प्रत्येकापदायां अवसरम् नान्वेषणेत्, यूक्रेने अवरुद्धं भारतीयान् गृहीत्वा सर्वकारे प्रहारित: वरुण गांधिन् ! हर आपदा में अवसर नही खोजना चाहिए, यूक्रेन में फंसे भारतीयों को लेकर सरकार पर बरसे वरुण गांधी !

0
243

युक्रेने रूसस्य घातस्यमध्य सहस्राणिभारतीय छात्रा: तत्रावरुद्धा: ! यद्यपि सर्वकारः तै: निस्सारणे संलग्न: २००० तः अधिकं छात्रा: भारतमपि प्राप्ता: ! यस्य उपरांतं बहु छात्रा: सततं अपवादानि कुर्वन्ति तत तै: सहाय्य न लब्धन्ति ताः च् बहु पीड़िता: सन्ति !

यूक्रेन पर रूस के हमले के बीच हजारों भारतीय छात्र वहां फंसे हुए हैं ! हालांकि सरकार उन्हें निकालने में लगी हुई है और 2000 से ज्यादा छात्र भारत पहुंच भी चुके हैं ! इसके बावजूद कई छात्र लगातार शिकायत कर रहे हैं कि उन्हें मदद नहीं मिल रही है और वो काफी परेशान हैं !

यान् गृहीत्वा भाजपा सांसद: वरुण गांधिन् सर्वकारे लक्ष्यम् लक्षित: ! सः कथितमस्ति तत सम्यक् काले सम्यक् निर्णयम् न नीतुं कारणं १५ सहस्रतः अधिकं छात्रा: अति अव्यवस्थायाः मध्याधुनापि युद्धभूम्यां अवरुद्धा: !

इसी को लेकर बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने सरकार पर निशाना साधा है ! उन्होंने कहा है कि सही समय पर सही फैसले न लिए जाने के कारण 15 हजार से अधिक छात्र भारी अव्यवस्था के बीच अभी भी युद्धभूमि में फंसे हुए है !

दृढ़ रणनीतिकं कूटनैतिकं च् कार्यवाहिम् कृत्वा येषां सुरक्षितं पुनः आगमनम् येषु कश्चितोपकारम् नापितु अस्माकं दायित्वमस्ति ! प्रत्येकापदायां अवसरम् न अन्वेषणेत् ! सः एकायाः छात्रायाः चलचित्रमपि प्रस्तुतं कृतवन्तः !

ठोस रणनीतिक और कूटनैतिक कार्यवाही कर इनकी सुरक्षित वापसी इन पर कोई उपकार नहीं बल्कि हमारा दायित्व है ! हर आपदा में अवसर नही खोजना चाहिए। उन्होंने एक छात्रा का वीडियो भी पोस्ट किया है !

यस्मिन् ता कथ्यति ततान्य देशाणि स्ववासिन् युक्रेनतः बाह्य निःसृतानि, तु भारतसर्वकारः तेभ्यः केचन न करोति ! पश्चिमी युक्रेने गमनस्य भारतीय दूतावासस्योपदेशस्य उल्लेख्यन् छात्रा: कथित: तत ताः सिम्ना ८०० महाल्वम् अंतरम् सन्ति !

जिसमें वो कह रही है कि अन्य देशों ने अपने नागरिकों को यूक्रेन से बाहर निकाल लिया है, लेकिन भारत सरकार उनके लिए कुछ नहीं कर रही है ! पश्चिमी यूक्रेन में जाने की भारतीय दूतावास की सलाह का उल्लेख करते हुए छात्रा ने कहा कि वे सीमा से 800 किलोमीटर दूर हैं !

आधिकारिकसहाय्यं विना ततान्तरस्य यात्रायाः कश्चित साधनम् नास्ति ! साग्रम् कथ्यति तत वयं तै: (भारतीय दूतावासस्य कर्मिन:) दूरभाषम् कुर्वन्ति सः च् सततं अस्माकं दूरभाषम् विच्छेदयति ! वयं रोमानियाई सिम्ना चलचित्रम् प्रस्तुता यत्र बालिका: अमानवीयप्रकारेण ताडयते !

आधिकारिक सहायता के बिना उस दूरी की यात्रा करने का कोई साधन नहीं है ! वह आगे कहती है कि हम उन्हें (भारतीय दूतावास के कर्मचारी) फोन कर रहे हैं और वह लगातार हमारे कॉल को काट रहे हैं ! हमने रोमानियाई सीमा से वीडियो शेयर किया है जहां लड़कियों को बेरहमी से पीटा जा रहा है !

अद्य मध्यान्हे इव दूतावासमस्माभिः कथितं तत याः कीवे सन्ति ते धूमयानतः गन्तुम् शक्नोन्ति ! तु अस्माभिः मार्गदर्शनदत्तस्यापेक्षा, ते पूर्णरूपेण अस्माकं अवीक्षितं कुर्वन्ति !

आज दोपहर में ही दूतावास ने हमसे कहा कि जो सभी कीव में हैं वे ट्रेन से जा सकते हैं ! लेकिन हमें मार्गदर्शन देने के बजाय, वे पूरी तरह से हमारी अनदेखी कर रहे हैं !

इति मध्य युक्रेने भारतीय दूतावासम् कीवे अवरुद्धं सर्वान् भारतीय छात्रान् युक्रेनस्य राजधान्यां धूमयान पत्तनम् प्राप्तस्योपदेशम् दत्तं कुत्रचित् युद्धग्रस्तस्य देशस्य पश्चिमी अंशानि एवाग्रस्य यात्राकर्तुं शक्नुतं ! दूतावासम् कथितं तत कीवे सप्ताहांत कर्फ्यू इति निर्वर्तितं ते च् नगरात् बाह्य निस्सरणाय धूमयान पत्तनम् गन्तुम् शक्नोन्ति !

इस बीच यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने कीव में फंसे सभी भारतीय छात्रों को यूक्रेन की राजधानी में रेलवे स्टेशन पहुंचने की सलाह दी ताकि युद्धग्रस्त देश के पश्चिमी हिस्सों तक आगे की यात्रा कर सके ! दूतावास ने कहा कि कीव में सप्ताहांत कर्फ्यू हटा लिया गया है और वे शहर से बाहर निकलने के लिए रेलवे स्टेशन जा सकते हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here