28.1 C
New Delhi
Thursday, August 5, 2021

कथित धरालजालस्यारोपे न्यासस्य शुचिता, चंपत राय: कथितः राजनीतिणा प्रेरितस्सन्ति आरोपम् ! कथित जमीन घोटाले के आरोप पर ट्रस्ट की सफाई, चंपत राय ने कहा राजनीति से प्रेरित हैं आरोप !

Must read

श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्रस्य सचिवः चंपतराय: रविवासरम् कथितः तत राममंदिराय भूमि क्रये आलजालस्य यतारोपमारोपितानि, ते राजनीतिणा: प्रेरित: पथभ्रष्टकर्ता: सन्ति !

श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र के सचिव चंपत राय ने रविवार को कहा कि राम मंदिर के लिए जमीन खरीदने में घोटाले के जो आरोप लगाए गए हैं, वे राजनीति से प्रेरित और गुमराह करने वाले हैं !

रायस्य कथनमस्ति तत मंदिराय यतापि भूमि क्रीतं, तस्य मूल्यापणात् न्यूनमस्ति ! न्यासं प्रत्येन प्रस्तुत कथने कथितं ! कैतवस्यारोपम् पथभ्रष्टकर्तानि राजनीतिणा च् प्रेरितानि सन्ति !

राय का कहना है कि मंदिर के लिए जो भी जमीन खरीदी गई है, उसकी कीमत खुले बाजार से कम है ! ट्रस्ट की ओर से जारी बयान में कहा गया है धोखाधड़ी के आरोप गुमराह करने वाले और राजनीति से प्रेरित हैं !

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्रम् यतापि भूमि क्रीतं तस्य मूल्यापणात् बहु न्यूनमस्ति !

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने जो भी जमीन खरीदी उसकी कीमत खुले बाजार से काफी कम है !

राय: कथितः श्रीरामजन्मभूम्याम् ९ नवंबर २०१९ तमस्य सर्वोच्चन्यायालयस्य निर्णयम् आगमनस्यानंतरम् भूमि क्रीतुम् संपूर्ण देशात्त वृहद संख्यायाम् जनाः अयोध्या प्राप्यिष्यन्ति !

राय ने कहा श्री राम जन्मभूमि पर नौ नवंबर 2019 के सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद जमीन खरीदने के लिए देश भर से बड़ी संख्या में लोग अयोध्या पहुंचने लगे !

येन धरां प्रत्ये समाचारपत्रे चर्चाम् कारयति, तत धूमयानस्थानकं निकषास्ति बहु महत्वं ध्रीति च् ! राय: कथितः तत धरायाः क्रयं परस्परमेव सहमत्या: वार्तालापस्य चाधारे कारयति !

जिस प्लॉट के बारे में समाचार पत्र में चर्चा की जा रही है, वह रेलवे स्टेशन के समीप है और बहुत महत्व रखता है ! राय ने कहा कि जमीन की खरीद-फरोख्त आपसी सहमति एवं बातचीत के आधार पर की जा रही है !

सः कथितः भूमि विक्रेतायाः सहमति न्यस्य अनंतरम् सहमति पत्रे हस्ताक्षरं भवन्ति ! भूमि क्रये प्रयुक्तानि न्यायालयस्य शुल्क एवं मुद्रांक शुल्क अंतर्जाल माध्यमेन क्रयन्ते !

उन्होंने कहा जमीन विक्रेता की सहमति लेने के बाद सहमति पत्र पर हस्ताक्षर होते हैं ! जमीन खरीदने में लगने वाले कोर्ट के शुल्क एवं स्टांप ड्यूटी ऑनलाइन खरीदे जा रहे हैं !

धरायाः समस्तमूल्य विक्रेतायाः संचये अंतर्जाल माध्यमेन प्रेषिते ! सचिवः कथितः राजनैतिक दलानां केचन जनाः जनान् पथभ्रष्टम् कुर्वन्ति !

जमीन की कुल कीमत विक्रेता के खाते में ऑनलाइन भेजी जाती है। सचिव ने कहा राजनीतिक पार्टियों के कुछ लोग लोगों को गुमराह कर रहे हैं !

ते समाजम् पथभ्रष्टम् कर्तुम् इच्छन्ति ! अस्य प्रकरणमोत्थायकाः राजनीतिक जनाः सन्ति ! येन कारणं तेषां इच्छामपि सम्यकम् नास्ति !

वे समाज को गुमराह करना चाह रहे हैं। इस मामले को उठाने वाले राजनीतिक लोग हैं इसलिए उनकी मंशा भी ठीक नहीं है !

आमादमी दलस्य राज्यसभा सांसदः संजय सिंह: राममंदिराय क्रीतं धरायामालजालस्य आरोपमारोपित: !

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने राम मंदिर के लिए खरीदी जा रही जमीन में घोटाले का आरोप लगाया है !

आप नेता स्व एके ट्वीते कथितः रवि मोहन तिवारी: सुल्तान अंसारी: सायं ७.१५ वादने भूमि कोटि रूप्यके क्रीतौ यद्यपि रामजन्मभूमि न्यासस्य चंपत राय: याभ्यां इदम् भूमि १८.५ कोटि रूप्यके क्रीत: !

आप नेता ने अपने एक ट्वीट में कहा रवि मोहन तिवारी और सुल्तान अंसारी ने शाम 7.15 पर जमीन दो करोड़ रुपए में खरीदा जबकि राम जन्मभूमि ट्रस्ट के चंपत राय ने इनसे यह जमीन 18.5 करोड़ रुपए में खरीदी !

समाजवादी दलस्य नेता तेजनारायण पांडे: इति प्रकरणस्य सीबीआई अन्वेषणस्य याचनां कृतरस्ति !

समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता तेज नारायण पांडे ने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग की है।

सः कथितः न्यासम् एकस्य धरायाः खण्ड: क्रीतं इदम् खण्ड: न्यासम् विक्रयेण १० पलम् पूर्व द्वय कोटि रूप्यके क्रीतं ! न्यासम् इदम् भूमि १८.५ कोटि रूप्यके क्रीतं !

उन्होंने कहा ट्रस्ट ने एक जमीन का प्लॉट खरीदा है, यह प्लॉट ट्रस्ट को बेचे जाने से 10 मिनट पहले दो करोड़ रुपए में खरीदा गया ! ट्रस्ट ने यह जमीन 18.5 करोड़ रुपए में खरीदी !

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article