प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी: बुधवासरम् लोकसभयाम् राष्ट्रपत्या: अभिभाषणे धन्यवाद प्रस्तावे अभवत् चर्चायाः उत्तरं दाशक्नोति ! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुए चर्चा का जवाब दे सकते हैं !

0
325

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी: बुधवासरम् लोकसभयाम् राष्ट्रपत्या: अभिभाषणे धन्यवाद प्रस्तावे अभवत् चर्चायाः उत्तरं दाशक्नोति ! पीएम सोमवासरं राज्यसभायाम् उत्तरं दत्त: ! कांग्रेस नेता राहुल गांधी: अपि अद्य संसदे स्व विचारम् धृतशक्नोति !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुए चर्चा का जवाब दे सकते हैं ! पीएम ने सोमवार को राज्यसभा में जवाब दिया ! कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी आज संसद में अपनी बात रख सकते हैं !

अवगम्यते तत राहुल गांधी: कृषकांदोलने सरकारे प्रश्नम् उत्थायस्य प्रयत्नम् करिष्यति ! अस्य मध्य लोकसभायाम् प्रश्नकालम् बुधवासरैव स्थगतिस्य केंद्रीय मंत्री संसदीय कार्यमंत्री च् प्रह्लाद जोश्याः अनुरोधम् स्वीकृतम् !

समझा जाता है कि राहुल गांधी किसान आंदोलन पर सरकार को कठघरे में खड़ा करने की कोशिश करेंगे ! इस बीच लोकसभा में प्रश्नकाल बुधवार तक स्थगित रखने के केंद्रीय मंत्री एवं संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी के अनुरोध को स्वीकार कर लिया गया है !

वार्तासंस्था एएनआई सूत्रै: कथित: राष्ट्रपत्या: अभिभाषणे चर्चायाः उत्तरं प्रधानमंत्री मोदी: १० फरवरी इतम् दाष्यति ! लोकसभायाम् सोमवासरं धन्यवाद प्रस्तावे चर्चाम् अर्धरात्रि एव चरितम् ! अस्य चर्चायाम् विपक्षस्य बहु सदस्या: अंशितम् !

समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से कहा राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब प्रधानमंत्री मोदी 10 फरवरी को देंगे ! लोकसभा में सोमवार को धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा आधी रात तक चली ! इस चर्चा में विपक्ष के कई सदस्यों ने हिस्सा लिया !

ज्ञापयन्तु तत कृषकांदोलनम् गृहित्वा विपक्षम् द्वयो सदनयो आक्रामकमस्ति ! बजट सत्रस्य आरम्भेनैव तानि कृषकाणाम् प्रकरणेषु चर्चाम् कारयस्य याचनां करोति स्म ! अस्य कालम् द्वयो सदनयो कार्यवाहिम् बधितापि अभवत् ! विपक्षम् कृषकाणाम् आंदोलने भिन्नात् चर्चायाः याच्यति !

बता दें कि किसान आंदोलन को लेकर विपक्ष दोनों सदनों में आक्रामक है ! बजट सत्र की शुरुआत से ही वह किसानों के मुद्दे पर चर्चा कराए जाने की मांग कर रहा था ! इस दौरान दोनों सदनों की कार्यवाही बाधित भी हुई ! विपक्ष किसानों के आंदोलन पर अलग से चर्चा की मांग कर रहा है !

त्रय नव कृषि विधेयकानां याचनां गृहित्वा कृषकदलानि इन्द्रप्रस्थस्य सिम्य: टिकरी,सिंघु गाजीपुर च् सीमाषु प्रदर्शने तिष्ठानि ! कृषक दलानि त्रयाणि कृषि विधेयकानि पुनर्नियम् एमएसपी इत्ये च् विधिसुरक्षा दत्तस्य याचनानि कुर्वन्ति !

तीन नए कृषि कानूनों की मांग को लेकर किसान संगठन दिल्ली की सीमाओं टिकरी, सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर पर धरने पर बैठे हैं ! किसान संगठन तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने और एमएसपी पर कानूनी गारंटी देने की मांग कर रहे हैं !

सोमवासरं राज्यसभायाम् पीएम कृषकान् एकदा पुनः विश्वासम् दत्त: तत नव विधेयकै: तस्याये वृद्धिम् भविष्यति ! सहैव सः विश्वासम् दत्तमानः कथितः तत एमएसपी इत्यासीत्, अस्ति अग्रमपि रमिष्यति च् ! पीएम कृषका: स्वांदोलनम् सम्पादितस्य प्रार्थनाम् कृतः !

