दलित मेम चंद: बलात् धर्म परिवर्तनस्य विरुद्धम् अप्राप्तत् न्यायालयं ! दलित मेम चंद जबरन धर्म परिवर्तन के खिलाफ पहुंचा कोर्ट !

0
251

विशेष आभार टाइम्स नाउ :-

राजस्थानस्य अलवर जनपदे कथित रूपेण बलात् धर्म परिवर्तनस्य प्रकरण सम्मुखम् आगतवान ! बदनोति तत अत्र केचन जनानि दलित युवक: मेम चंदे भारम् भारित्वा तेन मुस्लिम धर्म स्वीकृतवान ! इयम् न मेम चंदस्य भार्यामपि बलात् इस्लाम धर्म स्वीकृतवन्तः !

राजस्थान के अलवर जिले में कथित रूप से जबरन धर्म परिवर्तन का मामला सामने आया है ! बताया जा रहा है कि यहां कुछ लोगों ने दलित युवक मेम चंद पर दबाव डालकर उससे मुस्लिम धर्म कबूल करवाया ! यही नहीं मेम चंद की पत्नी को भी जबरन इस्लाम धर्म कबूल करवाया गया है !

सूचनायाः अनुरूपम् स्व इति धर्म परिवर्तनस्य विरुद्धम् मेम चंद: सम्प्रति न्यायालयस्य द्वारं गतवान ! मेम चंद: अलवर न्यायालये हिंदू धर्मे पुनः प्रत्यावर्तनाय याचिकाम् अप्रेषते !

रिपोर्ट के मुताबिक अपने इस धर्म परिवर्तन के खिलाफ मेम चंद ने अब कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है ! मेम चंद अलवर कोर्ट में हिंदू धर्म में दोबारा वापस आने के लिए अर्जी लगाई है !

मेम चंदस्य याचिकायाम् शृणुतः न्यायालयं आरक्षकम् पीड़ितस्य प्रत्येक सम्भवम् सहयोग दास्य निर्देशम् दत्तवान ! प्राप्त ज्ञानस्य अनुरूप मेम चंद: अलवर जनपदस्य भयाडी क्षेत्रस्य निवासिनस्ति !

मेम चंद की अर्जी पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने पुलिस को पीड़ित का हर संभव मदद पहुंचाने का निर्देश दिया है ! प्राप्त जानकारी के अनुसार मेम चंद अलवर जिले के भयाडी इलाके का रहने वाला है !

इस्लाम धर्म बलात् स्वीकार कृतस्य उपरांत तेन नव नाम नव स्थानम् च् दत्तवान ! मेम चंदस्य नव नाम सम्प्रति मोहम्मद अनस इति भव्यते तेन हरियाणायाः फिरोजपुरस्य निकषा झिरकायाम् निवसाय एकम् भूमिम् अदीयते !

इस्लाम धर्म जबरन कबूल करवाने के बाद उसे नया नाम और नया पता दिया गया ! मेम चंद का नया नाम अब मोहम्मद अनस हो गया है और उसे हरियाणा के फिरोजपुर के समीप झिरका में रहने के लिए एक प्लॉट दिया गया है !

मेम चंद: टाइम्स नाउ इत्येन वार्ताम् कृतः अबदत् तत यत् जनानि तेन मुस्लिम धर्म स्वीकार्यते, ते तेन गृहित्वा जम्मू कश्मीर अगच्छन् स्म तत्र सः एकम् जमात इत्ये सम्मिलितम् अभवत् ! यत्र तस्मिन् भार्याम् मुस्लिम धर्म स्वीकृताय भारम् अभारयत् !

मेम चंद ने टाइम्स नाउ से बात करते हुए बताया कि जिन लोगों ने उससे मुस्लिम धर्म कबूल करवाया, वे उसे लेकर जम्मू कश्मीर गए थे जहां वह एक जमात में शरीक हुआ ! यहां उस पर अपनी पत्नी को मुस्लिम धर्म कबूल करवाने के लिए दबाव बनाया गया !

न्यायालयस्य समक्ष ददातु स्व वार्तायाम् मेम चंद: अकथयत् तत तस्य धर्म परिवर्तनस्य पश्च यत् जनाः सन्ति तै: दण्डम् प्राप्यनीय ! सः अकथयत् मया बलात् बलात् मुस्लिम धर्म स्वीकृतवन्तः ! मया अकथ्यते तत हिंदू धर्मे कश्चित आदर-सम्मान इति नास्ति अहम् च् यदि इस्लाम धर्म स्वीकार्यामि तर्हि मह्यं सम्मानम् प्राप्यिष्यामि !

