हिमाचल प्रदेशे स्थाने-स्थाने निर्मितानि मस्जिदानि, भू-विधेयकस्योपरांत: मुस्लिम कट्टरपंथिनां षड्यंत्रे गृहीतं पर्वतीय राज्यं ! हिमाचल प्रदेश में जगह-जगह पर बन रहीं मस्जिदें, भू-कानून के बावजूद मुस्लिम कट्टरपंथियों के षडयंत्र में जकड़ा पहाड़ी राज्य !

0
826

उत्तराखंडमिव हिमाचल प्रदेशे अपि मुस्लिम कट्टर पंथिन: स्वपादम् प्रसारयन्ति ! अभिज्ञानस्यानुरूपम् राज्ये मस्जिदनां संख्या ५०० तः अधिकं अभवत्, यद्यपि सर्वकारस्य पार्श्व यस्य सर्वकारी आंकड़ा ३९३ इत्या: इवास्ति !

उत्तराखंड की तरह हिमाचल प्रदेश में भी मुस्लिम कट्टरपंथी अपने पैर जमा रहे हैं ! जानकारी के मुताबिक राज्य में मस्जिदों की संख्या 500 से ज्यादा हो चुकी है, जबकि सरकार के पास इनका सरकारी आंकड़ा 393 का ही है !

हिमाचल प्रदेशे भू-विधेयकस्य कारणेन बाह्य जनानां भूमि क्रेतुं संभवं नास्ति, येन कारणेनात्रस्य मुस्लिम जनसंख्यान्य राज्यानां तुलनायां सर्वकारी आंकड़ासु बर्धितुं न दर्शितं, तु वास्तविकता केचनान्यास्ति !

हिमाचल प्रदेश में भू-कानून की वजह से बाहरी लोगों का जमीन खरीदना मुश्किल है, इस वजह से यहां की मुस्लिम आबादी अन्य राज्यों की तुलना में सरकारी आंकड़ों में बढ़ती दिखलाई नहीं दे रही, लेकिन वास्तविकता कुछ और है !

वीथिनां तटे, वनस्य रेलवे इत्या: च् भूमिसु मुस्लिम जनानां अतिक्रमणित्वा वासस्य क्रीडा विगत १५ वर्षेषु क्रीडयते ! कुत्रैवावैध मजाराणि निर्मित्वा मुस्लिम कट्टरपंथिन: स्वपादं प्रसारयन्ति तर्हि कुत्रैव स्थानीय मुस्लिम जनाः भूमि क्रित्वा मस्जिदनां अवैध निर्माणे संलग्ना: सन्ति !

सड़कों के किनारे, वन और रेलवे की जमीनों पर मुस्लिम लोगों का अतिक्रमण कर बसने का खेल पिछले 15 सालों में खेला जा रहा है ! कहीं अवैध मजारें बनाकर मुस्लिम कट्टरपंथी अपने पैर जमा रहे हैं तो कहीं स्थानीय मुस्लिम लोग जमीन खरीद कर मस्जिदों के अवैध निर्माण में लगे हुए हैं !

कोविड कालात् पूर्व हिमाचल सर्वकारः स्व सर्वकारी आंकड़ासु राज्ये ३९३ मस्जिदानि ३५ मदरसानि च् भवस्य वार्ता कथितमासीत्, तत काळम् तब्लीगी जमातेण कोविड विषाणु प्रसारस्य स्वरम् उत्थीतं आसीत् !

कोविड काल से पहले हिमाचल सरकार ने अपने सरकारी आंकड़ों में राज्य में 393 मस्जिद और 35 मदरसे होने की बात कही थी, उस वक्त तब्लीगी जमात द्वारा कोविड वायरस फैलाए जाने का शोर उठा था !

वर्तमानैव हिंदू जागरण मंचम् हिमाचल राज्ये स्वयं एकमनुसंधानम् कारितवानेदम् चभिज्ञानम् दत्तमस्ति तत प्रदेशे इति काळम् ५२० मस्जिदानि अस्तित्वे सन्ति, येषु सर्वातधिकं सिरमौर जनपदे सन्ति, यस्य संख्या १३० इति बद्यते !

हाल ही में हिंदू जागरण मंच ने हिमाचल राज्य में खुद एक सर्वे करवाया और ये जानकारी दी है कि प्रदेश में इस समय 520 मस्जिदें अस्तित्व में हैं, इनमें सबसे ज्यादा सिरमौर जिले में हैं, जिनकी संख्या 130 बताई जा रही है !

विशेष वार्ता इदमस्ति तत चंडीगढ़ेण हरियाणाया उत्तराखंडेण च् संलग्नं भूमीय जनपदानां औद्योगिक क्षेत्रे मुस्लिम स्थलानां संख्या जनसंख्यासु च् तीव्रताया वृद्धिमभवत् ! नालागढ़, बद्दी क्षेत्रयो: ६० मस्जिदानि अभवन् !

