28.1 C
New Delhi
Tuesday, September 21, 2021

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरान्याम् अभद्र टिप्पणिका कर्ता उत्तर प्रदेशस्य एकम् प्रवक्तामभवत् कारागृहम् ! केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पर अभद्र टिप्पणी करने वाले यूपी के एक प्रोफेसर को हुई जेल !

Must read

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरान्याः विरुद्धम् कथित रूपेण अभद्र टिप्पणिका कृते उत्तर प्रदेशस्य एकम् प्रवक्तां कारागृहस्य पवनम् ळब्धित: ! इति प्रकरणे प्रवक्ता फिरोजाबादस्य न्यायालये आत्मसमर्पणं कृतवान यस्यानंतरम् तेन कारागृहम् प्रेषितम् !

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ कथित रूप से अभद्र टिप्पणी करने पर उत्तर प्रदेश के एक प्रोफेसर को जेल की हवा खानी पड़ी है ! इस मामले में प्रोफेसर ने फिरोजाबाद की अदालत में समर्पण किया जिसके बाद उसे जेल भेजा गया !

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीशानुराग कुमारस्य न्यायालये समर्पणं कर्ता प्रवक्ता शहरयार अली: भौमवासरम् स्व अंतरिम स्वतंत्रतापत्रम् याचिका कृतः !

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अनुराग कुमार की अदालत में समर्पण करने वाले प्रोफेसर शहरयार अली ने मंगलवार को अपनी अंतरिम जमानत अर्जी लगाई !

वार्ता संस्थान पीटीआई इतस्यानुरूपम् प्रवक्तायाः इदम् स्वतंत्रतापत्रम् याचिका स्वीकृतम् नाभवत् न्यायालय: च् तेन कारागृहम् प्रेषित: !

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक प्रोफेसर की यह जमानत अर्जी मंजूर नहीं हुई और कोर्ट ने उसे जेल भेज दिया !

शहरयार अली: एसआरके महाविद्यालये इतिहास विभागस्याध्यक्ष: सन्ति ! अलिण: उपरि आरोपमस्ति तत सः गत मार्च मासे महिला एवं बाल विकास मंत्रिण: विरुद्धम् अभद्र टिप्पणिका कृतरासीत् !

शहरयार अली एसआरके कॉलेज में इतिहास विभाग के अध्यक्ष हैं ! अली के ऊपर आरोप है कि उन्होंने गत मार्च महीने में महिला एवं बाल विकास मंत्री के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की थी !

यस्यानंतरम् महाविद्यालयम् तेन निलंबनस्य सूचना पत्रम् प्रेषितं ! इति मासस्यारंभे अलीम् सर्वोच्च न्यायालयेणापि लाघवम् न ळब्ध: ! शीर्ष न्यायालय: बंधनेण रक्षाय पंजीकृतं तस्य याचिका निरस्तं कृतः !

इसके बाद कॉलेज ने उन्हें निलंबन का नोटिस भेजा ! इस महीने की शुरुआत में अली को सुप्रीम कोर्ट से भी राहत नहीं मिली ! शीर्ष अदालत ने गिरफ्तारी से बचने के लिए दायर उनकी अर्जी खारिज कर दी !

उच्च न्यायालये अपि निरस्त: अग्रिम स्वतंत्रतापत्रम् याचनां अली: गत मैमासे प्रयागराजोच्च न्यायालये अग्रिम स्वतंत्रतापत्रम् याचिका प्रस्तुतं कृतरासीत् ! उच्च न्यायालये अपि तस्य याचिका निरस्त: अभवत् !

हाई कोर्ट में भी खारिज हुई अग्रिम जमानत अर्जी
अली ने गत मई में प्रयागराज हाई कोर्ट में अग्रिम जमानत अर्जी दाखिल की थी ! हाई कोर्ट में भी उनकी याचिका खारिज हो गई !

न्यायाधीश जेजे मुनीर: कथित: तत इदृशं कश्चित साक्ष्य प्रस्तुत नाभवत् यदेदम् ज्ञापयतु तत प्रवक्तायाः फेसबुक खाता हैक इति अभवत् स्म ! यस्यानंतरम् न्यायालय: तेन लाघवम् दत्तेनास्वीकार: कृतः !

न्यायाधीश जेजे मुनीर ने कहा कि ऐसा कोई साक्ष्य पेश नहीं हुआ है जो यह बताए कि प्रोफेसर का फेसबुक अकाउंट हैक हुआ था ! इसके बाद कोर्ट ने उन्हें राहत देने से इंकार कर दिया !

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article