कोर्ट के समक्ष दी गई अपनी दलील में मेम चंद ने कहा है कि उसके धर्म परिवर्तन के पीछे जो लोग हैं उन्हें सजा मिलनी चाहिए ! उसने कहा मुझसे जबरन मुस्लिम धर्म कबूल करवाया गया ! मुझसे कहा गया कि हिंदू धर्म में कोई आदर-सम्मान नहीं है और मैं यदि इस्लाम धर्म अपना लेता हूँ तो मुझे सम्मान मिलेगा !

भाजपा नेता ज्ञानदेव आहूजा: अकथयत् तत हरियाणा मेवातस्य १०३ ग्राम हिंदू विहीनम् अभव्यते ७८ ग्रामेषु ३-४ हिंदू गृहैव शेषम् सन्ति ! अलवर भयाडीयाः मेम चंदस्य (मोहम्मद अनस) तत्र बलात् धर्म परिवर्तयते ! अत्रस्य प्रशासनम् कार्यवाहिम् कृताय एकम् सप्ताहस्य कालम् दीयते ! अन्यथा अहम् आन्दोलनम् करिष्यामि !

भाजपा नेता ज्ञानदेव आहूजा ने कहा कि हरियाणा मेवात के 103 गांव हिंदू विहीन हो गए हैं और 78 गांवों में 3-4 हिंदू घर ही बचे हैं ! अलवर भयाडी के मेम चंद (मोहम्मद अनस) का वहां जबरदस्ती धर्म बदला गया ! यहां के प्रशासन को कार्रवाई के लिए एक हफ्ते का समय दिया जाता है ! अन्यथा मैं आंदोलन करूंगा !

प्रशासनिक अधिकारिम् अतिरिक्त आरक्षक अधीक्षकः ग्रामीण अलवर श्रीमन् मीणायाः कथनमस्ति, मेम चंद: द्वय-द्वयार्द्ध वर्ष पूर्व अत्रात् कश्चित द्वितीय महिला गृहित्वा अगच्छत् स्म ! तस्य पाणिग्रहण पूर्वम् अभव्यते स्म ! तस्य धर्म परिवर्तनं गृहित्वा कश्चित अधिकृतं ज्ञानम् नास्ति ! यदि अस्माकं पार्श्व इदृशं कश्चित प्रकरण सम्मुखम् आगमिष्यामि तर्हि अभियोगम् पंजीकृत्वा अन्वेषण करिष्यामि !

प्रशासनिक अधिकारी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण अलवर श्रीमन मीणा का कहना है, मेम चंद दो-ढाई साल पहले यहां से किसी दूसरी औरत को लेकर चला गया था ! उसकी शादी पहले हो चुकी थी ! उसके धर्म परिवर्तन को लेकर कोई अधिकृत जानकारी नहीं है ! अगर हमारे पास ऐसा कोई प्रकरण सामने आएगा तो मुकदमा दर्ज कर जांच करेंगे !

स्व विचारम् !

ओपिनियन !

लव जिहाद, धर्मांतरण जिहाद, शिक्षा जिहाद बहु प्रकारस्य च् जिहाद इतम् चालित्वा अयम् जनाः स्व कुत्सित मानसिकतायाः परिचयम् दातव्ये सततं इति प्रकारस्य घटनानि विचार्यते प्रेरितं कुर्वन्ति तत कीदृशं इति विशेषं समाजस्य जनानां उपरि विश्वासम् अक्रियते !

लव जिहाद, धर्मांतरण जिहाद, शिक्षा जिहाद और कई प्रकार के जिहाद को चलाकर यह लोग अपनी गिरी मानसिकता का परिचय दे रहें हैं लगातार इस तरीके की घटनाएं सोचने पर मजबूर कर देती हैं कि कैसे इस विशेष समाज के लोगों के ऊपर विश्वास किया जाए !

केचन राजनीतिक दलानि यानि स्व आका इति मान्यन्ति यथा अद्यापि वर्तमानैव कथ्यते स्म, जय भीम जय मीम इति, इति प्रकारस्य घटनाम् घटितस्य उपरांत तस्य मुखम् तीव्र तमाचा इति अवश्य लगिष्यति, इत्ये एकम् कविना केचन पंक्तिनि बहैव सटीक परिलक्ष्यति, यत् मम न भव्यते, तत् त्वया न भवशक्नोति !!

कुछ राजनीतिक पार्टियां इन्हें अपना आका समझती हैं जैसे अभी हाल ही में कहा जा रहा था, जय भीम जय मीम, इस तरीके की घटना घटित होने के बाद उनके मुंह पर जोरदार तमाचा जरूर लगेगा, इस पर एक कवि की कुछ पंक्तियां बहुत ही सटीक लगती है, जो मेरा हो नहीं पाया, वह तेरा हो नहीं सकता !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here