खास बात ये है कि चंडीगढ़, हरियाणा और उत्तराखंड से लगे मैदानी जिलों के औद्योगिक क्षेत्र में मुस्लिम धार्मिक स्थलों की संख्या और आबादी में तेजी से वृद्धि हुई है ! नालागढ़, बद्दी इलाके में 60 मस्जिदें हो चुकी हैं !

कुल्लू यथा केचन क्षेत्रमिदृशमासीत्, यत्र कदैकमपि मस्जिदम् नासीत् तत्रापि मस्जिदानि निर्मितानि अत्र जनपदे च् १० मस्जिदानि अभवन् ! सर्वकारस्य अनुसारम् शिमला जनपदे ३० मस्जिदानि सन्ति, यद्यपि हिजामस्य दृढ़कथनमस्ति ततात्र ४८ मस्जिदानि सन्ति ६ मदरसा: अपि च् सन्ति !

कुल्लू जैसे कुछ क्षेत्र ऐसे थे, जहां कभी एक भी मस्जिद नहीं थी वहां भी मस्जिदें बन गई हैं और यहां जिले में 10 मस्जिदें हो चुकी हैं ! सरकार के अनुसार शिमला जिले में तीस मस्जिदें हैं, जबकि हिजाम का दावा है कि यहां 48 मस्जिदें हैं और 6 मदरसे भी हैं !

पंजाबेण संलग्नम् ऊना जनपदे हिंदू जागरण मंचम् ५२ मस्जिदानि एकः मदरसा च् भवस्यानुसंधान सूचनां पंजीकृतमस्ति ! पंजाबेण कश्मीरेण च् संलग्नं चंबा जनपदे मस्जिदानां संख्या ८७, ९ मदरसा: भवस्य दृढ़कथनम् कृतवान !

पंजाब से लगे ऊना जिले में हिंदू जागरण मंच ने 52 मस्जिदें और एक मदरसा होने की सर्वे रिपोर्ट दर्ज की है ! पंजाब और कश्मीर से लगे चंबा जिले में मस्जिदों की संख्या 87 और 9 मदरसे होने का दावा किया गया है !

हमीरपुरे १५, कांगड़ायां ४०, सोलने १३, बिलासपुरे ३४, मंड्यां ३१ मस्जिदानि स्थापितानि सन्ति ! हिजामस्यानुसारमद्यापि किन्नौर लाहौल स्पीति जनपदयो: कश्चितापि मस्जिद न भवस्य वार्ता कथितवान, इदृशम् नास्ति ततात्र मुस्लिम जनसंख्या नास्ति ! अत्र मुस्लिम स्व-स्वगृहेषु इव नमाज पठन्ति !

हमीरपुर में 15, कांगड़ा में 40, सोलन में 13, बिलासपुर में 34, मंडी में 31 मस्जिदें बन चुकी हैं ! हिजाम के अनुसार अभी किन्नौर और लाहौल स्पीति जिलों में कोई भी मस्जिद नहीं होने की बात कही गई है, ऐसा नहीं है कि यहां मुस्लिम आबादी नहीं है ! यहां मुस्लिम अपने-अपने घरों में ही नमाज पढ़ते हैं !

येन प्रकारेण हिमाचले पूर्ण ५२० मस्जिदानि सन्ति येषु च् ४४४ मौलविन: सन्ति ! शेष मस्जिदेषु मुस्लिम धर्म प्रचारका: व्यवस्थाम् क्रियन्ते ! हिंदू जागरण मंचस्य कथनमस्ति तत येषु मंडी जनपदम् त्यक्त्वा बहवः मौलविनः हिमाचल वासिन: न सन्ति इमे च् मदरसासु गत्वा कट्टरपंथम् बर्धनम् ददान्ति !

इस तरह से हिमाचल में कुल 520 मस्जिदें हैं और इनमें 444 मौलवी हैं ! शेष मस्जिदों में मुस्लिम धर्म प्रचारक व्यवस्था संभालते हैं ! हिंदू जागरण मंच का कहना है कि इनमें मंडी जिले को छोड़कर ज्यादातर मौलवी गैर हिमाचली है और ये मदरसों में जाकर कट्टरपंथ को बढ़ावा देते रहे हैं !

येषां कट्टरपंथिन् धार्मिक विचारं प्रचारं च् स्थानीय हिंदू जनाः अपि ध्वनि प्रसारण यंत्राणां माध्यमेण शृणुवन्ति ! हिजामस्यानुसंधानम् दर्शन्तु तर्हि हिमाचलस्य चित्रधुना पूर्ववत न रमितं, सेवस्य उद्यानेषु मुस्लिम श्रमिका:, औद्योगिक क्षेत्रे श्रमिका:, कबाड़, शिल्पी !

