32.1 C
New Delhi

हम उस भारत के वासी हैं!

Date:

Share post:

प्रणाम!

मेरा प्रणाम सुनकर मेरे पिछड़े होने का अंदाजा मत लगा लेना! क्योंकि हम उस देश के वासी हैं, जहां अपने से छोटों को भी प्रणाम कहा जाता है!जहां शत्रु को भी युद्ध से पहले प्रणाम सम्बोधित करने की परंपरा है!

हम उस भारत के वासी हैं, जिसके बच्चे बच्चे के एक कंधे पर धर्म और एक कंधे पर कर्म शोभित होता है!

हम उस भारत के वासी हैं, जिसके हृदय के आधे भाग में श्रीराम और आधे भाग में श्रीकृष्ण बसते हैं!

हम उस भारत के वासी हैं, जो स्वयं अपने आप में “सत्यम शिवम और सुंदरम” है!

हम उस भारत के वासी हैं जहां गीता का ज्ञान हुआ, अर्जुन का धनुष महान हुआ और जहां चन्द्रगुप्त बलवान हुआ!

हम उस भारत के वासी हैं, जो स्वयं अतुलनीय बल की राशि है, स्वर्ग लोक का अधिवासी है! जहां अयोध्या, मथुरा और काशी है!

हम उस भारत के वासी हैं, जहां कण कण में कृष्ण की चतुरता, राम का बल और सरस्वती की विद्वता बहती है!

हम उस भारत के वासी हैं, जहां बच्चे बच्चे में छत्रपति की ऊर्जा, महाराणा का तेज और बाजीराव की वीरता बसती है!

हम केवल वीर ही नहीं, प्रेमी भी कमाल के रहे हैं! हमारी नारियां एक ओर लक्ष्मीबाई, दुर्गावती भी होती हैं…..तो दूसरी ओर अपना प्रेम और सतीत्व बचाने के लिए पदमावती भी बन जाती हैं!

हमारे पुरुषों के भीतर कृष्ण और शिव का प्रेम भरा है तो नारियों में भी राधिका और पार्वती का स्नेह भरा है!

भारत उस नीलकंठ का नाम है, जो स्वयं गरल पीकर दूसरों को अमृत दान करता है!

आदरणीय आशुतोष राणा जी अपनी कविता में शत्रुओं को सम्बोधित करते हुए कहते हैं….

“वह बर्बर था, वह अशुद्ध था, हमने उसको शुद्ध किया..
हमने उसको बुद्ध दिया, उसने हमको युद्ध दिया….”

परन्तु मैं कहता हूं कि संसार को बुद्ध और युद्ध, दोनो हमने ही दिया है….क्योंकि जब समस्त संसार बर्बर और नंगा था, उस कालखण्ड में भी एक स्त्री के हरण के कारण हमने लंका कांड देखा है….एक स्त्री के अपमान पर महाभारत जैसा युद्ध लड़ा है!

हमी ने दिखाया है संसार को ब्रह्मास्त्र की शक्ति, परमाणु की ऊर्जा और शून्य का महत्व!

भारत के विषय में क्या कहूँ!

भारत वह है, जहां लाख अपमान होने पर भी एक युवा सन्यासी….अपने अपमानकर्ताओं को “ब्रदर्स ऐंड सिस्टर्स” कहकर बुलाता है!

भारत वह है जिसकी आन बान शान के लिए तेईस साल के भगत सिंह अपने साथियों के साथ कुर्बान हो जाते हैं, कोई सोलह साल का खुदीराम फांसी चढ़ जाता है और कोई “आजाद” स्वयं की हत्या कर लेता है लेकिन जीवित रहते हुए फिरंगियों के हाथ नहीं आता!

भारत की हवाओं में केवल ऑक्सीजन नहीं बहता साहब, भारत की वायु में आज भी वेदमंत्र बहते हैं, गीता के श्लोक बहते हैं और रामायण के पाठ बहते हैं!