सोमवार को राज्यसभा में पीएम ने किसानों को एक बार फिर भरोसा दिया कि नए कानूनों से उनकी आय में वृद्धि होगी ! साथ ही उन्होंने भरोसा देते हुए कहा कि एमएसपी थी,है और आगे भी रहेगी ! पीएम ने किसानों ने अपना आंदोलन खत्म करने की अपील की !

सायं पंच बादनम् लोकसभायामावश्यकम् कर्गदानि सभापटले धृतस्यानंतरम् सदनस्य उपनेता राजनाथ सिंह: कथनं दत्त: ! यस्मात् पूर्वम् विपक्षी दलानां सदस्यानां कलहानां कारणं लोकसभायाः कार्यवाहिम् सोमवासरं आरम्भस्य लगभगम् १० पलानंतरम् सायं पंच बादनैवाय स्थगितम् अक्रियते स्म !

शाम पांच बजे लोकसभा में आवश्यक कागजात सभापटल पर रखे जाने के बाद सदन के उपनेता राजनाथ सिंह ने बयान दिया ! इससे पहले विपक्षी दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण लोकसभा की कार्यवाही सोमवार को आरंभ होने के करीब 10 मिनट बाद शाम पांच बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई थी !

राजनाथः कथितः,स्वस्थ लोकतन्त्रे जीवंत परंपराम् निर्मितुम् धृतम् कश्चित एकस्य दलस्य जिम्मेवारिम् नास्ति,अपितु सर्वानां जिम्मेवारिम् अस्ति ! सर्वाणि अस्य स्वस्थ लोकतांत्रिक परंपराम् निर्मितमपि धृतुम् इच्छन्ति !

राजनाथ ने कहा,स्वस्थ लोकतंत्र में जीवंत परंपरा को बनाए रखना किसी एक पार्टी की जिम्मेदारी नहीं है,बल्कि सबकी जिम्मेदारी है ! सभी इस स्वस्थ लोकतांत्रिक परंपरा को बनाये भी रखना चाहते हैं !

सः कथितः तत राष्ट्रपति,उपराष्ट्रपति यथा पदेन, कश्चित जनाः न भवन्ति,इमानि संस्थानि भवन्ति ! एतानि संस्थानां गरिमाम् निर्मितुम् धृतम् वयं सर्वानां जिम्मेवारिमस्ति !

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति,उपराष्ट्रपति जैसे पद,कोई व्यक्ति नहीं होते हैं,ये संस्था होते हैं ! इन संस्थाओं की गरिमा को बनाये रखना हम सभी की जिम्मेदारी है !

राजनाथ सिंह: लोकसभायाम् सर्वानां दलानां नेतृभिः आग्रहम् कृतः तत ते स्वस्थ लोकतांत्रिक परंपरानां अनुरूपम् राष्ट्रपत्या: अभिभाषणे आनयतम् धन्यवाद प्रस्तावे चर्चामारंभम् कुर्वन्तु राष्ट्रपति महोदयम् च् कृतज्ञताम् ज्ञापितम् कुर्वन्तु !

राजनाथ सिंह ने लोकसभा में सभी दलों के नेताओं से आग्रह किया कि वे स्वस्थ लोकतांत्रिक परंपराओं के अनुरूप राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा आरंभ करें और राष्ट्रपति जी को कृतज्ञता ज्ञापित करें !

सः कथितः अहम् सर्वानां दलानां सदस्यै: हस्तौ युज्यित्वा विनम्रतापूर्वकमाग्रहम् करोमि तत अस्य परंपराम् त्रोटतुम् न ददान्तु ! राष्ट्रपत्या: अभिभाषणे धन्यवाद प्रस्तावे चर्चाम् भवनीय: ! रक्षामंत्रिण: प्रार्थनायाः अनंतरम् निम्न सदने गतिरोधम् त्रोटयम् धन्यवाद प्रस्तावे च् चर्चामारम्भयत् !

उन्होंने कहा मैं सभी दलों के सदस्यों से हाथ जोड़कर विनम्रतापूर्वक आग्रह करता हूँ कि इस परंपरा को टूटने न दें ! राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा होनी चाहिए ! रक्षा मंत्री की अपील के बाद निचले सदन में गतिरोध टूटा और धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा शुरू हुई !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here