इनके कट्टरपंथी धार्मिक विचार और प्रचार को स्थानीय हिंदू लोग भी ध्वनि प्रसारण यंत्रों के माध्यम से सुनते हैं ! हिजाम के सर्वे को देखें तो हिमाचल की तस्वीर अब पहले जैसी नहीं रही, सेब के बगीचों में मुस्लिम मजदूर, औद्योगिक क्षेत्र में लेबर, कबाड़, मिस्त्री !

मोबाइल रिपेयर इत्यादयः क्षेत्रेषु बाह्य राज्यानां मुस्लिमा: विशेषरूपे पश्चिमोत्तर प्रदेशस्य मुस्लिमा: तत्र गत्वा वसन्ति ! इदृशम् वार्ता: अपि सन्ति तत बरेलवी मुस्लिमा: अत्र मजार जिहादस्य लव जिहादस्य चभियानमारंभिताः सन्ति ! हिमाचलम् देवानां भूमिम् मान्यते, येन प्रकारेणात्र मुस्लिम जनसंख्या शनैः-शनैः पादम् प्रसारयन्ति !

मोबाइल रिपेयर आदि क्षेत्रों में बाहरी राज्यों के मुस्लिम खास तौर पर पश्चिम यूपी के मुस्लिम वहां जाकर बस रहे हैं ! ऐसी खबरें भी हैं कि बरेलवी मुस्लिमों ने यहां मजार जिहाद और लव जिहाद के अभियान शुरू कर दिए हैं। हिमाचल देवियों की भूमि माना जाता है, जिस तरह से यहां मुस्लिम आबादी धीरे-धीरे पांव पसार रही है !

तेन दृष्ट्वा इदमेव प्रतिभाति तत कश्चित सुनियोजित कुचक्रस्यानुरूपम् अत्रेदृशम् भवति ! देवबंदिनः अत्र मस्जिदानां विस्तारं कुर्वन्ति बरेलविन: चत्र सर्वकारी भूमिषु अधिपत्यं कृत्वा मजारान् निर्माणे संलग्ना: सन्ति !

उसे देख यही लगता है कि किसी सोची समझी साजिश के तहत यहां ऐसा हो रहा है ! देबबंदी यहां मस्जिदों का विस्तार कर रहे हैं और बरेलवी यहां सरकारी जमीनों पर कब्जे कर अवैध मजारों को बनाने में लगे हुए हैं !

हिंदू जागरण मंचस्य महामंत्री कमल गौतम ज्ञापयति तत वयं यतनुसंधानम् कारित: ! तत शत प्रतिशतम् सम्यक् अस्ति ! वयं हिमाचल सर्वकारस्य संज्ञाने अपीदम् वार्तानीतमस्ति वयं च् सर्वकारेणेदमाग्रहम् कृतवान तत विनाज्ञायाः निर्मितानि अवैध मस्जिदानि पतनीयं !

हिंदू जागरण मंच के महामंत्री कमल गौतम बताते हैं कि हमने जो सर्वे करवाया है ! वो सौ प्रतिशत सही है ! हमने हिमाचल सरकार के संज्ञान में भी ये बात लाई है और हमने सरकार से ये आग्रह किया है कि बिना अनुमति बनी अवैध मस्जिदें गिराई जानी चाहिए !

यानि मस्जिदानि विनाज्ञायाः वृहत् रूपम् दत्तस्य तत्परता चरति सर्वकारः तस्मिन् अपि अवरोधम् अवरोधयतु ! साधारणतयास्माकं संगठनम् यस्य विरोधम् करोति तर्हि अस्मासु कार्यवाहिम् भवामः, केचन दिवसं अवरोधम् भवति पुनः मस्जिद समुहम् न्यायालयेण स्थगनाज्ञानयस्य काळम् लभ्यते !

जिन मस्जिदों को बिना अनुमति आलिशान रूप दिए जाने की तैयारी चल रही है सरकार उस पर भी रोक लगाए ! आम तौर पर हमारा संगठन इसका विरोध करता है तो हम पर कार्रवाई होती है, कुछ दिन रोक लगती है फिर मस्जिद कमेटी को कोर्ट से स्थगन आदेश लाने का समय मिल जाता है !

कमल गौतम: कथ्यति तत कांग्रेस शासन काले सर्वातधिकं मुस्लिमा: स्वात्र कट्टर पंथ प्रसृतवान, तु सम्प्रति यस्मिन् नियंत्रणम् ळब्धुं सर्वकारम् दृढ़ेच्छा शक्तया कार्यम् कर्तुं भविष्यति !

कमल गौतम कहते हैं कि कांग्रेस शासन काल में सबसे ज्यादा मुस्लिमों ने अपने यहां कट्टरपंथ फैलाया, लेकिन अब इन पर नियंत्रण पाए जाने के लिए सरकार को मजबूत इरादे से काम करना होगा !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here