर ऐसे जो मंजिल से आए हैं !

संजय राउतस्य अस्य ट्वीतं राजनीतिक संदर्भे अपि दृश्यते ! जनाः तेन ट्विते येन गृहित्वा प्रश्नं अपि कुर्वन्ति तत अंततः तेन कस्मात् नव मार्गणामनुसंधानमस्ति ! तत्रैव केचन जनाः तेन तस्य पुरातन व्यंगकाव्यं स्मारयन्ते !

संजय राउत के इस ट्वीट को सियासी संदर्भ में भी देखा जा रहा है ! लोग उनसे ट्वीट पर इसे लेकर सवाल भी कर रहे हैं कि आखिर उन्हें कौन से नए रास्तों की तलाश है ! वहीं कुछ लोग उन्हें उनके पुराने शैर याद दिला रहे हैं !

यस्मात् पूर्व संजय राउत: शनिवासरम् कथितः स्म तत मनसुख हिरेनस्य निधनस्य प्रकरणस्य अन्वेषण एनआईए इतम् दत्तम् मुंबई आरक्षकः महाराष्ट्र सर्वकाराय वा दोलनस्य वार्ता नास्ति !

इससे पहले संजय राउत ने शनिवार को कहा था कि मनसुख हिरेन की मौत के मामले की जांच एनआईए को सौंपना मुंबई पुलिस या महाराष्ट्र सरकार के लिये झटके की बात नहीं है !

राउत: नासिके वार्ताकारै: कथितः,विस्फोटकेण युक्तम् एसयूवी लोकयानम् लब्धम् मनसुख हिरेनस्य निधनस्य प्रकरणस्यान्वेषण एनआईए इतम् दत्तस्य कश्चितावश्यकतां नासीत् !

राउत ने नासिक में पत्रकारों से कहा,विस्फोटक से लदी एसयूवी कार मिलने और मनसुख हिरेन की मौत के मामले की जांच एनआईए को सौंपने की कोई जरूरत नहीं थी !

आतंकरोधी समूह मुंबई आरक्षकः एतानां प्रकरणानामन्वेषणे सक्षम: सन्ति ! तदापि, केंद्र सरकारः महाविकासाघाड़ी (एमवीए) सर्वकारं अवरुद्धस्य अवसरमनुसंधानयति ! भवन्तः इच्छिता: तदा सीआईए केजीबी इत्येन वास्य प्रकरणस्य अनुसंधानं कारित:,यस्मात् कश्चित प्रभावं न भवितः !

आतंकवादरोधी दस्ता और मुंबई पुलिस इन मामलों की जांच करने में सक्षम हैं ! बहरहाल, केन्द्र सरकार महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार को घेरने के मौके तलाश रही है ! आप चाहें तो सीआईए या केजीबी से इस मामले की जांच करा लें,इससे कोई फर्क नहीं पड़ता !

भवत: ज्ञापयन्तु तत मुंबय्या: पूर्व आरक्षक: आयुक्त: परमबीर सिंह: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरेम् अलिखत् पत्रे गृहमंत्री अनिल देशमुखे गम्भीर्यारोपमारोपित: !

आपको बता दें कि मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे पत्र में गृह मंत्री अनिल देशमुख पर गंभीर आरोप लगाए हैं !

सिंह: कथितः देशमुख: वाजे तः कथितः स्म तत तेन मदिरालय,जलपानगृहम् एतादृशैव च् अन्य प्रतिष्ठानै: प्रत्येक मास १०० कोटि रूप्यकस्य आदानस्य लक्ष्यम् धृत: ! यस्मिन तः अर्ध धनम् नगरे चरित: १७५० मदिरालय, जलपानगृहम् एतादृशैव अन्य प्रतिष्ठानै: आदानानि !

सिंह ने कहा देशमुख ने वाजे से कहा था कि उन्होंने बार,रेस्त्राओं और ऐसे ही अन्य प्रतिष्ठानों से हर महीने 100 करोड़ रूपये की वसूली करने का लक्ष्य रखा है ! इनमें से आधी रकम शहर में चल रहे 1,750 बार, रेस्त्राओं और ऐसे ही अन्य प्रतिष्ठानों से वसूले जाने हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here