कृषि विधेयके कांग्रेसस्य राजनीतिक नाटकं ! कृषि कानून पर कांग्रेस का सियासी ड्रामा !

0
298

भारतीय ध्वज का अपमान करते,यह हैं किसान ! देखो और समझो !

कृषि विधेयकानां विरुद्धम् कृषकाणाम् आन्दोलनम् इन्द्रप्रस्थस्य त्रीणि सीमाषु सिंघु, गाजीपुर टिकरी च् चरन्ति स्म ! तु २६ जनवरी इतम् इंद्रप्रस्थे येन प्रकारेण उत्पाताभवत् तस्य अनंतरम् कृषकान्दोलनमाकस्मिकाघातम् !

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन दिल्ली के तीन सीमाओं सिंघु,गाजीपुर और टिकरी पर चल रहा था ! लेकिन 26 जनवरी को दिल्ली में जिस तरह से उत्पात हुआ उसके बाद किसान आंदोलन को झटका लगा !

इंद्रप्रस्थ आरक्षकः न केवलं प्राथमिकी पंजीकृतः अपितु बंधनमपि भवताः ! एत सर्वानां मध्य केचन कृषकदला: स्वान्दोलनम् स्थगिता: ! एत सर्वानां मध्य इति विषये राजनीत्यापि आरम्भयता: !

दिल्ली पुलिस ने ना सिर्फ एफआईआर की है बल्कि गिरफ्तारी भी हुई है ! इन सबके बीच कुछ किसान संगठनों ने अपने आंदोलन को स्थगित कर दिया ! इन सबके बीच इस विषय पर सियासत भी शुरू हो चुकी है !

कांग्रेस इति प्रकरणेषु मोदी सरकारं परिबंधयति ट्वीतेन च् कालक्रमम् अबद: तत कीदृशेन कृषकाणामान्दोलनम् दुर्नामस्य प्रयत्नता: !

कांग्रेस इस मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरती रही है और ट्वीट के जरिए क्रोनोलॉजी को बताया है कि किस तरह से किसानों के आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश की गई !

कांग्रेसस्य कथनमस्ति तत कृषकान् प्रथमानि देशद्रोही,खालिस्तानी इति कथितः,पुनः वार्तायाम् भ्रशयता: ! षड्यंत्रस्यानुरूपम् आन्दोलनम् दुर्नामानि ! कृषकेषु कापूर्ण घातयन् पटगृहम् च् उन्मूलयानि !

कांग्रेस का कहना है कि किसानों को पहले देशद्रोही, खालिस्तानी कहा गया,फिर वार्ता में उलझाया गया ! षड़यंत्र के तहत आंदोलन को बदनाम किया गया ! किसानों पर कायराना हमला हुआ और टेंट को उखाड़ दिया गया !

कृषि विधेयकानां प्रकरणेषु राहुल गांधी: अपि प्रश्नम् उत्थायमानः कथितः स्म तत केंद्रस्य मोदी सरकारं अन्नदातानां पीड़ाया अर्थम् नास्ति !

कृषि कानूनों के मुद्दे पर राहुल गांधी ने भी सवाल उठाते हुए कहा था कि केंद्र की मोदी सरकार को अन्नदाताओं की तकलीफ से मतलब नहीं है !

देशस्य २-३ जनेभ्यः योजनानि निर्मयन्ते तेन च् लाभम् प्रदानस्य प्रयत्नम् क्रियते ! तीक्ष्ण शीते शतातधिकम् कृषकाः हुतात्मा भवताः ! तु अयम् सरकारः गर्वे युक्तमस्ति !

देश के 2-3 लोगों के लिए योजनाएं बनाई जा रही हैं और उन्हें फायदा पहुंचाने की कोशिश की जा रही है ! ठिठुरती ठंड में 100 से ज्यादा किसान शहीद हो गए ! लेकिन यह सरकार अहंकार में चूर है !

राहुल गांधे: कथनमस्ति तत अयम् आत्मने कति हास्यास्पद वार्तास्ति तत यत् सरकारः कृषि विधेयकेषु संशोधनाय तत्परमस्ति,एकार्द्ध वर्षमेव प्रयोगे अवरोधाय तत्पमस्ति,ताः विधि परिवर्तनम् न इच्छति !

राहुल गांधी का कहना है कि यह अपने आप में कितनी हास्यास्पद बात है कि जो सरकार कृषि कानूनों में संशोधन के लिए तैयार है,डेढ़ साल तक अमल करने पर रोक लगाने के लिए तैयार है,वो कानून बदलना नहीं चाहती है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here