हम भारत हैं! हमारे भीतर ब्रह्मा की विद्वता और विष्णु की शीतलता के साथ साथ महादेव शिव का तांडव भी रचा बसा है!

हम किसी को छेड़ते नहीं, किन्तु यदि किसी ने छेड़ा तो उसे छोड़ते भी नहीं! हम कृष्ण की तरह शिशुपाल की निन्यानबे गालियां सहन कर सकते हैं, किन्तु सौवीं बार यदि किसी ने अपशब्द कहा तो उसकी बात पूरी होने से पहले सुर्दशन से उसका गला काटने की क्षमता भी रखते हैं!

और अंत में….हमारा भारत वह है, जिसकी यशगाथा का गान यदि शेषनाग अपने सैकड़ों मुखों से और सरस्वती अपने करोड़ों मुखों से करें तब भी इसकी गाथा समाप्त नही होगी!

हम आदि हैं! हम अनन्त हैं! हम अद्वितीय हैं!

हम भारत हैं!

इन्ही शब्दों के साथ! पुनः प्रणाम!

भारत माता की जय!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

रोहिंग्या-मुस्लिम्-जनाः ५००० हिन्दु-बौद्धानां गृहाणि दग्धवन्तः, तेषां दृष्टेः पुरतः सर्वं लुण्ठितवन्तः ! रोहिंग्या मुस्लिमों ने 5000 हिंदुओं-बौद्धों के घर जलाए, आँखों के सामने सब कुछ...

म्यान्मार्-देशस्य राखैन्-राज्ये सैन्य-नेतृत्वस्य जुण्टा-जातीय-विद्रोहि-समूहयोः मध्ये सङ्घर्षाः तीव्रतां प्राप्य साम्प्रदायिक-हिंसा प्रारब्धा। तत्र अस्य तनावस्य कारणात्, रोहिंज्या-जनाः हिन्दूनां बौद्धानां च...

धर्मपरिवर्तनं कारित्वा त्वया एव विवाहं करिष्यामि-मुस्लिम युवकः जुनैद: ! धर्म परिवर्तन कराकर तुमसे ही करेंगे निकाह-मुस्लिम युवक जुनैद !

उत्तरप्रदेशस्य अलीगढ-मण्डले, मुस्लिम्-युवकाः परीक्षार्थं उपस्थितां हिन्दु-बालिकाम् अनुधावन्, तां मार्गे चालयितुं प्रयतन्ते स्म। न केवलं, अभियुक्तः अपि पीडितस्य गृहं...

पाणिग्रहणस्य कुचक्रम् दत्वा भोपालतः केरलम् नयवान्, इस्लाम स्वीकरणस्य भारम् कर्तुम् अरभत् ! शादी का झाँसा दे भोपाल से केरल ले गया, इस्लाम कबूलने का...

मध्यप्रदेशस्य राजधानी भोपाल्-नगरस्य एका हिन्दु-बालिका विवाहस्य प्रलोभनेन राजा खान् इत्यनेन केरल-राज्यं नीतवती। कथितरूपेण, इस्लाम्-मतं स्वीकृत्य कल्मा-ग्रन्थं पठितुं दबावः...

कमल् भूत्वा, कामिल् एकः हिन्दु-बालिकाम् वशीकृतवान्, ततः एकवर्षं यावत् तां ब्ल्याक्मेल् कृत्वा यौनशोषणम् अकरोत्! कमल बनकर कामिल ने हिंदू लड़की को फँसाया, फिर ब्लैकमेल...

उत्तरप्रदेशस्य मुज़फ़्फ़र्नगर्-नगरस्य कामिल् नामकः मुस्लिम्-बालकः स्वस्य नाम मतं च प्रच्छन्नं कृत्वा इन्स्टाग्राम्-इत्यत्र हिन्दु-बालिकया सह मैत्रीम् अकरोत्। ततः सः...